On This Day: जब इमरान खान की करिश्माई कप्तानी ने पाकिस्तान को दिलाया था वर्ल्ड कप का खिताब

पाकिस्तान ने इकलौता वर्ल्ड कप खिताब 1992 में जीता था. (फोटो साभार-ICC INSTA)

पाकिस्तान ने इकलौता वर्ल्ड कप खिताब 1992 में जीता था. (फोटो साभार-ICC INSTA)

On This Day in 1992: पाकिस्तान (Pakistan) ने इमरान खान (Imran Khan) की कप्तानी में साल 1992 में पहली और इकलौती बार वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम किया था

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 9:37 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. 1992 में हुआ आईसीसी वर्ल्ड कप कई मायनों में अनोखा था. पहली बार इस अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में सफेद गेंद का प्रयोग किया और कलरफुल जर्सी पहने खिलाड़ी मैदान में उतरे. इसके अलावा रंगभेद नीति के चलते लगी पाबंदी हटने के बाद पहली बार दक्षिण अफ्रीका की टीम विश्व का हिस्सा ले सकी और इसी टूर्नामेंट में फील्डिंग रिस्ट्रिक्शन का उपयोग किया गया. ऑस्ट्रेलिया (Australia) और न्यूजीलैंड (New Zealand) में पहली बार राउंड रॉबिन फॉर्मेट में खेले गए इस मुकाबले में पाकिस्तान (Pakistan) वर्ल्ड चैंपियन बनी थी.

पाकिस्तान की खराब शुरुआत

पाकिस्तान (Pakistan) साल 1992 के वर्ल्ड कप में लीग राउंड में शुरुआती पांच मैचों में से तीन मैच हारा था और टूर्नामेंट से बाहर होने के करीब था. इसके बाद पाक ने आखिरी तीनों मैचों ऑस्ट्रेलिया, श्रीलंका और न्यूजीलैंड पर जीत हासिल कर नॉकआउट में जगह बनाई. पाकिस्तान ने लीग मैचों में जिम्बाबे को 53 रन, ऑस्ट्रेलिया को 48 रन, श्रीलंका को चार विकेट और न्यूजीलैंड से सात विकेट से हराया था. जबकि पाक टीम को वेस्टइंडीज ने 10 विकेट, भारत ने 43 रन और दक्षिण अफ्रीका ने 20 रन से हराया था. एक अन्य मैच में इंग्लैंड ने पाक को सिर्फ 74 रन पर समेट दिया था लेकिन बारिश के कारण यह मैच नहीं हो सका. पाकिस्तान को एक अंक भी मिल गया जो बेहद अहम साबित हुआ क्योंकि इसी अंक से चलते ऑस्ट्रेलिया की जगह पाक सेमीफाइनल में पहुंच सका.
सेमीफाइनल में 22 वर्षीय इंजमाम का आया तूफान

सेमीफाइनल में उन्होंने न्यूजीलैंड (New Zealand) को मात दी जिसने लीग राउंड में आठ में से सात मैचों में जीत हासिल की थी. इंजमाम ने कीवी टीम के खिलाफ महज 37 गेंदों में 60 रन बनाकर अपनी टीम को जीत दिला दी थी. ऑकलैंड में खेले गए इस सेमीफाइनल मैच में न्यूजीलैंड ने पाकिस्तान को 263 रनों का बड़ा लक्ष्य दिया था. लक्ष्य का पीछा करने उतरी पाक टीम ने 140 रनों पर इमरान खान, आमिर सोहेल, रमीज राजा और सलीम मलिक के बड़े विकेट गंवा दिए थे.

ऐसे में युवा बल्लेबाज इंजमाम ने क्रीज पर कदम रखा और आते ही उन्होंने गजब के शॉटों की बारिश कर दी. इंजमाम ने 7 चौके और एक छक्का लगाते हुए महज 37 गेंदों में 60 रन बनाकर पूरा मैच पलट दिया. उन्होंने जावेद मियांदाद के साथ 10 ओवर में 87 रन जोड़े. हालांकि जब पाकिस्तान को 8 गेंद में 9 रन की दरकार थी तो इंजमाम रन आउट हो गए. मगर आखिर में मोइन खान ने क्रिस हैरिस की गेंद पर एक छक्का और एक चौका लगाकर पाकिस्तान को वर्ल्ड कप फाइनल में पहुंचा दिया.

फाइनल में छा गए वसीम अकरम



टूर्नामेंट के फाइनल में पाकिस्तान का सामना इंग्लैंड से था. पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए इमरान खान (Imran Khan) की 72 रनों की पारी की मदद से छह विकेट खोकर 249 रन बनाए. इसके जवाब में इंग्लैंड की टीम 227 पर ऑलआउट हो गई. इस मैच में दुनिया के दिग्गज स्विंग बॉलर रहे वसीम अकरम ने अंतिम क्षणों में 18 गेंदों में चार चौकों की मदद से 33 रनों की पारी खेली. उनके अलावा जावेद मियांदाद ने 58 और सेमीफाइनल के हीरो इंजमाम ने 42 रन बनाए थे.

जवाब में इंग्लैंड की शुरुआत की खराब रही और उसके दो विकेट सिर्फ 21 रन पर गिर गए. वसीम अकरम ने सलामी बल्लेबाज इयॉन बाथम को शून्य पर चलता किया तो आकिब जावेद ने एलेक स्टीवर्ट को पवेलियन को रास्ता दिखाया. हालांकि इसके बाद नील फेयरब्रदर (62 रन) और एलेन लैम्ब (31 रन) ने पारी संभाली. लेकिन लैंब और क्रिस लेविस को लगातार गेंदों पर चलता कर अकरम ने पाकिस्तान की जीत पक्की कर दी. अकरम ने इस मैच में 49 रन देकर तीन विकेट लिए और मैन ऑफ द मैच चुना गया. उनके अलावा मुश्ताक अहमद ने तीन, आकिब जावेद ने दो जबकि इमरान खान ने एक विकेट लिया. यह इमरान खान का आखिरी वनडे भी था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज