विदेशी क्रिकेट लीग में खेलने के लिए इस भारतीय क्रिकेटर ने लिया संन्यास!

विदेशी क्रिकेट लीग खेलना चाहते हैं ओझा

पिछले हफ्ते अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने वाले प्रज्ञान ओझा (Pragyan Ojha) अब विदेशी क्रिकेट लीग खेलना चाहते हैं

  • Share this:
    नवी मुंबई. भारतीय टीम के बायें हाथ के पूर्व स्पिनर प्रज्ञान ओझा (Pragyan Ojha) विदेशी टी20 लीगों में खेलने के इच्छुक हैं जिसके विकल्पों की तलाश के लिए वह बीसीसीआई की अनुमति लेंगे. ओझा ने पिछले सप्ताह अंतरराष्ट्रीय और प्रथम श्रेणी क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की थी. नवी मुंबई डीवाई पाटिल टी20 कप के दौरान ओझा ने कहा, 'मेरे दिमाग में कई चीजें हैं. मैं अभी कमेंट्री कर रहा हूं और बीसीसीआई के साथ हूं. मैं बीसीसीआई से सलाह लूंगा कि क्या मैं भारत से बाहर कुछ लीगों में खेल सकता हूं. मैं ऐसा तभी करूंगा जब मुझे इसके लिए अनुमति मिलेगी.'

    युवराज सिंह की राह पर ओझा
    ऐसा लग रहा है कि प्रज्ञान ओझा  (Pragyan Ojha) सिक्सर किंग युवराज सिंह की राह पर चलना चाहते हैं. युवराज सिंह ने भी संन्यास लेने के बाद विदेशी लीगों में हिस्सा लिया. उन्होंने कनाडा में ग्लोबल टी20 और टी10 लीग में हिस्सा लिया. हालांकि इसकी वजह से वो इस साल आईपीएल में नहीं खेल पाएंगे. प्रज्ञान ओझा का भी आईपीएल करियर खत्म हो चुका है तो ऐसे में वो विदेशी लीग में खेल सकते हैं.

    ओझा ने ज्यादतातर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करिश्माई कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी के नेतृत्व में खेला है. उन्होंने धोनी को गेंदबाजों का कप्तान करार दिया. उन्होंने कहा, 'वह (धोनी) गेंदबाजों के कप्तान है. मैं पूरी तरह से मानता हूं कि गेंदबाज के पास ऐसा कप्तान होना चाहिए जो उसे समझता है. बहुत से गेंदबाज धोनी की तारीफ करते हैं क्योंकि वे आपको जो आयाम देते हैं वह आपकी काफी मदद करता है.' टेस्ट में 113 विकेट लेने वाले ओझा से जब पूछा गया कि क्या उन्हें अपने करियर में कोई पछतावा है तो उन्होंने कहा, 'शायद भारत के लिये और क्रिकेट खेला होता.'

    ओझा को नहीं मिला किस्मत का साथ
    प्रज्ञान ओझा  (Pragyan Ojha) उन बदकिस्मत खिलाड़ियों में से एक हैं जो अच्छे प्रदर्शन के बावजूद टीम इंडिया से बाहर हुए. सचिन तेंदुलकर का आखिरी टेस्ट प्रज्ञान ओझा का भी आखिरी टेस्ट मैच बना. प्रज्ञान ओझा (Pragyan Ojha) ने अपना आखिरी टेस्ट नवंबर 2013 में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला था, इस मैच में ओझा ने 10 विकेट लिए थे और वो मैन ऑफ द मैच भी बने थे लेकिन इस मैच के बाद उन्हें कभी टीम इंडिया में नहीं चुना गया. यही नहीं प्रज्ञान ओझा का आईपीएल में भी शानदार प्रदर्शन रहा. साल 2010 में उन्होंने 21 विकेट लेकर पर्पल कैप भी जीती. पर्पल कैप जीतने वाले वो इकलौते स्पिनर रहे लेकिन इसके बावजूद 2015 आईपीएल के बाद उन्हें किसी टीम ने अपने स्क्वॉड में जगह नहीं दी. (भाषा के इनपुट के साथ)
    मुसीबत में टीम इंडिया,कीवी टीम में आया बल्लेबाजों की कोहनी तोड़ने वाला खिलाड़ी

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.