सुनील गावस्कर के आखिरी टेस्ट में पाकिस्तान ने खिलाया था अमेरिकी सिंगर का हमशक्ल, जानिए फिर क्या हुआ

सुनील गावस्कर के आखिरी टेस्ट में पाकिस्तान ने खिलाया था अमेरिकी सिंगर का हमशक्ल, जानिए फिर क्या हुआ
सुनील गावस्कर ने कोरोना पीड़ितों के लिए 59 लाख रुपए दान दिए.

पाकिस्तान (Pakistan) के स्पिन गेंदबाज तौसीफ अहमद (Tauseef Ahmed) को अमेरिकी सिंगर का हमशक्ल कहा जाता था

  • Share this:
नई दिल्ली. साल 1987 में पाकिस्तान (Pakistan) की टीम भारत (India) के दौरे पर आई थी इसी दौरान खेली गई पांच टेस्ट मैचों की सीरीज भारत के दिग्गज खिलाड़ी सुनील गावस्कर की आखिरी सीरीज थी. इसके बाद उन्होंने रिटायरमेंट ले लिया था. इसी दौरे पर भारत आए थे पाकिस्तान के स्पिन गेंदबाज तौसीफ अहमद (Tauseef Ahmed). वह गेंदबाज जिन्होंने सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) को हार के साथ विदा लेने को मजबूर कर दिया था. तौसीफ अपनी गेंदबाजी के साथ-साथ अपने लुक को लेकर भी चर्चा का विषय बन गए थे.

अमेरिका के सिंगर जैसे दिखते थे रिची
दरअसल, तौसीफ (Tauseef Ahmed) दिखने में अमेरिका के बड़े सिंगर लियोनेल रिची जैसे लगते थे. रिची ने पांच ग्रैमी अवॉर्ड जीते थे औऱ दुनिया भर में काफी मशहूर थे. भारत के उस दौरे का आखिरी टेस्ट मैच तौसीफ की पहचान बन गया था. यूं तो उन्होंने सात साल पहले 1980 में डेब्यू किया था पर इस बेंगलुरु टेस्ट (Bengaluru) ने तौसीफ को नई पहचान दी थी. तौसीफ ने इस मैच में नौ विकेट हासिल किए थे. पाकिस्तान ने इस टेस्ट में तौसीफ की शानदार गेंदबाजी के दम पर भारत को उसी के घर में मात दी थी औऱ सीरीज 1-0 से अपने नाम की थी.

तौसीफ अहमद (बाएं) और लियोनेल रिची एक जैसे दिखते थे




भारत को इस मैच में जीत के लिए पाकिस्तान ने 221 रन दिए थे. भारत लगातार विकेट खोता रहा लेकिन एक ओर से अपना आखिरी मैच खेल रहे सुनील गावस्कर ने टीम को जीत दिलाने की पूरी कोशिश की. 180 रन के कुल स्कोर पर वह 96 रन बनाकर आउट हुए. भारत के इसके बाद वापसी कर ही नहीं पाया और मैच 16 रन से हार गया.



तौसीफ को नहीं मिल पाई ज्यादा कामयाब
तौसीफ ने 1980 में अपने पहले टेस्ट ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ डेब्यू टेस्ट मैच में सात विकेट लिए थे. वह शानदार गेंदबाज थे लेकिन अब्दुल कादिर और इकबाल कासिम के रहते हुए उन्हें बहुत ज्यादा मौके नहीं मिले और कही खो गए. 13 साल के अपने करियर में उन्होंने 34 टेस्ट मैच खेले जिसमें 93 विकेट अपने नाम किए. साल 1993 में उन्होंने जिम्बाब्वे के खिलाफ अपना आखिरी मुकाबला खेला लेकिन इस मैच में वह कोई भी विकेट नहीं ले पाए थे.

बड़ी खबर: पाकिस्तान छोड़कर भारत के इस शहर में बसना चाहते हैं शोएब अख्तर, कहा-हिंदुओं की बहुत मदद की है

केएल राहुल का खुलासा- 2016 में बदल गई जिंदगी, धोनी से 'तोहफा' मिलने के बाद हो गया था भावुक
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading