ओली रोबिनसन को निलंबित करने का मामला ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन तक पहुंचा

ओली ने न्यूजीलैंड के खिलाफ लॉर्ड्स टेस्ट में डेब्यू किया और कुल 7 विकेट झटके, उन्हें एक दशक पुराने ट्वीट के लिए निलंबित कर दिया गया. यह मामला अब ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन तक पहुंच गया है.

ओली ने न्यूजीलैंड के खिलाफ लॉर्ड्स टेस्ट में डेब्यू किया और कुल 7 विकेट झटके, उन्हें एक दशक पुराने ट्वीट के लिए निलंबित कर दिया गया. यह मामला अब ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन तक पहुंच गया है.

पेसर ओली रोबिनसन (Ollie Robinson) ने न्यूजीलैंड के खिलाफ लॉर्ड्स टेस्ट में डेब्यू किया और कुल 7 विकेट झटके. उन्हें बाद में ईसीबी ने एक दशक पुराने ट्वीट के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से निलंबित कर दिया. यह मामला अब ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन तक पहुंच गया है.

  • Share this:

नई दिल्ली. इंग्लैंड के पेसर ओली रोबिनसन (Ollie Robinson) के विवादास्पद ट्वीट का मामला ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन तक पहुंच गया है. जॉनसन ने सोमवार को अपने खेल मंत्री की टिप्पणियों का समर्थन किया कि ओली को निलंबित करने से इंग्लैंड क्रिकेट ने बेहद कड़ा रुख अपनाया है. ब्रिटेन के खेल और संस्कृति मंत्री ओलिवर डाउडेन (Oliver Dowden) ने सोमवार को इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) से इस 27 वर्षीय के निलंबन पर 'फिर से सोचने' का आग्रह किया.

ओली रोबिनसन ने न्यूजीलैंड के खिलाफ अपने पहले टेस्ट मैच में गेंद और बल्ले से प्रभावित किया, जो मुकाबला रविवार को ड्रॉ समाप्त हुआ. इसी बीच ईसीबी ने साल 2012 और 2013 में पोस्ट किए गए ट्वीट के बाद जांच के नतीजे आने तक रोबिनसन को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से निलंबित कर दिया.

प्रधानमंत्री जॉनसन (Boris Johnson) के एक प्रवक्ता ने सोमवार को कहा, 'ओलिवर डाउडेन ने जैसे कि कहा है कि ये कमेंट एक दशक पहले किए गए थे, जो एक किशोर ने किए थे जिसके लिए उन्होंने माफी भी मांग ली है.' इससे पहले डाउडेन ने कहा, 'ओली के ट्वीट आपत्तिजनक और गलत थे, वे एक दशक पुराने हैं और एक किशोर द्वारा लिखे गए हैं. वह किशोर अब एक आदमी है और उसने माफी भी मांग ली है. ईसीबी ने उसे निलंबित कर दिया है और उसे फिर से सोचना चाहिए.'

इसे भी पढ़ें, नस्लीय टिप्पणी केस- ओली के समर्थन में ब्रिटिश खेल मंत्री, ईसीबी पर ही लगाया आरोप
इंग्लैंड के पूर्व कप्तान डेविड गॉवर को भी लगता है कि ओली को दी गई सजा काफी कठोर है. गोवर ने बीबीसी से कहा, "ईसीबी को कहना चाहिए कि 'आइए इससे सीखें' और ओली को सामुदायिक सेवा के समकक्ष कुछ करने के लिए कहें. उन्हें काउंटी क्रिकेटरों के बीच जाना चाहिए और यह प्रचार करना चाहिए कि सोशल मीडिया का दुरुपयोग नहीं किया जाना चाहिए.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज