लाइव टीवी

पेट भरने के लिए माल ढो रहा है ये पाकिस्तानी क्रिकेटर, पीसीबी के एक फैसले से बर्बाद हुआ करियर

News18Hindi
Updated: October 14, 2019, 4:23 PM IST
पेट भरने के लिए माल ढो रहा है ये पाकिस्तानी क्रिकेटर, पीसीबी के एक फैसले से बर्बाद हुआ करियर
पाकिस्‍तान क्रिकेट बोर्ड ने विभागीय क्रिकेट कल्चर को खत्म कर दिया है

फजल (Fazal Subhan) ने देश का प्रतिनिधित्व करने लिए कड़ी मेहनत की थी. विभागीय क्रिकेट के दौरान उन्हें लाख रुपये की सैलरी मिलती थी. लेकिन जब से विभाग क्रिकेट बंद हुआ है, तभी से उनकी कमाई गिरकर 30 से 35 हजार रुपये तक आ गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2019, 4:23 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पाकिस्तान में घरेलू क्रिकेट का पुनर्गठन किया जा रहा है. लेकिन इस कारण पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (Pakistan Cricket Board) ने अपने कई उभरते हुए योग्य खिलाड़ियों के करियर को बर्बाद कर दिया. बोर्ड को विभागीय क्रिकेट कल्चर को खत्म करने के बाद आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ा ‌था. इस वजह से कई क्रिकेटर्स का करियर लगभग खत्म हो गया. इसी का शिकार फजल सुभान (Fazal Subhan) बने, जिनका नेशनल टीम में आना लगभग तय हो गया था, लेकिन अब उन्हें परिवार चलाने के लिए पिक अप  (माल ढोने की गाड़ी) चलानी पड़ रही है. जिसके किराए से उनका घर चल रहा है. कराची की सड़कों पर फजल का पिक अप चलाते हुए एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ. जिसमें उन्होंने बताया कि कैसे पहले वह लाख रुपये के करीब कमाते थे और अब  30 से 35 हजार रुपये में गुजारा करना पड़ रहा है.

फजल उस समय सभी की नजरों में आए थे, जब उन्हाेंने एक मैच में शोएब मलिक (Shoaib Malik) की टीम के खिलाफ 207 रन की पारी खेली थी. टी20 में उनका स्ट्राइक रेट 131 से ऊपर का था और उनका नाम नेशनल टीम के लिए चल रहा था. बोर्ड से फोन तक आ चुका था. फजल ने कहा कि वह घर चलाने के लिए किराए के लिए पिक अप चलाते हैं, जो सीजनल काम है. कभी काफी ज्यादा काम होता है तो कभी कभार 10- 10 दिनों तक काम नहीं होता.

मिलती थी लाख रुपये सैलरी
फजल ने कहा कि उन्होंने देश का प्रतिनिधित्व करने लिए कड़ी मेहनत की थी. विभागीय क्रिकेट के दौरान उन्हें लाख रुपये की सैलरी मिलती थी. लेकिन जब से विभाग क्रिकेट बंद हुआ है, तभी से उनकी कमाई लाख रुपये से गिरकर 30 से 35 हजार रुपये तक आ गई है. जो जीवनयापन के लिए काफी नहीं है. फजल हबीब बैंक लिमिटेड की ओर से खेलते थे. फजल ने आखिरी मैच पिछले साल सितंबर में खेला था. फर्स्ट क्लास मैच में उनका औसत 33 के करीब था. उन्होंने कहा कि उनके जैसे सैकड़ों क्रिकेटर आज ऐसी ही जिंदगी जी रहे हैं. कुछ बाइक चला रहे हैं और तो कुछ पिक अप चला है और कुछ लोग कंपनी के धक्के खा रहे हैं.

भारत के खिलाफ भी खेल चुके हैं फजल
2014 में कायदे ए आजम ट्रॉफी गोल्ड लीग में फजल कराची डॉलफिंस की ओर से शोएब मलिक (Shoaib Malik) की अगुआई वाली टीम जरई ताराकटी बैंक लिमिटेड के खिलाफ उतरे थे और 207 रन बनाए थे. हालांकि यह मैच ड्रॉ रहा था. अपने करियर के बारे में बताते हुए फजल ने कहा कि वह पाकिस्तान अंडर 19 टीम और पाकिस्तान ए की ओर से भी खेले हैं. 42 फर्स्ट क्लास मैच में उन्होंने अपनी टीम का प्रतिनिधित्व किया और दो साल तक शीर्ष पांच में रहे. यही नहीं फजल ने लाहौर में भारत के खिलाफ घरेलू सीरीज भी खेली थी.

पासपोर्ट तक हो गया था तैयार
उस समय फजल (Fazal Subhan) जिस फॉर्म में चल रहे थे, उनके नेशनल टीम में कदम रखने की चर्चाएं तेज होने लगी थीं और एक दिन उन्हें अपना यह सपना सच होते हुए भी नजर आया. दरअसल एक दिन बोर्ड ने उन्हें फोन करके तैयार रहने के लिए कहा. फजल ने अपना पासपोर्ट और सब कुछ तैयार कर लिया था, लेकिन इसके बाद वह भी नहीं जानते कि क्या हुआ, जो टीम में उन्हें शामिल नहीं किया गया. खैर फजल के संघर्ष ने कुछ पाकिस्तानी क्रिकेटर्स का ध्यान भी अपनी ओर खींचा है.

यह भी पढ़ें-

गंभीर का बड़ा बयान-विराट को हार का डर नहीं, गांगुली-धोनी से भी बड़े कप्तान
बड़ा खुलासा- पाकिस्तान में श्रीलंकाई टीम को किया गया था 'कैद'


 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 2:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...