आज का दिन: 17 साल के सचिन तेंदुलकर ने जब इंग्लैंड की उसी के घर में कर दी थी हालत खराब

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर (sachin tendulkar) ने 29 साल पहले आज ही दिन यानी 14 अगस्त को अपने इंटरनेशनल करियर का पहला शतक जड़ा था

News18Hindi
Updated: August 14, 2019, 11:04 AM IST
आज का दिन: 17 साल के सचिन तेंदुलकर ने जब इंग्लैंड की उसी के घर में कर दी थी हालत खराब
सचिन तेंदुलकर ने 17 साल की उम्र में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का पहला शतक लगाया था.
News18Hindi
Updated: August 14, 2019, 11:04 AM IST
भारत के दिग्गज क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ((sachin tendulkar) के नाम ऐसे कई  रिकॉर्ड हैं, जहां तक अब क्रिकेटर्स का पहुंचना मुश्किल ही लगता है. 200 टेस्ट और  463 वनडे खेलने का रिकॉर्ड, क्रिकेट में कुल 100 शतक लगाने के उनके रिकॉर्ड की बराबरी आज हर खिलाड़ी करना चाहता है, लेकिन उनकी तरह उसी जज्बे के साथ लंबे समय तक खेलना काफी मुश्किल होता है. उनके इसी जज्बे ने उन्हें दुनिया का सबसे बेहतरीन खिलाड़ी बनाया.  सचिन (sachin tendulkar) जब बल्लेबाजी  करने मैदान पर उतरते थे तो दुनिया के धाकड़ गेंदबाज भी खौफ खाते थे, क्योंकि उन्हें पता होता था कि अब उनकी धुनाई होने वाली है.

इंग्लिश टीम (England team) के गेंदबाज आज भी 17 साल के उस सचिन को नहीं भूल पाए होंगे, जिसने उनके घर में ही गेंदबाजों की जमकर धुनाई करते हुए अपने मेडन शतक जड़ दिया था. साथ ही वह उस समय टेस्ट क्रिकेट में शतक लगाने वाले तीसरे युवा बल्लेबाज बने ‌थे. आज से ठीक 29 साल पहले युवा सचिन ने ऐसी दमदार पारी खेलकर भारत को इंग्लैंड के हाथों हारने से बचा लिया था.

 

शतक से ड्रॉ करवाया था मैच 



पहला टेस्‍ट मैच हारने के बाद मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड खेले गए तीन टेस्ट मैचों की सीरीज के दूसरे मैच में भी भारत हार के करीब पहुंच गई थी. पहले बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड की पहली पारी में तीन शतक लगे, जिसके दम पर मेजबान ने पहली पारी में ही 510 रन बना दिए. इसके जवाब में टीम इंडिया 432 रन ही बना सकी. इंग्लैंड ने अपनी दूसरी पारी चार विकेट पर 320 रन पर घोषित करके भारत को जीत के लिए 399 रनों का लक्ष्य दे दिया. टीम के सामने पूरे दिन बल्लेबाजी कर हार को टालना था, लेकिन शुरुआती 35 रन पर ही भारत ने अपने चार  विकेट गंवा दिए. इसके बाद संजय मांजरेकर (Sanjay Manjrekar) और दिलीप वेंगसरकर (Dilip Vengsarkar) ने पारी को संभालने की कोशिश की, लेकिन जल्दी आउट हो गए.

बिखरती हुई पारी के बाद नंबर छह पर 17 साल के सचिन (sachin tendulkar) को भेजा गया और फिर यहां से शुरू हुआ एक महान बल्लेबाज बनने का सफर. सचिन (sachin tendulkar) ने अनुभवी गेंदबाजों की जमकर धुनाई और 17 चौके लगाकर नाबाद 119 रन की पारी खेली. जिससे भारत मैच ड्रॉ करवाने में सफल रहा. नवंबर 1989 में टेस्ट क्रिकेट से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखने वाले सचिन का यह करियर का पहला शतक था. इसके बाद तो उन्होंने 100 शतक लगाने का रिकॉर्ड बना दिया.
Loading...

तीसरे वनडे में ये हो सकती है टीम इंडिया की प्लेइंग इलेवन

IndvsWI: तीसरे वनडे मैच पर भी बारिश का खतरा?
First published: August 14, 2019, 11:01 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...