आज है धोनी और गांगुली के लिए कभी ना भूल पाने वाला दिन, जानिए वजह

आज है धोनी और गांगुली के लिए कभी ना भूल पाने वाला दिन, जानिए वजह
गांगुली और धोनी के लिए आज का दिन बेहद खास

टीम इंडिया के दो महान कप्तानों धोनी (MS Dhoni) और गांगुली (Sourav Ganguly) के लिए आज का दिन बेहद खास है

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2020, 7:04 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. 23 मार्च... ये वो तारीख है, जिसे टीम इंडिया के क्रिकेट फैंस चाहकर भी नहीं भुला पाएंगे. ये दिन भारत के दो सबसे बड़े कप्तानों सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) और एमएस धोनी (MS Dhoni) के लिए भी कभी भूल ना पाने वाला है. इस तारीख को भारतीय फैंस की आंखों से आंसू निकले थे और यही वो तारीख है जब टीम इंडिया के फैंस ने ऐसा जश्न मनाया था जिसे पूरी दुनिया ने देखा था. आइए आपको बताते हैं कि आखिर भारतीय क्रिकेट के लिए आज का दिन खास क्यों है?

आज वर्ल्ड कप जीतने से चूका था भारत
आज से ठीक 17 साल पहले, 23 मार्च 2003 को भारत ने दूसरी बार वर्ल्ड कप जीतने का मौका गंवा दिया था. जोहान्सबर्ग का मैदान था और वर्ल्ड कप के फाइनल (India vs Autralia, World Cup Final 2003) में टीम इंडिया की टक्कर ऑस्ट्रेलिया से थी. ये मुकाबला एकतरफा रहा और ऑस्ट्रेलिया ने लगातार दूसरी बार वर्ल्ड कप अपने नाम किया.





ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 2 विकेट पर 359 रनों का विशाल स्कोर बनाया, जिसमें कप्तान रिकी पॉन्टिंग के बल्ले से शतक निकला था. पॉन्टिंग ने 121 गेंदों में नाबाद 140 रन ठोके थे, वहीं डेमियन मार्टिन ने नाबाद 88 रनों की पारी खेली थी. एडम गिलक्रिस्ट ने 57 और हेडन ने 37 रन बनाए थे. जवाब में टीम इंडिया महज 234 रनों पर सिमट गई थी और 125 रनों से खिताबी मुकाबला हार गई. सचिन तेंदुलकर को ग्लेन मैक्ग्रा ने पहले ही ओवर में आउट कर दिया था, बस वीरेंद्र सहवाग ने ही 82 रनों की पारी खेल भारत की उम्मीदों को कुछ देर तक जिंदा रखा था.



धोनी ने दिलाई थी रोमांचक जीत
23 मार्च की तारीख टीम इंडिया के फैंस के लिए इसलिए भी यादगार है क्योंकि इस दिन धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने बेहद ही रोमांचक अंदाज में बांग्लादेश को एक रन (India vs Bangladesh) से हराया था. वर्ल्ड टी20 2016 में भारत और बांग्लादेश की बेंगलुरु के चिन्नास्वामी मैदान पर टक्कर हुई. भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवरों में सिर्फ 146 रन बनाए. जवाब में बांग्लादेश की टीम बड़ी आसानी से जीत की ओर बढ़ रही थी लेकिन फिर आखिरी ओवर में धोनी की कप्तानी और उनकी सूझबूझ ने बांग्लादेश से मैच छीन लिया.


आखिरी ओवर का रोमांच
बांग्लादेश को आखिरी ओवर में महज 11 रनों की जरूरत थी और क्रीज पर उसके सबसे अनुभवी बल्लेबाजी मुश्फिकुर रहीम और महमदुल्ला थे. धोनी (MS Dhoni Run Out) ने 11 रन बचाने की जिम्मेदारी हार्दिक पंड्या को सौंपी. पहली गेंद पर महमदुल्ला एक ही रन बना पाए. इसके बाद दूसरी गेंद पर मुश्फिकुर रहीम ने कवर्स पर चौका लगाकर बांग्लादेश की जीत की उम्मीदों को बढ़ा दिया. तीसरी गेंद पर भी रहीम ने स्कूप शॉट खेल चौका लगा दिया और अब बांग्लादेश को 3 गेंदों पर महज 2 रनों की जरूरत थी. इसके बाद चौथी गेंद से मैच का पासा पलटा, क्योंकि पंड्या की गेंद पर मुश्फिकुर रहीम बड़ा शॉट खेलने की कोशिश में अपना विकेट गंवा बैठे. पांचवीं गेंद पर भी हार्दिक पंड्या को विकेट मिला और महमदुल्लाह ने जडेजा को अपना कैच थमा दिया.

अब बांग्लादेश को 1 गेंद पर दो रनों की जरूरत थी लेकिन वो धोनी से पार नहीं पा सका. आखिरी गेंद पर शौगत होम पंड्या की गेंद को छू नहीं सके और बॉल सीधे धोनी के पास गई. मुस्तिफिजुर रहमान ने एक रन चुराना चाहा लेकिन धोनी ने तेजी से भागकर स्टंप उड़ा दिया और टीम इंडिया एक रन से मैच जीत गई.

कनिका कपूर के कारण मुश्किल में साउथ अफ्रीकन टीम, Coronavirus का खतरा बढ़ा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading