लाइव टीवी

BCCI ने रिकॉर्ड से गायब किया राहुल-अग्रवाल के साथी का शतक, कहा- मुझे लूट लिया

News18Hindi
Updated: October 15, 2019, 7:02 PM IST
BCCI ने रिकॉर्ड से गायब किया राहुल-अग्रवाल के साथी का शतक, कहा- मुझे लूट लिया
रोंगसेन जोनाथन.

इस क्रिकेटर ने जिस मैच में शतक लगाया था उसी को दोबारा से कराया जा रहा है जबकि टीम के कुल 3 मैच धुले थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 15, 2019, 7:02 PM IST
  • Share this:
नगालैंड क्रिकेट टीम (Nagaland Cricket Team) के कप्‍तान रोंगसेन जोनाथन (Rongsen Jonathan) बीसीसीआई से नाराज हैं. उन्‍होंने इस साल विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) में टीम के पहले ही मैच में शतक लगाया था लेकिन बाद में उनके स्‍कोर को खारिज कर दिया गया. इससे वे बीसीसीआई से नाराज हैं. उनका कहना है कि वे काफी खफा, दुखी और गुस्‍सा हैं. बता दें कि देहरादून में 24 सितंबर को नगालैंड और मणिपुर के बीच मुकाबले में रोंगसेन ने शतक लगाया था. उन्‍होंने नाबाद 103 रन की पारी खेली थी. लेकिन नमी से भरी पिच पर बल्‍लेबाजी करना काफी मुश्किल था. देहरादून के राजीव गांधी इंटरनेशनल स्‍टेडियम में पहले बल्‍लेबाजी करते हुए नगालैंड के 4 विकेट पर 46 रन पर गिर गए थे.

जोनाथन का पहला शतक था 
ऐसे हालात में रोंगसेन जोनाथन (Rongsen Jonathan)  ने मोर्चा संभाला. उन्‍होंने अनियमित उछाल वाली पिच पर गेंदों का प्रहार झेलते हुए भी रन बनाए और अपना पहला लिस्‍ट ए शतक पूरा किया. बाद में जब मणिपुर की टीम बल्‍लेबाजी को उतरी तो बारिश के चलते 8.4 ओवर के बाद मैच को रद्द कर दिया गया. अधिकारियों का कहना था कि पिच खेलने लायक नहीं थी. इस मैच को दोबारा से शेड्यूल किया गया. ऐसे में जो भी रन बने थे उन सबको खारिज कर दिया.

जिस मैच में शतक था वही रिशेड्यूल  

इस बारे में जोनाथन ने ईएसपीएनक्रिकइंफो से कहा, 'लगभग 60 प्रतिशत मैच पूरा हो चुका था. मैं मैच को दोबारा से कराए जाने के फैसले को समझता हूं. लेकिन मैच का नतीजा न निकलने की स्थिति में खिलाड़ियों से उनके रिकॉर्ड क्‍यों छीने जाए. खिलाड़ी सालभर मेहनत करते हैं. ऐसे में पहले ही मैच में वह रन बनाए और रिकॉर्ड में उसे दर्ज ही न किया जाए तो उसे दुख ही होगा.' दिलचस्‍प बात है कि नगालैंड के 3 मैच बारिश से धुले हैं लेकिन केवल मणिपुर वाले मुकाबले को ही दोबारा शेड्यूल किया गया है.

बीसीसीआई से जवाब का इंतजार
रोंगसेन जोनाथन  (Rongsen Jonathan) का कहना है कि उन्‍होंने बीसीसीआई से इस बारे में पूछा है लेकिन अभी तक कोई जवाब नहीं आया है. उनका कहना है कि उत्‍तर पूर्व में वैसे भी क्रिकेट के अनकूल हालात नहीं है और ऐसे में अगर कोई खिलाड़ी शतक बनाता है तो उससे बच्‍चे प्रेरित होते हैं. लेकिन जब रिकॉर्ड को छीन लिया जाए तो फिर क्‍या होगा.
Loading...

वहीं इस बारे में बीसीसीआई के जनरल मैनेजर (क्रिकेट ऑपरेशंस) सबा करीम का कहना है कि टीमों को पर्याप्‍त मैच मिले इसलिए दोबारा से मैच कराए जा रहे हैं. अगर मैच के आंकड़ों में सुधार कराया गया तो फिर पूरे मैच को जोड़ना पड़ेगा.

पांडे, राहुल और अग्रवाल के साथ खेलते थे
जोनाथन के क्रिकेटर बनने की यात्रा काफी दिलचस्‍प रही हैं. वे उत्‍तर पूर्व के राज्‍य नगालैंड से हैं लेकिन यहां पर क्रिकेट को लेकर कुछ माहौल नहीं है. लेकिन उनके पिता पीएचडी करने के लिए कर्नाटक गए थे. यहीं से उन्‍हें क्रिकेट का चस्‍का लगा. कर्नाटक अंडर 16 के लिए उन्‍होंने कमाल का प्रदर्शन किया. 2010 में उन्‍होंने लिस्‍ट ए में डेब्‍यू किया और मनीष पांडे, केएल राहुल और मयंक अग्रवाल जैसे क्रिकेटर्स के साथ खेले. लेकिन इसके बाद उनके लिए कुछ चीजें खराब रही जिसकी वजह से अगले सीजन में उन्‍हें कर्नाटक टीम में नहीं चुना गया. ऐसे में रेलवे टीम में शामिल हो गए लेकिन यहां भी उन्‍हें कामयाबी नहीं मिली.

नगालैंड को जब बीसीसीआई से मान्‍यता मिली तो वे अपने गृह राज्‍य की टीम में शामिल हो गए. रोंगसेन जोनाथन  (Rongsen Jonathan) अब 33 साल के हो चुके हैं और वे चाहते हैं कि नगालैंड की युवा पीढ़ी ज्‍यादा से ज्‍यादा इस खेल से जुड़े. नगालैंड की टीम इस सीजन में 7 में से 2 मैच जीत चुकी है.

टी20 मैच में गेंदबाजों की जमकर धुनाई, बन गए 448 रन, लगे 27 छक्के!

अर्जुन तेंदुलकर ने बदल दी गरीब क्रिकेटर की किस्मत, ठोक रहा है शतक पर शतक!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 15, 2019, 6:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...