Diwali पर मुंबई के क्रिकेटर्स के लिए खुला खुशियों का खजाना, मिली 90 लाख रुपये की बकाया राशि

मुंबई के खिलाड़ियों को दो घरेलू सीजन की बकाया राशि दी गई (फोटो क्रेडिट: आदित्‍स तारे ट्विटर हैंडल )
मुंबई के खिलाड़ियों को दो घरेलू सीजन की बकाया राशि दी गई (फोटो क्रेडिट: आदित्‍स तारे ट्विटर हैंडल )

कोरोना के कारण मार्च में लगे लॉकडाउन के बाद से ही देश में कोई क्रिकेट गतिविधियां नहीं हुई है. जिस वजह से कई खिलाड़ी आर्थिक तंगी से जूझे रहे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 14, 2020, 11:18 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना काल में  दिवाली (Diwali ) के इस त्‍योहार पर मुंबई के क्रिकेटर्स के लिए खुशियों का खजाना खेला गया. मुंबई के क्रिकेटर्स को इस महामारी के दौरान शुक्रवार को आर्थिक राहत मिली. दरअसल मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन ने 2016- 2017 और 2017- 2018 सीजन का बकाया स्‍पॉनसरशिप की राशि जारी कर दी है. यह बकाया 45 लाख रुपये प्रति सीजन यानी कुल 90 लाख रुपये का था और इस राशि को दो घरेलू सीजन में मुंबई का प्रतिनिधित्‍व करने वाले 137 खिलाड़ियों में बांटा गया है.

पहली बार मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन ने फायदा पाने वालों में महिला टीम और अंडर 23 टीम के सदस्‍यों को भी शामिल किया है. मिड डे की खबर के अनुसार 2016-2017 में मुंबई का प्रतिनिधित्‍व करने वाले 70 और 2017 2018 में 67 खिलाड़ियों को फायदा हुआ है. इस सूची में रणजी ट्रॉफी, विजय हजारे ट्रॉफी, सैयद मुश्‍ताक अली, मुंबई अंडर 23 टीम, सीनियर महिला टीम में खेलने वाले मुंबई के सीनियर खिलाड़ियों को शामिल किया गया.

लॉकडाउन के बाद से ही देश में सूने हैं क्रिकेट मैदान 



कोरोना के कारण मार्च में लगे लॉकडाउन के बाद से ही देश में कोई भी क्रिकेट गतिविधियां नहीं हुई है. जिस वजह से पूरी तरह से क्रिकेट पर ही निर्भर कई खिलाड़ी आर्थिक तंगी से जूझे रहे थे. ऐसे में दिवाली पर मिले इस बकाया राशि ने खिलाड़ियों और उनके परिवारों के लिए दिवाली को खुशियों से भर दिया है. एक खिलाड़ी ने कहा कि इसके लिए वह मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन के बहुत आभारी हैं और इस फंड को पाकर खुश हैं.
यह भी पढ़ें: 

IPL 2021 के लिए एमएस धोनी छोड़ेंगे CSK की कमान, सामने आया नए कप्‍तान का नाम!

फिट हुए कपिल देव ने दी फैंस को दिवाली की बधाई, बताया- कैसा है उनका दिल?



2016- 2017 में 23 खिलाड़ियों ने मुंबई की सीनियर टीम का प्रतिनिधित्‍व किया था. उस समय आदित्‍य तारे की अगुआई वाली टीम उपविजेता रही थी. रणजी ट्रॉफी के फाइनल में मुंबई को इंदौर में गुजरात के हाथों 5 विकेट से हार का सामना करना पड़ा था. इसके अगले सीजन में 21 खिलाड़ियों ने मुंबई का प्रतिनिधित्‍व किया था. टीम को नागपुर में खेले गए क्‍वार्टर फाइनल में कर्नाटक के हाथों पारी और 20 रन से हार का सामना करना पड़ा था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज