अगर कोरोना नहीं होता तो धोनी टी20 वर्ल्ड कप जरूर खेलते, वह सबसे फिट थे: पूर्व भारतीय चयनकर्ता

महेंद्र सिंह धोनी ने पिछले साल इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहा था (MS Dhoni/Instagram)

महेंद्र सिंह धोनी ने आईसीसी वनडे वर्ल्ड कप 2019 में न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में खेला था. यह उनका अंतिम इंटरनेशनल क्रिकेट मैच था. इसके बाद से धोनी ने कोई प्रतियोगी क्रिकेट मैच नहीं खेला था. इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायरमेंट के बाद धोनी आईपीएल में खेलते हुए नजर आए थे.

  • Share this:
    नई दिल्ली. पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) पिछले साल भारत के लिए आईसीसी टी20 विश्व कप (ICC T20 World Cup) खेलने को लेकर सुर्खियों में रहे थे. जो कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus) के कारण स्थगित हो गया था. धोनी ने पिछले साल 15 अगस्त की शाम को सोशल मीडिया के जरिये इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायरमेंट का ऐलान किया था, लेकिन इससे पहले उम्मीद जताई जा रही थी कि वह ऑस्ट्रेलिया में पिछले साल होने वाले आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप में खेल सकते थे. टी 20 विश्व कप को पिछले साल महामारी के कारण स्थगित कर दिया गया था, जिसके बाद धोनी ने सोशल मीडिया पर अपने रिटायरमेंट का ऐलान कर पूरी दुनिया को चौंका दिया था.

    इससे पहले धोनी ने अंतिम इंटरनेशनल मैच आईसीसी वनडे वर्ल्ड कप 2019 का सेमीफाइनल खेला था. यह मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ था और भारत को इसमें हार का सामना करना पड़ा था. इस हार के बाद भारत का वर्ल्ड कप जीतने का सपना भी टूट गया था. कोविड-19 से पहले लगभग आठ महीने तक धोनी ने कोई प्रतिस्पर्धात्मक क्रिकेट नहीं खेला था. इसके बाद कोरोना वायरस महामारी आई और दुनियाभर के सभी बड़े खेल के इवेंट्स पर ब्रेक लग गया. हालांकि, ज्यादा क्रिकेट नहीं खेलने के बावजूद पूर्व भारतीय चयनकर्ता सरनदीप सिंह (Sarandeep Singh) ने खुलासा किया कि महान विकेटकीपर-बल्लेबाज  2020 में निश्चित रूप से टी20 वर्ल्ड कप खेलते, अगर कोविड-19 नहीं होता तो.

    धोनी के फार्म हाउस में बिखरी स्ट्रॉबेरी की लाली, बाजारों में हर दिन पहुंच रही 80 से 120 किलो- PICS

    सरनदीप सिंह ने कहा कि धोनी भारतीय ड्रेसिंग रूम में सबसे फिट खिलाड़ियों में से एक थे और उनका इंजरी रिकॉर्ड भी शानदार रहा है. अपने करियर के दौरान धोनी बहुत कम चोटिल हुए हैं. उन्होंने खुलासा किया कि टी20 विश्व कप में खेलने के लिए धोनी चर्चा में थे, जो उनका अपने देश के लिए अंतिम बड़ा टूर्नामेंट हो सकता था.

    सरनदीप सिंह ने स्पोर्ट्सकीड़ा को दिए एक इंटरव्यू में कहा, ''निश्चित रूप से, वह खेलते अगर कोविड-19 ने खलल नहीं डाला होता तो. हम भी यही सोच रहे थे कि उन्हें निश्चित रूप से टी20 वर्ल्ड कप खेलना चाहिए था. वह फिट थे. कोई कारण नहीं था कि वह नहीं खेलते. हम हमेशा पहले खिलाड़ियों की फिटनेस देखते हैं कि वे कब तक खेल सकते हैं और मारी सबसे ज्यादा फिट थे. उन्होंने प्रैक्टिस से कभी ब्रेक नहीं लिया. यहां तक कि वैकल्पिक अभ्यास सत्र में भी माही वहां होते थे. और आपने भी देखा होगा कि उन्होंने कभी चोट की वजह से कोई मैच छोड़ा हो. यही कारण हैं कि उन्हें हर किसी से सम्मान मिला है.''

    IND VS ENG: मोटेरा में हमारे स्पिनर ही हावी, तेज गेंदबाजों से दोगुने विकेट लिए हैं

    सरनदीप ने आगे बताया कि चयन समिति के सभी सदस्यों का मानना ​​था कि धोनी टी 20 विश्व कप खेलने के लायक थे, जो एक खिलाड़ी और एक कप्तान के रूप में उन्होंने टीम इंडिया के लिए जो हासिल किया. उन्होंने कहा, ''हमने हमेशा महसूस किया कि एक खिलाड़ी जिसने भारत के लिए इतना खेला और इतनी ट्रॉफी जीती. एक भी ऐसी ट्रॉफी नहीं है, जो उन्होंने ना जीती हो. वह इस मौके के हकदार थे. यह मेरी निजी राय है और सेलेक्शन कमेटी में सभी कि यह राय थी कि धोनी को टी20 वर्ल्ड कप खेलना चाहिए.''

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.