4 सालों से धोनी के साथ है ये दिक्कत, इसलिए 'खतरे' में करियर!

आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 के दौरान ही धोनी के संन्यास की मांग उठने लगी थी, हम आपको बताते हैं कि आखिर ऐसा क्यों हो रहा है और इसकी वजह क्या है?

News18Hindi
Updated: July 18, 2019, 11:35 AM IST
4 सालों से धोनी के साथ है ये दिक्कत, इसलिए 'खतरे' में करियर!
इस वजह से है धोनी के करियर पर 'खतरा', 4 सालों से सता रही है ये 'दिक्कत'
News18Hindi
Updated: July 18, 2019, 11:35 AM IST
एम एस धोनी...हिंदुस्तान का एक ऐसा खिलाड़ी जिसने अपने 15 साल के क्रिकेट करियर में कई इतिहास रचे. एक ऐसा कप्तान जिसने 22 गज की पिच और 70 गज के घेरे में हिंदुस्तान को एक नहीं दो बार वर्ल्ड चैंपियन बनाया. एक ऐसा बल्लेबाज जिसने वनडे क्रिकेट में 10 हजार से ज्यादा रन बनाए. एक ऐसा बल्लेबाज जिसने मिडिल ऑर्डर में आकर टीम इंडिया को कई हारी बाजी जिताई. हालांकि, अब माही के अंदर वो मैजिक नहीं रहा. अब धोनी का करियर ढलान पर है और इसीलिए उनके संन्यास की मांग लगातार तेज हो रही है. लेकिन, अब भी कई लोगों का मानना है कि धोनी में अब भी जान बाकी है. वो कम से कम अगले टी20 वर्ल्ड कप टीम इंडिया का हिस्सा रह सकते हैं. मगर आंकड़े इसकी तस्दीक नहीं करते.



धोनी का बेहद खराब टी20 रिकॉर्ड
सबसे पहले बात करते हैं धोनी के टी20 रिकॉर्ड की जो कि बेहद ही खराब है. वैसे तो धोनी ने टी20 में 37.6 के औसत से 1617 रन बनाए हैं, लेकिन यहां गौर करने वाले बात ये है कि वो 42 बार नॉट आउट रहे हैं. अगर हम उनकी पारियों के हिसाब से उनका बल्लेबाज औसत निकालें तो वो घटकर महज 19.02 रह जाता है. टी20 में धोनी ने सिर्फ 2 अर्धशतक लगाए हैं और उनका स्ट्राइक रेट भी 126.13 है जो उनके आईपीएल स्ट्राइक रेट से 14 अंक कम है. यही नहीं टी20 क्रिकेट में धोनी ह पारी में महज 1.98 बाउंड्री लगाते हैं जो कि आईपीएल में लगभग 3 है. साल 2017 से डेथ ओवर्स में धोनी का स्ट्राइक रेट भी महज 125 है.

ग्राफिक्स साभार-क्रिकेट नेक्स्ट


बेहद खराब वनडे रिकॉर्ड
धोनी का ताजा वनडे रिकॉर्ड उनके खिलाफ जा रहा है. साल 2015 के वर्ल्ड कप से उनका प्रदर्शन लगातार गिर रहा है. 2016 और 2018 तो उनके करियर के सबसे खराब सालों में से एक हैं. साल 2016 में उन्होंने महज 27.8 की औसत से 278 रन बनाए और 2018 में उनका औसत गिरकर 25 हो गया. साल 2017 में उनका औसत बढ़कर 60.61 हुआ. इस साल भी उनका औसत 60 से ज्यादा का है. लेकिन धोनी का औसत नहीं उनका स्ट्राइक रेट टीम इंडिया की चिंता की सबसे बड़ी वजह है.
Loading...

ग्राफिक्स साभार-क्रिकेट नेक्स्ट


पिछले चार सालों में धोनी का स्ट्राइक रेट काफी कम हो गया है. साल 2018 में उनका स्ट्राइक रेट सिर्फ 71.42 रहा. साल 2019 में धोनी ने चेज करते हुए 8 पारियों में 404 रन जरूर बनाए लेकिन उनका स्ट्राइक रेट महज 76.66 रहा. साल 2019 वर्ल्ड कप में वो चेज करते हुए टीम इंडिया को दो मैच जिताने में नाकाम रहे. पहला मैच था इंग्लैंड के खिलाफ और दूसरा था न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड कप सेमीफाइनल. साफ है धोनी के अंदर रन बनाने की भूख जरूर है लेकिन अब वो पहले जैसे तेज नहीं रह गए हैं. यही वजह है कि अब लोग उनके संन्यास की मांग करने लगे हैं.

यह भी पढ़ें- रवि शास्त्री की कोचिंग में बड़े मौके पर फ्लॉप रही टीम इंडिया 

टीम इंडिया के मुख्य कोच में BCCI ढूंढ रहा ये तीन खूबियां

धोनी अभी नहीं लेंगे संन्यास, पहले पूरा करेंगे यह अधूरा काम!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 18, 2019, 7:20 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...