अपना शहर चुनें

States

मोहम्मद आमिर बोले-पाकिस्तानी ड्रेसिंग रूम का माहौल डरावना, मिसबाह-वकार पर भड़के

पाकिस्तानी पेसर मोहम्मद आमिर ने हाल में ही इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास लिया है (Mohammad Amir/Instagram)
पाकिस्तानी पेसर मोहम्मद आमिर ने हाल में ही इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास लिया है (Mohammad Amir/Instagram)

पाकिस्तान के गेंदबाज मोहम्मद आमिर (Mohammad Amir) ने कहा है कि मुख्य कोच मिसबाह उल हक और गेंदबाजी कोच वकार यूनिस ने उन्हें मानसिक रूप से प्रताड़ित किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 14, 2021, 11:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पाकिस्तान टीम प्रबंधन से मतभेदों के कारण हाल में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को संन्यास लेने वाले पूर्व तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर (Mohammad Amir) ने पाकिस्तानी क्रिकेट में ‘भयावह’ ड्रेसिंग रूम संस्कृति पर लगाम कसने की मांग की. उन्होंने मीडिया से कहा, ‘‘खिलाड़ियों को कुछ आजादी दीजिये. ड्रेसिंग रूम में इस भयावह माहौल पर लगाम कसिये क्योंकि ये ही खिलाड़ी आपको मैचों में जीत दिलाते हैं. ’’

आमिर ने पिछले महीने यह आरोप लगाते हुए संन्यास ले लिया था कि राष्ट्रीय टीम के प्रबंधन ने उन्हें मानसिक रूप से प्रताड़ित किया है जिसमें मुख्य कोच मिसबाह उल हक और गेंदबाजी कोच वकार यूनिस शामिल हैं. बायें हाथ के तेज गेंदबाज ने कहा कि उन्हें टीम से उनके प्रदर्शन की वजह से नहीं बल्कि व्यक्तिगत मुद्दों के कारण बाहर किया गया. उन्होंने कहा, ‘‘मुद्दा प्रदर्शन का नहीं था, मैं जानता हूं कि मैं मजबूत वापसी कर सकता हूं लेकिन यह उस मानसिक प्रताड़ना की बात है जिसमें वे आपको गुजारते हैं. ’’

आमिर ने कहा कि अगर कोच प्रदर्शन के बारे में बात कर रहे हैं तो उन्हें यह भी बताना चाहिए कि बांग्लादेश प्रीमियर लीग में 21 विकेट लेने के अगले दिन ही उन्हें बाहर क्यों कर दिया गया. उन्होंने पूछा, "अगर यह व्यक्तिगत मुद्दा नहीं है तो यह क्या है."



यह भी पढ़ें:
England vs Sri Lanka: मार्क वुड ने फेंकी 91 मील की रफ्तार से गेंद, तोड़ डाला एंजेलो मैथ्यूज का बल्ला

IND vs AUS: रफ्तार के अमर-अकबर-एंथोनी हैं सिराज-नटराजन-सैनी!

महज 28 साल की उम्र में इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहने वाले आमिर ने पाकिस्तान के लिए 36 टेस्ट, 61 वनडे और 50 टी20 मैच खेले हैं. आमिर ने 119 टेस्ट विकेट, 81 वनडे विकेट और 59 टी20 विकेट हासिल किया है.

संन्यास लेने के बाद मोहम्मद आमिर ने कहा था, ''मुझे नहीं लगता कि मैं इस प्रबंधन में क्रिकेट खेल सकता हूं. मुझे लगता है कि इस बार मुझे क्रिकेट छोड़ देना चाहिए. मेरा मानसिक रूप से शोषण हो रहा है. मुझे नहीं लगता कि मैं इस शोषण को और ज्यादा झेल सकता हूं. मैंने 2010 से 2015 तक काफी शोषण सहा है. मैं खेल से दूर था और यही मेरी गलती की सजा है.''
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज