1 घंटे भी नहीं चली गवर्निंग काउंसिल की बैठक, 6 हफ्ते के लिए टला IPL पर फैसला!

खोदा पहाड़ और निकली चुहिया, ऐसा ही कुछ हुआ जस्टिस लोढ़ा कमेटी के फैसले के बाद आईपीएल गवर्निंग काउंसिलने एक आपात बैठक में।

  • Share this:
नई दिल्ली। खोदा पहाड़ और निकली चुहिया, ऐसा ही कुछ हुआ जस्टिस लोढ़ा कमेटी के फैसले के बाद आईपीएल गवर्निंग काउंसिलने एक आपात बैठक में। आईपीएल गवर्निंग काउंसिल की आपात बैठक से ये उम्मीद की जा रही थी कि बीसीसीआई एक ठोस कदम उठाकर पूरी दुनिया को ये संदेश देगी कि वो इस मुद्दे को लेकर कितने गंभीर है। लेकिन, अपने चिर परिचित अंदाज़़ में बीसीसीआई ने एक बार फिर से एक और कमेटी का गठन कर 6 हफ्ते के लिए मुद्दे को टालने का ही प्रयास किया है।

बीसीसीआई के हेडक्वाटर मुंबई में रविवार दोपहर को आईपीएल गवर्निंग काउंसिल के एक से एक दिग्गज जैसे जुटते गए ऐसा लगा कि जस्टिस लोढ़ा कमेटि के फैसले को अमल करने में बीसीसीआई तेज़ी दिखाएगी और एक निर्णायक फैसला लेगी। आम-तौर पर जिस बीसीसीआई की मामूली से मामूली मीटिंग को ख़त्म होने में कम से कम 2 घंटे लग जाते हैं, वहां इतने गंभीर मसले पर बुलाई गई आपात बैठक को ख़त्म होने में 1 घंटे का वक्त भी नहीं लगा।

बीसीसआई ने अपनी प्रेस रिलीज के जरिए ये कहा वो लोढ़ा कमेटी की सभी बातों का ना सिर्फ सम्मान करती है बल्कि उसे मानेगी भी। ऐसे में अहम सवाल ये है कि क्या बीसीसीआई चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स का करार खत्म नहीं करेगी? क्या इन दोनों फ्रैंचाइजी को सिर्फ 2 साल के बैन ही किया जाएगा।



इसमें बीसीसीआई का विश्वास जिस तरह हिट हुआ है उसके लिए कोई ठोस निर्णय लिया जाना चाहिए था, लेकिन इस मीटिंग में ऐसा कुछ नजर नहीं आता, पिछले दस सालों से इन लोगों में कोई दम खम नजर नहीं आ रहा है।
राजस्थान रॉयल्स और सुपर किंग्स को आईपीएल गवर्निंग काउंसिल के फैसले से फिलहाल थोड़ी राहत मिली हो लेकिन बीसीसीआई शायद इस बात के लिए भी वक्त ले रही हो कि ये दोनों फ्रैंचाइजी आने वाले दिनों में सुप्रीम कोर्ट में फिर से अपील करने के बारे में तो सोच नहीं रही है।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज