BCCI ने पृथ्वी शॉ से कहा-पहले वजन कम करो, फिर सेलेक्शन पर होगा विचार: रिपोर्ट

पृथ्वी शॉ ने आईपीएल 2021 के 8 मैच में 166.48 के स्ट्राइक रेट से 308 रन बनाए. उन्होंने तीन अर्धशतक भी लगाए थे.   (PIC: PTI)

पृथ्वी शॉ ने आईपीएल 2021 के 8 मैच में 166.48 के स्ट्राइक रेट से 308 रन बनाए. उन्होंने तीन अर्धशतक भी लगाए थे. (PIC: PTI)

आईपीएल 2021(IPL 2021) और घरेलू क्रिकेट में अच्छे प्रदर्शन के बावजूद सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) को इंग्लैंड दौरे के लिए चुनी गई भारतीय टीम में जगह नहीं दी गई है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीसीसीआई ने शॉ से कहा है कि अगर उन्हें दोबारा टीम इंडिया में आना है तो सबसे पहले अपना वजन कम करना होगा.

  • Share this:

नई दिल्ली. आईपीएल 2021(IPL 2021) और उससे पहले घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) को वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप(World Test Championship) और इंग्लैंड दौरे के लिए चुनी गई भारतीय टीम में जगह नहीं दी गई है. शॉ को दरकिनार करने की वजह अब सामने आई है. दरअसल, सेलेक्टर्स चाहते हैं कि शॉ भारतीय टीम में वापस आने से पहले कुछ वजन कम करें.

बीसीसीआई सूत्र ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि 21 साल का होने के बावजूद शॉ मैदान पर काफी धीमे हैं. उन्हें अपना वजन घटाने की जरूरत है. ऑस्ट्रेलिया दौरे पर उनकी फील्डिंग को लेकर भी सवाल उठे थे. उनमें एकाग्रता की कमी दिखी थी. हालांकि, वहां से लौटने के बाद उन्होंने अपने खेल में सुधार को लेकर काफी मेहनत की.

वजन को लेकर भी पंत की हो चुकी है आलोचना

ये पहला मौका नहीं है, जब किसी खिलाड़ी को उसके वजन को लेकर सलाह दी गई है. शॉ से पहले ऋषभ पंत की भी उनके वजन को लेकर आलोचना होती थी. हालांकि, इसके बाद पंत ने इसे दुरुस्त करने के लिए काफी मेहनत की. इसका फायदा भी उन्हें मिला. जहां एक वक्त वो तीनों फॉर्मेट की टीम से ड्रॉप हो चुके थे. वहीं, अब पंत टेस्ट, वनडे और टी20 तीनों फॉर्मेट में टीम के अहम खिलाड़ी बन गए हैं.
पृथ्वी शॉ को पंत से सीखना होगा

बोर्ड सूत्र के मुताबिक, शॉ को भी पंत के नक्शेकदम पर चलना होगा. शॉ को आगे कुछ और टूर्नामेंट में भी बल्ले से ऐसा ही प्रदर्शन करना होगा. क्योंकि उन्हें ज्यादातर मौकों पर एक सीरीज में अच्छे प्रदर्शन के बाद टीम में चुना जाता है. लेकिन वो इस मौके को भुनाने में नाकाम रहते हैं. इसी वजह से वो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में संघर्ष करते दिखते हैं.

शॉ के लिए टेस्ट टीम में वापसी आसान नहीं



शॉ के लिए आगे की राह इसलिए भी आसान नहीं है. क्योंकि कोरोना के दौर में भारत में घरेलू क्रिकेट की स्थिति बहुत अच्छी नहीं दिख रही है. ऐसे में उनके पास टेस्ट क्रिकेट के लिए खुद को साबित करने के मौके कम होंगे. हालांकि, उनके पास अपनी फिटनेस को और बेहतर करने का मौका होगा.

यह भी पढ़ें: इंग्लैंड जाने से पहले 8 दिन बायो-बबल में रहेगी टीम इंडिया, यूके में 10 दिनों का क्वारंटीन

केकेआर के खिलाड़ी टिम सिफर्ट हुए कोरोना पॉजिटिव, चेन्नई में कराएंगे अपना इलाज

शॉ ने विजय हजारे ट्रॉफी में 800 से ज्यादा रन बनाए थे

बता दें कि शॉ ने इस साल विजय हजारे ट्रॉफी में 827 रन बनाए थे. ये टूर्नामेंट के इतिहास में किसी भी एक सीजन में सबसे ज्यादा रन थे. उन्होंने टूर्नामेंट में तीन बार 150 रन से ज्यादा की पारी खेली थी. जोकि अपने आप में एक रिकॉर्ड है. इसके अलावा आईपीएल 2021 में भी वह शानदार फॉर्म में नजर आए थे. शॉ ने आईपीएल के आठ मैच में 166.48 के स्ट्राइक रेट के साथ 308 रन बनाए थे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज