बिस्कुट बनाने वाले का बेटा बना दुनिया का सबसे महान गेंदबाज, इंटरनेशनल क्रिकेट में झटके 1347 विकेट

बिस्कुट बनाने वाले का बेटा बना दुनिया का सबसे महान गेंदबाज, इंटरनेशनल क्रिकेट में झटके 1347 विकेट
मुरलीधरन ने आज ही कहा था क्रिकेट को अलविदा

श्रीलंका के पूर्व ऑफ स्पिनर मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) ने आज ही के दिन कहा था इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा, पूरे किये थे 800 टेस्ट विकेट

  • Share this:
नई दिल्ली. क्रिकेट में जब भी महानतम गेंदबाजों की होगी तो शायद एक नाम उसमें सबसे ऊपर आएगा, मुथैया मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan). श्रीलंका के महान ऑफ स्पिनर मुरलीधरन ने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1000 से ज्यादा विकेट झटके. इस ऑफ स्पिनर ने टेस्ट मैचों में रिकॉर्ड 800 विकेट लिये. वनडे में उन्होंने 534 विकेट चटकाए और टी20 में उनके नाम 13 विकेट रहे. मुथैया मुरलीधरन के लिए 22 जुलाई का दिन बेहद ही खास और इमोशनल करने वाला है. आज ही के दिन गॉल के मैदान पर मुरलीधरन ने संन्यास लिया था. भारत के खिलाफ खेले उस टेस्ट मैच में मुरलीधरन ने करिश्माई अंदाज में अपने 800 टेस्ट विकेट भी पूरे किये थे.

करिश्माई अंदाज में पूरे किये थे 800 विकेट
मुथैया मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) के 800 टेस्ट विकेट पूरे करने की स्टोरी भी गजब ही है. भारत के खिलाफ गॉल टेस्ट में उतरने से पहले मुरलीधरन के 792 विकेट थे. मुरलीधरन ने इस टेस्ट मैच में सबसे पहले सचिन तेंदुलकर को आउट किया. इसके बाद दो दिनों तक बारिश हुई और खेल नहीं हो पाया. हालांकि मैच के चौथे दिन भारत के 12 विकेट गिरे, जिसमें से 5 विकेट मुरलीधरन के नाम रहे. मैच के आखिरी दिन भारत के वीवीएस लक्ष्मण टेलेंडर्स के साथ बल्लेबाजी कर रहे थे. इसके बाद वीवीएस लक्ष्मण 69 पर रन आउट हो गए. मुरलीधरन को 800 विकेट के लिए एक सफलता की दरकार थी और उन्होंने प्रज्ञान ओझा को आउट कर इतिहास ही रच दिया.

रिकॉर्ड्स के बादशाह मुरलीधरन 
मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) ने अपने करियर में कई रिकॉर्ड बनाए और तोड़े. जिस तरह बल्लेबाजी के ज्यादातर रिकॉर्ड सचिन के नाम दर्ज हैं ऐसा ही गेंदबाजी में बहुत सारे कीर्तिमान मुथैया मुरलीधरन के नाम हैं. मुरलीधरन के नाम एक पारी में सबसे ज्यादा बार 7 विकेट लेने का वर्ल्ड रिकॉर्ड है. टेस्ट में सबसे ज्यादा 10 विकेट भी मुरलीधरन ने लिये हैं. सबसे ज्यादा वनडे और टेस्ट विकेट उन्हीं के नाम हैं. वो एक टेस्ट में लगातार चार बार 10 विकेट लेने वाले एकलौते खिलाड़ी हैं. इसके अलावा वो 11 बार टेस्ट क्रिकेट में मैन ऑफ द सीरीज बने हैं जो कि एक वर्ल्ड रिकॉर्ड है.



जॉनी बेयरस्टो ने ठोका तूफानी शतक, 86 रन सिर्फ '19 गेंदों' में बना डाले

मुरलीधरन के जीवन की खास बातें
वैसे मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) का करियर बेहद ही दिलचस्प अंदाज में शुरू हुआ था. मुरलीधरन पहले मीडियम पेसर थे लेकिन बाद में उन्होंने स्पिनर बनने का फैसला किया. मुरलीधरन के पिता गॉल में बिस्कुट बनाने की फैक्ट्री चलाते थे. मुरलीधरन का जन्म एक तमिल परिवार में हुआ था और उन्होंने चेन्नई की मदीमलार रामामूर्ति से शादी की थी. बहुत कम लोगों को पता है कि मुरलीधरन के पास भारत की नागरिकता भी है और उन्हें वीजा की जरूरत नहीं पड़ती. बता दें मुरलीधरन जब स्कूल में थे तो रग्बी भी खेलते थे लेकिन अंत में उन्होंने क्रिकेट को अपना करियर चुना और उसके बाद उन्होंने इतिहास ही रच दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading