ICC ने कुरेदा चेतन शर्मा का जख्म, जो जावेद मियांदाद ने 34 साल पहले दिया था

जावेद मियांदाद ने कहा कि अगर हमने आईएमएफ जैसे संगठनों का कर्ज नहीं चुकाया तो वो हमारा एटम बम ले जाएंगे (फाइल फोटो)
जावेद मियांदाद ने कहा कि अगर हमने आईएमएफ जैसे संगठनों का कर्ज नहीं चुकाया तो वो हमारा एटम बम ले जाएंगे (फाइल फोटो)

18 अप्रैल 1986 को शारजाह में भारत और पाकिस्तान के बीच ऑस्ट्रेलेशिया कप का फाइनल खेला गया था. चेतन शर्मा ने भारत की ओर से सबसे अधिक 3 विकेट लिए थे. जावेद मियांदाद ने शतक बनाया था.

  • News18India
  • Last Updated: April 18, 2020, 12:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. किसी भी खिलाड़ी का सपना देश के लिए खेलना और बड़े टूर्नामेंट जीतना होता है. विश्व कप और ओलिंपिक में अच्छा प्रदर्शन कर वे सुपर स्टार बनते हैं. लेकिन भारत में एक ऐसा क्रिकेटर भी है, जो विश्व कप में हैट्रिक लेने के बावजूद बहुत बदनाम है. हम बात कर रहे हैं चेतन शर्मा (Chetan Sharma) की, जिनकी बदनामी आज की ही तारीख यानी 18 अप्रैल से जुड़ी है. चेतन ने तो हमेशा कोशिश की होगी कि वे इस तारीख को भूलकर आगे बढ़ें. उन्होंने ऐसा किया भी. लेकिन जब आईसीसी (ICC) ही सबको यह तारीख याद दिलाए तो फिर चेतन क्या कर सकते हैं.

वो 1986 के अप्रैल की 18 तारीख (18 April 1986) थी. शारजाह (Sharjah) में भारत (India) और पाकिस्तान (Pakistan) के बीच ऑस्ट्रेलेशिया कप (AustralAsia Cup)  का फाइनल खेला जा रहा था. भारत ने पहले बैटिंग करते हुए सात विकेट पर 245 रन बनाए. सुनील गावस्कर ने 92, कृष्मचारी श्रीकांत ने 75 और दिलीप वेंगसरकर ने 50 रन बनाए. वसीम अकरम ने तीन और पाकिस्तान के मौजूदा पीएम इमरान खान ने दो विकेट झटके.

इसके बाद पाकिस्तान की बैटिंग की बारी आई. भारतीय टीम ने अच्छी गेंदबाजी की और 241 रन बनने तक पाकिस्तान के नौ विकेट झटक लिए. लेकिन जावेद मियांदाद डटे हुए थे. मैच का आखिरी ओवर ऐतिहासिक साबित हुआ. पाकिस्तान 49.5 ओवर में 242 रन बना चुका था. उसे जीत के लिए मैच की आखिरी गेंद पर चार रन की जरूरत थी. गेंदबाजी का जिम्मा चेतन शर्मा पर था और पाकिस्तान की उम्मीदें जावेद मियांदाद (Javed Miandad) पर,  जो उस वक्त 110 रन बनाकर खेल रहे थे.





जावेद मियांदाद और चेतन शर्मा की इस जंग में पाकिस्तानी दिग्गज का अनुभव भारी पड़ा. वे यह सोचकर गेंद का इंतजार कर रहे थे कि दबाव चेतन शर्मा पर है और शायद वे गलती करेंगे. हुआ भी वही. युवा खिलाड़ी चेतन ने यॉर्कर फेंकने की कोशिश की, गेंद फुलटॉस हो गई. मियांदाद ने इस पर जोरदार छक्का लगाया. पाकिस्तान को जीत मिली और चेतन शर्मा पर ताउम्र ना धुलने वाला दाग लग गया.

आईसीसी ने इसी मैच को अपने ट्विटर हैंडल के जरिए याद दिलाया है. उसने मियांदाद का फोटो पोस्ट करते हुए लिखा, ‘जावेद मियांदाद ने आज ही के दिन चेतन शर्मा की गेंद पर छक्का मारकर ऑस्ट्रेलेशिया कप के फाइनल में पाकिस्तान को एक विकेट से जीत दिलाई थी.

यह भी पढ़ें: 

विजेंदर ने की धर्म-अधर्म की बात, लोगों ने कहा- बबीता का नाम क्यों नहीं लेते

Role Model: 3 साल में रैकेट थामा, 8 साल में खिताब जीता, अब हैं क्ले कोर्ट किंग
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज