बायो-बबल में रहना आसान नहीं, मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है: वकार यूनिस

वकार यूनिस ने कहा, ''यह स्थिति सिर्फ पाकिस्तान क्रिकेट के साथ नहीं है, बल्कि यह चिंता पूरी क्रिकेट दुनिया की है.''
वकार यूनिस ने कहा, ''यह स्थिति सिर्फ पाकिस्तान क्रिकेट के साथ नहीं है, बल्कि यह चिंता पूरी क्रिकेट दुनिया की है.''

वकार यूनिस (Waqar Younis) ने कहा कि उन्हें इस बात की चिंता है कि अगर पाकिस्तान ने कोविड​​-19 की मौजूदा स्थिति में अधिक समय तक खेलना जारी रखा तो कई खिलाड़ियों को मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों का सामना करना पड़ सकता है.

  • Share this:
कराची. पाकिस्तान क्रिकेट टीम के (Pakistan Cricket Team) गेंदबाजी कोच और पूर्व कप्तान वकार यूनिस (Waqar Younis) कोविड-19 महामारी के बीच जैव सुरक्षित माहौल (Bio Bubble) में अंतरराष्ट्रीय या घरेलू स्तर पर क्रिकेट खेलने वाले खिलाड़ियों के मानसिक स्वास्थ्य (Mental Health) के बारे में चिंतित हैं.

वकार ने कहा कि उन्हें इस बात की चिंता है कि अगर पाकिस्तान ने कोविड​​-19 की मौजूदा स्थिति में अधिक समय तक खेलना जारी रखा तो कई खिलाड़ियों को मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों का सामना करना पड़ सकता है.

IPL 2020: सूर्यकुमार यादव ने हवा में लपका ऐसा कैच, खुला रह गया ट्रेंट बोल्ट का मुंह- VIDEO



उन्होंने आगाह करते हुए कहा, ''खिलाड़ियों या अधिकारियों के लिए जैव-सुरक्षित माहौल में इतना समय व्यतीत करना आसान नहीं है और यह उनके मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है.''
बीमारी से बचने के लिए प्रतिस्पर्धा के दौरान खिलाड़ी बाहरी दुनिया से अलग बायो-बबल में रहते है. उन्होंने कहा कि क्रिकेट बोर्ड का गंभीरता से खिलाड़ियों के मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे को देखना चाहिये.

उन्होंने कहा, ''यह स्थिति सिर्फ पाकिस्तान क्रिकेट के साथ नहीं है, बल्कि यह चिंता पूरी क्रिकेट दुनिया की है.'' उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों के लिए लंबे समय तक पृथकवास और जैव सुरक्षित माहौल में समय बिताना मुश्किल है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज