रिकी पॉन्टिंग के प्रैक्टिस बंद करने वाले बयान पर बोले पृथ्वी शॉ, 'तंग आ गया था'

दिल्ली कैपिटल्स के कोच रिकी पॉन्टिंग ने कहा था कि जब शॉ रन नहीं बना रहे थे, तो उन्हें नेट्स में बल्लेबाजी करना पसंद नहीं था.

दिल्ली कैपिटल्स के कोच रिकी पॉन्टिंग ने कहा था कि जब शॉ रन नहीं बना रहे थे, तो उन्हें नेट्स में बल्लेबाजी करना पसंद नहीं था.

आईपीएल टीम दिल्ली कैपिटल्स के कोच रिकी पॉन्टिंग ने कहा था कि जब पृथ्वी शॉ IPL में रन नहीं बना रहे थे, तो उन्होंने नेट प्रैक्टिस बंद कर दी थी. अब पृथ्वी शॉ ने बताया है कि उन्होंने नेट्स में बल्लेबाजी करने से मना क्यों कर दिया था.

  • Share this:

नई दिल्ली. प्रतिभावान युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) किसी भी गेंदबाज को परेशान करने की काबिलियत रखते हैं. इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 14वें सीजन में भी वह अच्छा प्रदर्शन कर रहे थे लेकिन उसे कोविड-19 के बढ़ते मामलों के कारण बीच में ही स्थगित करना पड़ा. शॉ ने टूर्नामेंट के निलंबन से पहले तक 38.50 के औसत और 166.49 के स्ट्राइक रेट से कुल 308 रन बनाए. हालांकि पिछला सीजन उनके लिए खास नहीं रहा और दाएं हाथ का यह बल्लेबाज केवल 228 रन बना पाया था, तब उनका औसत मात्र 17.54 का रहा था.

दिल्ली कैपिटल्स (DC) के हेड कोच रिकी पॉन्टिंग ने एक इंटरव्यू में कहा था कि जब शॉ रन नहीं बना रहे थे, तो उन्हें नेट्स में बल्लेबाजी करना पसंद नहीं था. अब पृथ्वी शॉ ने इस पर खुलकर बात की है कि उन्होंने नेट्स में बल्लेबाजी करने से मना क्यों कर दिया था.

इसे भी पढ़ें, मां और बेटे ने बनाया अनोखा कीर्तिमान, शतकीय साझेदारी कर टीम को जीत दिलाई

21 वर्षीय पृथ्वी ने क्रिकबज से कहा, 'ऐसे मौके आए, जब मैं कोई रन नहीं बना पा रहा था. जो मैं मेहनत कर रहा था, उसका परिणाम अच्छा नहीं मिल पा रहा था.' शॉ ने बताया कि ऐसे में वह तंग आ गए थे और लगातार प्रशिक्षण का उन्हें कोई मतलब नहीं लग रहा था. उन्होंने कहा, 'यह पिछले साल हुआ था जब मैं ज्यादा स्कोर नहीं कर पा रहा था. मैं बल्लेबाजी करना चाहता था लेकिन फिर कुछ ऐसे मौके आए जहां मुझे रन नहीं मिले. मैंने प्रशिक्षण जारी रखा लेकिन परिणाम नहीं मिला. तो एक समय मैं तंग आ गया और कहा, 'अगर ऐसा नहीं हो रहा है, तो मैं थोड़ा प्रैक्टिस बंद कर दूंगा.'
इसे भी पढ़ें, कोच का दावा: मयंक अग्रवाल मानसिक तौर पर परेशान, भारतीय Playing 11 से निकलने का असर

घरेलू क्रिकेट में मुंबई का प्रतिनिधित्व करने वाले शॉ उस भारतीय टेस्ट टीम का हिस्सा नहीं हैं जो 18 जून 2021 से विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप (डब्ल्यूटीसी) के फाइनल में न्यूजीलैंड से भिड़ेगी. उन्होंने अब तक भारत के लिए पांच टेस्ट और तीन वनडे खेले हैं. उनके नाम टेस्ट में एक शतक और 2 अर्धशतकों की मदद से कुल 339 रन हैं जबकि वनडे में वह केवल 84 रन बना पाए हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज