पहली पारी में 15 रनों पर ऑल आउट होने के बावजूद 155 रनों से जीती टीम, जानिए कैसे हुआ 'चमत्कार'

On This Day: क्रिकेट इतिहास का सबसे हैरतअंगेज मुकाबला! (PC-AFP)

Cricket Greatest Comeback: क्रिकेट में कई मुकाबले ऐसे हुए हैं जब हार के मुंह में जा रही टीम ने ना सिर्फ वापसी की है बल्कि उसे जीत भी हासिल हुई. आज ही के दिन ऐसे ही एक मुकाबले का नतीजा निकला था जिसे अगर क्रिकेट इतिहास के सबसे हैरतअंगेज मुकाबलों में से एक कहा जाए तो गलत नहीं होगा.

  • Share this:
    नई दिल्ली. क्रिकेट के मैदान में अकसर चमत्कार होते रहते हैं. 22 गज की पट्टी पर कई ऐसे मुकाबले खेले गए हैं जब किसी टीम की हार निश्चित लग रही हो लेकिन इसके बावजूद वो जबर्दस्त वापसी (Cricket Greatest Comeback) कर मैच को अपने नाम कर ले. लेकिन क्या आपने कभी ये सुना है कि कोई टीम पहली पारी में महज 15 रन पर सिमट जाए और इसके बावजूद वो 155 रनों से जीत हासिल कर ले. शायद आपका जवाब ना में ही होगा. जी हां, आज से ठीक 99 साल पहले एक ऐसे मैच का अंत हुआ था जिसमें एक टीम की वापसी किसी चमत्कार से कम नहीं है.

    16 जून, 1922 को एजबेस्टन के मैदान पर हैंपशायर और वॉरविकशायर के बीच बेहद ही हैरतअंगेज मुकाबले का अंत हुआ था. गजब की बात ये है कि हैंपशायर की पहली पारी सिर्फ 15 रन पर सिमट गई थी लेकिन फिर भी उसने वॉरविकशायर को हरा दिया. इस मैच में 10वें नंबर के बल्लेबाज ने सैकड़ा लगाया और अपनी टीम को मैच जिताकर साबित किया कि क्रिकेट में कुछ भी नामुमकिन नहीं.

    जब हैंपशायर हुआ शर्मसार
    बर्मिंघम के एजबेस्टन स्टेडियम में खेले गए इस मुकाबले में वॉरविकशायर ने पहली पारी में 223 रन बनाए. फ्रैड्रिक सैंटॉल ने 83 और कप्तान फ्रेडी कालथोर्पे ने 70 रनों की पारी खेली. वॉरविकशायर की पारी खत्म होने के बाद हैंपशायर के साथ कुछ ऐसा हुआ जिसके बारे में किसी ने नहीं सोचा होगा. हैंपशायर की टीम शर्मनाक अंदाज में सिर्फ 15 रनों पर ढेर हो गई. हैंपशायर के खिलाड़ी महज 8.5 ओवर तक क्रीज पर टिक पाए. 8 बल्लेबाज खाता नहीं खोल सके और चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे फिल मीड 6 रन पर नाबाद रह गए. वॉरविकशायर के सिर्फ 2 गेंदबाजों ने हैंपशायर की टीम को समेट दिया. हैरी हॉवेल ने 7 रन देकर 6 विकेट लिये, वहीं फ्रेडी कालथोर्पे ने 4 विकेट अपने नाम किये.

    हैंपशायर ने किया 'चमत्कार'
    महज 15 रन पर ढेर होने के बाद हैंपशायर को वॉरविकशायर से फॉलोऑन मिला और उसकी पारी एक बार फिर गहरे संकट में आ गई. दूसरी पारी में भी हैंपशायर की टीम मुसीबत में फंस गई. उसके 6 विकेट सिर्फ 177 रनों पर गिर गए. ऐसा लगा कि वॉरविकशायर ये मुकाबला बड़े आराम से जीत जाएगी, हालांकि ऐसा हुआ नहीं. जॉर्ज ब्राउन की बेहतरीन बल्लेबाजी की बदौलत हैंपशायर की टीम किसी तरह 272 रनों तक पहुंची और उसके बाद विकेटकीपर वॉल्टर लिवसी ने क्रीज पर कदम रखा. वॉल्टर ने ब्राउन के साथ मिलकर 9वें विकेट के लिए 177 रन जोड़ डाले. 10वें नंबर पर उतरे वॉल्टर लिवसी ने शानदार शतक लगाया वहीं जॉर्ज ब्राउन ने 172 रनों की बेहतरीन पारी खेली. इन दोनों की पारी की बदौलत हैंपशायर ने दूसरी पारी में 521 रन बना डाले और वॉरविकशायर को 314 रनों का बड़ा लक्ष्य दिया.

    हैंपशायर की कमाल गेंदबाजी
    बल्लेबाजों के चमत्कार के बाद अब बारी हैंपशायर के गेंदबाजों की थी. जिन्होंने वॉरविकशायर के बल्लेबाजों को दूसरी पारी में चैन की सांस नहीं लेने दी. एलेक्स कैनेडी और जैक न्यूमैन ने वॉरविकशायर के टॉप ऑर्डर को ध्वस्त कर दिया. वॉरविकशायर ने 6 विकेट महज 89 रनों पर गंवा दिये. एक समय जिस वॉरविकशायर टीम की जीत पक्की लग रही थी वो दूसरी पारी में 158 रनों पर ढेर हो गई और ये मुकाबला 155 रनों से हार गई.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.