देवदत्त पडिक्कल ने बताया, पृथ्वी शॉ ने ज्यादा रन बनाने के लिए किया प्रेरित

देवदत्त पडिक्कल ने विजय हजारे ट्रॉफी में चार लगातार शतक जड़े थे (@devdpd07/Twitter)

देवदत्त पडिक्कल ने विजय हजारे ट्रॉफी में चार लगातार शतक जड़े थे (@devdpd07/Twitter)

पृथ्वी शॉ ने विजय हजारे ट्रॉफी के 8 मैचों में 165.4 की औसत से 827 रन बनाए जबकि देवदत्त पडिक्कल ने 147.4 की औसत से 737 रन बनाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2021, 12:06 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कर्नाटक के बल्लेबाज देवदत्त पडिक्कल (Devdutt Padikkal) ने हाल ही में इस बात का खुलासा किया कि बल्लेबाज पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) ने उन्हें विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) में अधिक रन बनाने के लिए प्रेरित किया. पृथ्वी शॉ ने मुंबई को विजय हजारे ट्रॉफी का खिताब जितवाया था. पृथ्वी शॉ ने 8 मैचों में 165.4 की औसत से 827 रन बनाए जबकि पडिक्कल ने 147.4 की औसत से 737 रन बनाए. 20 वर्षीय पडिक्कल ने कहा कि उनके और पृथ्वी शॉ के बीच मुकाबले ने दोनों बल्लेबाजों को फायदा पहुंचाया. देवदत्त पडिक्कल पिछले आईपीएल में विराट कोहली (Virat Kohli) की अगुवाई वाली रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (RCB) के लिए बड़ी खोज साबित हुए थे.

देवदत्त पडिक्कल ने हिंदुस्तान टाइमस को दिए इंटरव्यू में कहा, ''पृथ्वी बहुत अच्छी फॉर्म में हैं. वह खास खिलाड़ी हैं. वह मुझे भी लगातार प्रोत्साहित करते रहे. हम दोनों ही एक-दूसरे को आगे बढ़ाते रहे. इससे टीम को मदद मिलती है.'' पडिक्कल ने विजय हजारे ट्रॉफी में चार लगातार शतक जड़े थे. लिस्ट ए क्रिकेट में ऐसा करने वाले वह पहले खिलाड़ी बने. शानदार फॉर्म के बावजूद दोनों को ही इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में नहीं बुलाया गया. इस पर पडिक्कल ने कहा कि वह इसी तरह रन बनाना जारी रखेंगे.

IPL 2021 : ग्लेन मैक्सवेल की फॉर्म आरसीबी के लिए चिंता? आकाश चोपड़ा ने दिया जवाब

उन्होंने कहा, ''पिछले दो तीन साल में मैंने यही सीखा है कि चयन की परवाह किए बगैर रन बनाने हैं. चयन मेरे नियंत्रण में नहीं है. मैं हर रोज अपने खेल को बेहतर करता हूं. मैं अपने खेल पर फोकस कर रहा हूं. मेरे लिए यह मायने नहीं रखता कि मैं किस टीम लीग या फ्रेंचाइजी के लिए खेल रहा हूं.''
पिछले सीजन में पडिक्कल ने आरसीबी की तरफ से आईपीएल डेब्यू किया था. उन्होंने 15 पारियों में 124.8 की स्ट्राइक रेट से 473 रन बनाए थे. वह 'एमर्जिंग प्लेयर ऑफ द सीजन' चुने गए थे. पडिक्कल ने यह स्वीकार किया कि एबी डिविलियर्स और विराट कोहली जैसे दिग्गजों के साथ खेलना अच्छा अनुभव रहा.

शोएब अख्तर ने सचिन तेंदुलकर के लिए की दुआ, बोले- मैदान पर मेरे पसंदीदा दुश्मन जल्दी ठीक हो जाओ

उन्होंने कहा, ''आप उनसे बहुत कुछ सीखते हैं. जिस पैशन और जुनून से ये खिलाड़ी खेलते हैं. वह देखने लायक होता है. दबाव झेलना आसान नहीं होता. खासतौर पर जब टीम आपसे जिम्मेदारी उठाने की अपेक्षा कर रही हो. मैंने उनसे सीखा कि कैसे दबाव को झेला जाता है.'' देवदत्त ने कहा कि आरसीबी के और टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने ऊंचे मानक स्थापित किए हैं. जब आप उनके साथ बल्लेबाजी करते हैं तो आपको अपना स्तर उठाना पड़ता है. वह खेल को अच्छी तरह समझते हैं. जब आप इतने अनुभवी खिलाड़ी के साथ खेलते हो तो आपके लिए भी चीजें आसान हो जाती हैं. आरसीबी को 9 अप्रैल को अपना पहला मैच मुंबई इंडियंस से खेलना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज