रायडू के चयन पर खुलकर सामने आए मतभेद, बीसीसीआई के अधिकारी ने दिया अब ये बयान

अंबाती रायडू को वर्ल्ड कप टीम में न चुनने पर फैंस सहित कई पूर्व खिलाड़ियों ने सवाल उठाए थे. इसे लेकर मतभेद अब खुलकर सामने आ गए हैं. बीसीसीआई के एक अधिकारी ने कहा है कि चयनकर्ता ने बयान देने से पहले सारे पहलुओं पर ध्यान नहीं दिया.


Updated: July 22, 2019, 2:56 PM IST
रायडू के चयन पर खुलकर सामने आए मतभेद, बीसीसीआई के अधिकारी ने दिया अब ये बयान
मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने अंबाती रायडू को वर्ल्ड कप टीम में न चुने जाने को लेकर अपना पक्ष रखा.

Updated: July 22, 2019, 2:56 PM IST
भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने रविवार को आगामी वेस्ट इंडीज दौरे के लिए टीम को घोषणा की तो प्रेस कॉन्फ्रेंस में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले चुके अंबाती रायडू को लेकर सवाल भी उठे. वर्ल्ड कप चयन के दौरान रायडू को अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद नज़रअंदाज़ कर दिया गया था और उन्हें टीम में जगह नहीं दी गई थी. अंत में जब मिडिल ऑर्डर में हुई प्रॉब्लम के कारण टीम वर्ल्ड कप से बाहर हो गई तो रायडू को न चुनने पर फैंस सहित कई पूर्व खिलाड़ियों ने भी फैसले पर सवाल उठाए. इसे लेकर मतभेद अब खुलकर सामने आ गए हैं. बीसीसीआई के एक अधिकारी ने कहा है कि एमएसके प्रसाद ने बयान देने से पहले सारे पहलुओं पर ध्यान नहीं दिया.

वर्ल्ड कप में अंबाती रायडू की जगह विजय शंकर को टीम में मौका दिया गया था, जिन्हें प्रसाद ने 'थ्री-डायमेंशनल क्रिकेटर' भी कहा था. रायडू ने प्रसाद के इस बयान के बाद ट्वीट करते हुए तंज कसा था कि उन्होंने वर्ल्ड कप देखने के लिए थ्री-डी चश्मे मंगाए हैं. वर्ल्ड कप के दौरान जहां ऋषभ पंत को चोटिल शिखर धवन की जगह मौक़ा मिला, वहीं विजय शंकर की जगह मयंक अग्रवाल को इंग्लैंड भेज दिया गया. रायडू ने इसके तुरंत बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया. वेस्टइंडीज दौरे के लिए टीम का ऐलान करने के बाद प्रसाद ने कहा कि उन्हें रायडू का वह ट्वीट काफी पसंद आया और वह रायडू को टीम में शामिल न करने के अपने फैसले का बचाव करते नज़र आए.

फैसला एकतरफा नही था : प्रसाद
प्रेस कॉन्फ्रेंस में अंबाती रायडू के चयन पर पूछे गए सवाल पर प्रसाद ने कहा कि हमने रायडू के टीम में चयन के लिए कई प्रोग्राम तैयार किए थे. सेलेक्शन कमेटी किसी खिलाड़ी के खिलाफ नहीं है. जब रायडू को वनडे में उनके टी-20 के प्रदर्शन के कारण जगह दी गई तो इसकी आलोचना हुई थी. मगर हमारे पास उनके लिए कुछ विचार थे. जब वे फिटनेस टेस्ट में फेल हुए तब हमने उन्हें फिटनेस प्रोग्राम में डाला, लेकिन कुछ संयोग बदलने के कारण उन्हें टीम में जगह नहीं दी गई. इससे सेलेक्शन कमेटी पक्षपाती नही हो जाती है.

cricket, bcci, indian cricket team, msk prasad, ambati rayudu, क्रिकेट, भारतीय क्रिकेट टीम, एमएसके प्रसाद, अंबाती रायडू, बीसीसीआई
बीसीसीआई अधिकारी ने फिटनेस के पैमाने को लेकर मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद पर सवाल खड़े किए हैं. (फाइल फोटो)


बीसीसीआई की तरफ से उठे ये सवाल
मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद के बयान से बीसीसीआई में सभी लोग सहमत नही हैं. बोर्ड के एक सीनियर अधिकारी ने राष्ट्रीय टीम के चयन के दौरान होने वाले फिटनेस टेस्ट के मापदंडों पर सवाल उठाया है. उन्होंने कहा कि किसने फिटनेस मापदंडों पर फैसला लिया और क्या यह बात आधिकारिक तौर पर सभी को बताई गई है? और अगर आधिकारिक तौर पर बोर्ड द्वारा इस पर चर्चा नहीं हुई है और इसे बोर्ड की मंज़ूरी नहीं है तो कोई इसमें फेल कैसे हो सकता है? लगता है कि चयनकर्ता ने बयान देने से पहले इन सारे पहलुओं पर ध्यान नहीं दिया. बीसीसीआई अधिकारी के इस बयान से साफ़-साफ़ पता चलता है कि चयनकर्ताओं और टीम मैनेजमेंट ने रायडू का मामला जिस तरह संभाला है, उससे बोर्ड खुश नहीं है.
Loading...

ये भी पढ़ें- टीम इंडिया के इस क्रिकेटर की गर्लफ्रेंड ने पिता को बचाने के दे दिया लिवर!

धोनी कब संन्यास लेंगे? चीफ सलेक्टर एमएसके प्रसाद ने दिया ये जवाब
First published: July 22, 2019, 2:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...