14 साल की उम्र में 546 रन जड़ने वाले पृथ्वी शॉ डोप टेस्ट में फेल, लगा बैन

इंदौर में सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के दौरान 22 फरवरी 2019 को पृथ्वी शॉ का यूरीन सैंपल लिया गया था. इसमें प्रतिबंधित पदार्थ पाया गया है.

News18Hindi
Updated: July 30, 2019, 8:38 PM IST
14 साल की उम्र में 546 रन जड़ने वाले पृथ्वी शॉ डोप टेस्ट में फेल, लगा बैन
इंदौर में सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के दौरान 22 फरवरी 2019 को पृथ्वी शॉ का यूरीन सैंपल लिया गया था. इसमें प्रतिबंधित पदार्थ पाया गया है.
News18Hindi
Updated: July 30, 2019, 8:38 PM IST
भारतीय क्रिकेट टीम के भविष्य के सितारे पृथ्वी शॉ डोप टेस्ट में फेल हो गए हैं. पृथ्वी शॉ पर 15 नवंबर तक के लिए बैन लगा दिया गया है. शॉ पहले से ही चोट के चलते टीम इंडिया से बाहर चल रहे हैं. इसी वजह से उन्हें वेस्टइंडीज दौरे के लिए नहीं चुना गया था. इंदौर में सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के दौरान 22 फरवरी 2019 को पृथ्वी शॉ का यूरीन सैंपल लिया गया था. इसमें प्रतिबंधित पदार्थ पाया गया है. यह टेस्ट बीसीसीआई की एंटी डोपिंग प्रोग्राम के तहत किया गया था.

सैंपल में मिला ये प्रतिबंधित पदार्थ

पृथ्वी शॉ के यूरीन सैंपल में जो प्रतिबंधित पदार्थ मिला है, उसका नाम टर्ब्यूटलाइन है, जिसका इस्तेमाल कफ सिरप में किया जाता है. यह पदार्थ वाडा की प्रतिबंधित पदार्थों की सूची में शामिल है.

...तो लापरवाही बरतने के लिए लगा बैन

बीसीसीआई की रिलीज के मुताबिक, 16 जुलाई 2019 को पृथ्वी शॉ को एंटी डोपिंग रूल वॉयलेशन (ADRV) और बीसीसीआई एंटी डोपिंग रूल्स (ADR) की धारा 2.1 के उल्लंघन का दोषी पाया गया. पृथ्वी शॉ ने इसके सेवन के इस्तेमाल की बात मानी है, लेकिन साथ ही कहा कि उन्होंने खांसी रोकने के लिए कफ सिरप का इस्तेमाल किया था. बीसीसीआई ने शॉ की सफाई को स्वीकार कर लिया है और माना है कि शॉ ने शारीरिक क्षमता बढ़ाने के तौर पर नहीं, बल्कि खांसी रोकने के लिए इस प्रतिबंधित पदार्थ का सेवन किया है. हालांकि इस मामले में सभी तरह के विचार-विमर्श के बाद यह तय किया गया कि शॉ को लापरवाही बरतने के लिए आठ महीने का प्रतिबंध झेलना होगा.

prithvi shaw, cricket, bcci, indian cricket team, पृथ्वी शॉ, क्रिकेट, बीसीसीआई, भारतीय क्रिकेट टीम
पृथ्वी शॉ हिप इंजरी से उबर रहे हैं और इसीलिए उन्हें वेस्टइंडीज दौरे के लिए भारतीय टीम में शामिल नहीं किया गया.


15 नवंबर को खत्म होगा बैन
Loading...

बीसीसीआई ADR की धारा 10.10.3 के मुताबिक चूंकि पृथ्वी शॉ ने खुद पर लगे आरोप को स्वीकार किया है ऐसे में उन पर धारा 10.10.2 के तहत बैक डेट बैन लगाया गया है. हिप इंजरी से उबर रहे पृथ्वी शॉ को 8 महीने के लिए सस्पेंड किया गया है। शॉ का निलंबन 16 मार्च 2019 से 15 नवंबर 2019 मिड नाइट तक लागू रहेगा.

पृथ्वी शॉ के अलावा घरेलू क्रिकेट में राजस्थान के लिए खेलने वाले दिव्या गजराज और विदर्भ के लिए खेलने वाले अक्षय डुल्लरवार को भी 8 महीने के लिए सस्पेंड किया है.

prithvi shaw, cricket, bcci, indian cricket team, पृथ्वी शॉ, क्रिकेट, बीसीसीआई, भारतीय क्रिकेट टीम

14 साल की उम्र में ठोक दिए थे 546 रन

मुंबई के पृथ्वी शॉ की असाधारण प्रतिभा का पता तभी चल गया था जब वह महज 14 साल के थे. तब उन्होंने हैरिस शील्ड टूर्नामेंट में रिजवी स्प्रिंगफील्ड स्कूल की ओर से खेलते हुए 330 गेंद पर 546 रन ठोक दिए थे. इस पारी में 85 चौके और 5 छक्के शामिल थे. यह टूर्नामेंट 2013 में मुंबई में हुआ था.

पहले ही टेस्‍ट में जड़ दिया था शतक

पृथ्वी शॉ ने टेस्ट करियर का आगाज 4 अक्तूबर 2018 को वेस्टइंडीज के खिलाफ राजकोट में किया था. इस टेस्ट की पहली ही पारी में उन्होंने 154 गेंद पर 134 रन जड़ दिए थे.
First published: July 30, 2019, 7:59 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...