होम /न्यूज /खेल /पाकिस्तान क्रिकेट टीम के 'प्रोफेसर' ने लिया संन्यास, 18 साल से मचा रहा कोहराम

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के 'प्रोफेसर' ने लिया संन्यास, 18 साल से मचा रहा कोहराम

मोहम्मद हफीज ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है.   (Mohammad Hafeez/Instagram)

मोहम्मद हफीज ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है. (Mohammad Hafeez/Instagram)

पाकिस्तान (Pakistan) के 41 साल के ऑलराउंडर मोहम्मद हफीज (Mohammed Hafiz) ने अंतरराष्ट्रीय़ क्रिकेट को अलविदा कहने का फैस ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. पाकिस्तान (Pakistan) के ऑलराउंडर मोहम्मद हफीज (Mohammed Hafiz) ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है. इसके साथ ही उनके 18 साल लंबे करियर का अंत हो गया. उन्होंने 2003 में जिम्बाब्वे के खिलाफ वनडे डेब्यू किया था. वहीं, उनका आखिरी मुकाबला पिछले नवंबर में टी 20 विश्व कप सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पाकिस्तान की हार थी. 41 साल का यह ऑलराउंडर हालांकि, फ्रेंचाइजी क्रिकेट खेलता रहेगा. हफीज पाकिस्तान सुपर लीग (PSL) के आगामी सीजन में लाहौर कलंदर्स की तरफ से खेलते नजर आएंगे.

    मोहम्मद हफीज  ने 55 टेस्ट, 218 वनडे और 119 टी 20 खेले. उन्होंने तीनों फॉर्मेट में कुल 12,780 रन बनाए. उन्हें अपने 18 साल लंबे अंतरराष्ट्रीय करियर में 32 बार प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया है. इस लिस्ट में शाहिद अफरीदी (43), वसीम  अकरम (39) और इंजमाम उल हक (33) के बाद हफीज का नाम आता है. इसके अलावा, हफीज ने इमरान खान, इंजमाम और वकार युनूस के साथ संयुक्त रूप से 9 बार प्लेयर ऑफ द सीरीज अवॉर्ड भी जीता है.

    हफीज ने दिसंबर 2018 में ही टेस्ट क्रिकेट से संन्यास (Mohammad Hafeez Retirement) ले लिया था. वहीं, 2019 के विश्व कप के बाद से उन्हें वनडे टीम में भी मौका नहीं मिला. उन्होंने 2019 के विश्व कप (World Cup 2019) में ही बांग्लादेश के खिलाफ अपना आखिरी वनडे खेला था. हफीज ने पहले ही इस बात की घोषणा कर दी थी कि 2020 में होने वाले टी20 विश्व कप पाकिस्तान  के लिए उनका आखिरी टूर्नामेंट होगा. लेकिन कोरोना के कारण टूर्नामेंट 2021 तक के लिए टल गया था. इसी वजह से उनका संन्यास का फैसला भी टलता जा रहा था.

    IND vs SA: अल्लाहुद्दीन पालेकर का 15 साल पुराना इंतजार खत्म, भारत के खिलाफ करेंगे टेस्ट डेब्यू

    मोहम्मद हफीज को 2018 में पाकिस्तान की टी20 टीम से ड्रॉप कर दिया गया था. हालांकि, उन्हें 2020 में बांग्लादेश के खिलाफ घरेलू सीरीज के लिए वापस बुला लिया गया और उस साल हफीज टी20 में पाकिस्तान के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे थे. उन्होंने 83 के औसत और 152 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए थे.

    IND vs SA: डीन एल्गर ने दी भारत को चेतावनी, बोले-डिकॉक के संन्यास का कोई असर नहीं

    हफीज पाकिस्तान के इकलौते खिलाड़ी हैं, जिन्होंने एक टी20 विश्व कप को छोड़कर बाकी 6 टूर्नामेंट में शिरकत की है. वो 2009 टी20 विश्व कप में टीम का हिस्सा नहीं थे. तब पाकिस्तान ने श्रीलंका को हराकर पहली बार खिताब जीता था. हफीज ने पाकिस्तान को 2012 विश्व टी20 सेमीफाइनल में भी पहुंचाया था. 2014 में जब पाकिस्तान टीम टी20 विश्व कप के ग्रुप स्टेज से बाहर हुई थी, तब हफीज ही टीम के कप्तान थे. यह पहला मौका था, जब पाकिस्तान टी20 विश्व कप के सेमीफाइनल में नहीं पहुंचा था. उन्होंने बतौर कप्तान 29 में से 18 टी20 जीते हैं. जबकि 11 में हार मिली है.

    Tags: Cricket news, Mohammad hafeez, Pakistan, Pakistan cricket, Pakistan cricket team

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें