विराट कोहली को कहा जाता था... ये उमर अकमल की तरह क्यों नहीं खेलता!

विराट कोहली को कहा जाता था... ये उमर अकमल की तरह क्यों नहीं खेलता!
उमर अकमल को माना जाता था विराट कोहली से बेहतरीन बल्लेबाज

उमर अकमल (Umar Akmal) पर पीसीबी ने 3 साल का बैन लगा दिया है लेकिन आपको यकीन नहीं होगा कि ये खिलाड़ी विराट कोहली से बेहतरीन बल्लेबाज माना जाता था

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 28, 2020, 1:38 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने दाएं हाथ के बल्लेबाज उमर अकमल (Umar Akmal) पर 3 साल का बैन लगा दिया. वजह ये थी कि उन्होंने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को सटोरियों से हुई बातचीत की जानकारी नहीं दी, नतीजा एक टैलेंटेड क्रिकेटर अब 3 सालों तक अपने बल्ले को हाथ नहीं लगा सकेगा, वो मैदान में एंट्री तक नहीं कर पाएंगे. वैसे आपको बता दें एक दौर ऐसा था जब उमर अकमल की तूती बोलने लगी थी. यही नहीं इस बल्लेबाज को विराट कोहली (Virat Kohli) से लाख गुना अच्छा बल्लेबाज माना जाता था. आइए आपको बताते हैं वो किस्सा जब ये कहा जाने लगा कि आखिर विराट कोहली, उमर अकमल की तरह क्यों नहीं खेलते.

उमर अकमल की तूफानी शुरुआत
बात साल 2009 की है. विराट कोहली भारत के लिए वन-डे क्रिकेट में अपने पैर जमाने की कोशिश कर रहे थे और टेस्ट क्रिकेट में उन्हें मौका देने के बारे में कोई सोच भी नहीं रहा था. वहीं पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में कोहली से भी करीब 2 साल छोटा लड़का टेस्ट क्रिकेट में तहलका मचा रहा था. उस लड़के का बड़ा भाई कामरान अकमल पाकिस्तानी क्रिकेट का बड़ा नाम था और इस लड़के ने अपने भाई से भी अच्छी शुरुआत की. उमर अकमल (Umar Akmal) ने न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ डुनेडिन में अपने पहले टेस्ट की पहली पारी में ही शतक ठोंक डाला. जबकि सामने शेन बॉन्ड और डेनियल विटोरी जैसे दिग्गज थे. जहां कोहली ने मुश्किल से 10 वन-डे भी नहीं खेले ते उमर अकमल को पाकिस्तान क्रिकेट में जावेद मियांदाद के उत्तराधिकारी के तौर पर देखा जाने लगा.

अकमल (Umar Akmal) ने पहली 10 टेस्ट पारियों में 129, 75, 46, 52, 0, 77, 51, 27, 49 और फिर 49 जैसी पारियां खेली और अपनी टेस्ट औसत 55.55 तक ले गये. उस समय तक टीम इंडिया से अंदर-बाहर होते हुए कोहली ने सिर्फ 15 वन-डे ही खेले थे और उस पाकिस्तानी खिलाड़ी की कामयाबी के बारे में सुनकर लोग बस यही सोचते रह जाते कि क्या शुरुआत मिली है इस खिलाड़ी को! उमर अकमल का जादू अपने सिर पर चढ़ कर बोलना स्वभाविक ही था क्योंकि टेस्ट के अलावा उन्होंने वनडे क्रिकेट में भी धाकड़ शुरुआत की और उन्होंने तीसरे मैच में ही सैकड़ा मार डाला. कोहली को तो पहले वन-डे शतक के लिए करीब दर्जन भर मैच और 1 साल से ज़्यादा वक्त का इंतज़ार करना पड़ा.



हालांकि कोहली इसके बावजूद खुद को एक बेहद मज़बूत भारतीय लाइन अप में स्थापित करने के लिए ज़बरदस्त मेहनत करने में जुटे रहे. वहीं अकमल को लगा कि एक कमज़ोर होते पाकिस्तानी बैटिंग लाइन अप में उनके हुनर को भला कौन चुनौती देगा. बस यही अंतर रहा कोहली और अकमल के नज़रिए में.



यहां बिगड़ा अकमल का करियर
शुरुआती 10 पारियों की कामयाबी के बाद अगली 20 पारियों में अकमल (Umar Akmal) के बल्ले से शतक तो दूर की बात, बड़ी मुश्किल से 2 अर्धशतक आये. वहीं कोहली अपनी पहली 12 टेस्ट पारियों में सिर्फ 2 अर्धशतक बनाकर संघर्ष के दौर से गुज़र रहे थे. लेकिन, उसके बाद उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के एडिलेड टेस्ट में दो ऐसी पारियां खेली, जिसके बाद उन्होंने साबित कर दिया कि वो वर्ल्ड क्रिकेट में छाने के लिए ही आए हैं.

विराट का जलवा, अकमल का करियर खत्म
साल 2011 में उमर अकमल (Umar Akmal) का करियर जैसे खत्म ही हो गया. वहीं कोहली वनडे के बाद टेस्ट और फिर टी20 में तहलका मचाते आगे बढ़ते गए और अपने आक्रामक रवैये को शांत करते हुए अलग छवि बनाने लगे. दूसरी ओर अकमल किसी तरह से वनडे और टी20 टीम में खुद को खींचते हुए आगे बढ़ते गये. इस दौरान लगातार वो अपने खराब रवैये के चलते ही सुर्खियों में बने रहे.
आज उमर अकमल को 3 साल के लिए बैन कर दिया गया है, वहीं जिस कोहली को उनकी तरह बनने की सीख दी जाती थी वो आज दुनिया के नंबर 1 बल्लेबाज माने जाते हैं.

अकमल (Umar Akmal) की कहानी हमें ये सीख देती है कि ज़िंदगी में हमेशा शानदार शुरुआत एक बेहतरीन करियर की गारंटी नहीं होती है और कोहली का करियर इसके विपरीत ये बतलाता है कि ज़रुरी नहीं है कि आपकी शुरुआत खराब होगी तो आप कामयाब नहीं हो सकते. अगर खुद पर भरोसा बनाए रखेंगे और सही रास्ते पर चलने का सब्र होगा तो आप अकमल नहीं कोहली ही बनेंगे.

शिखर धवन ने कप्‍तान से पूछा, मुंह पर पाउडर लगा रखा है क्‍या? मिला करारा जवाब
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading