मुंबई के कोच को मिलेगा 50 लाख रुपये सालाना, जाफर-मजूमदार जैसे दिग्गज दौड़ में

मुंबई के नए कोच को भारी-भरकम सैलरी मिलने जा रही है (सांकेतिक फोटो)

रमेश पोवार के भारतीय महिला क्रिकेट टीम के कोच बनने के बाद एमसीए ने कोच पद के लिए आवेदन मंगाए थे. वसीम जाफर और अमोल मजूमदार जैसे पूर्व भारतीय क्रिकेटरों ने नौकरी के लिए आवेदन किया है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन (MCA) टीम के नए कोच को 50 लाख रुपये का सालाना अनुबंध सौंप सकता है. ऐसे समय में जहां कोविड-19 ने पूरी अर्थव्यवस्था को प्रभावित किया है, मुंबई के कोच के लिए यह अब तक की सबसे अच्छी तनख्वाह वाली नौकरी हो सकती है. आमतौर पर एमसीए सीनियर टीम के कोच को प्रति वर्ष 15-20 लाख रुपये का भुगतान करता है. कोच पद के लिए इंटरव्यू गुरुवार को होगा.

    टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के अनुसार, एमसीए अध्यक्ष विजय पाटिल, सचिव संजय नाइक और क्रिकेट सुधार समिति नए कोच को हाई-प्रोफाइल नौकरी के दबाव को देखते हुए अच्छा वेतन देना चाहते हैं. सभी को उम्मीद है कि मुंबई अच्छा प्रदर्शन करेगी. यही वजह है कि इस बार इतने बड़े नामों ने इस पद के लिए आवेदन किया है. नए कोच को 50 लाख रुपये का अनुबंध मिलने की संभावना है. रमेश पोवार के भारतीय महिला क्रिकेट टीम के कोच बनने के बाद एमसीए ने कोच पद के लिए आवेदन मंगाए थे. वसीम जाफर और अमोल मजूमदार जैसे पूर्व भारतीय क्रिकेटरों ने नौकरी के लिए आवेदन किया है.

    विनोद कांबली, नीलेश कुलकर्णी और जतिन परांजपे की क्रिकेट सुधार समिति (सीआईसी) आवेदकों का साक्षात्कार करेगी. वसीम जाफर और अमोल मजूमदार के अलावा, पूर्व भारतीय ऑलराउंडर और अनुभवी कोच बलविंदर सिंह संधू, पूर्व भारतीय स्पिनर साईराज बहुतुले, मुंबई के पूर्व कोच सुलक्षण कुलकर्णी मुंबई का अगला कोच बनने के लिए आवेदन किया है.

    पाकिस्तान क्रिकेट चलाने वालों पर भड़के रमीज राजा, बोले- दबाव बनते ही फिक्सर टीम में आ जाते

    एमसीए ने पिछले हफ्ते मुंबई की सीनियर टीम के कोच पद के लिए आवेदन मांगे थे और आवेदकों के लिए पात्रता नियम भी तय किए हैं जिसके अनुसार आवेदक ने 50 प्रथम श्रेणी मैच खेले हो. सोमवार को आवेदन करने की अंतिम तिथि थी. मुंबई के पूर्व कप्तान मजूमदार की अगुआई में टीम ने रणजी खिताब जीता था और वह राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए), आईपीएल टीम राजस्थान रॉयल्स और दक्षिण अफ्रीकी टीम के बल्लेबाजी कोच रहे हैं. वह प्रतिष्ठित कमेंटेटर भी हैं.

    भारत की ओर से दो टेस्ट और आठ वनडे मैच खेलने वाले बहुतुले घरेलू क्रिकेट के दिग्गज खिलाड़ी रहे हैं. उन्होंने 188 प्रथम श्रेणी मैच खेले जिसमें 630 विकेट चटकाए. वह विदर्भ, केरल, बंगाल के अलावा पिछले दो सत्र से गुजरात के कोच हैं. वह आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स के स्पिन गेंदबाजी कोच हैं. कुलकर्णी उस समय मुंबई के कोच थे जब टीम ने 2012-13 सत्र में रणजी खिताब जीता. वह विदर्भ और छत्तीसगढ़ को भी कोचिंग दे चुके हैं.

    पाकिस्तान क्रिकेट चलाने वालों पर भड़के रमीज राजा, बोले- दबाव बनते ही फिक्सर टीम में आ जाते

    मुंबई ने पिछले सत्र में सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के लिए अमित पगनिस को कोच नियुक्त किया था लेकिन टीम के खराब प्रदर्शन के बाद उन्होंने पद छोड़ दिया. एमसीए ने इसके बाद विजय हजारे ट्रॉफी के लिए पूर्व भारतीय ऑफ स्पिनर रमेश पवार को मुख्य कोच बनाया जिसमें टीम चैंपियन बनी.