मां के सपने को पूरा करने के लिए भारतीय क्रिकेटर ने 'छोड़ा घर', कोरोना के कारण 2 दिन पहले हुआ था निधन

दो दिन पहले प्रिया पूनिया की मां का निधन हो गया था (फोटो क्रेडिट: Priya Punia इंस्‍टाग्राम )

कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण इंग्‍लैंड जाने वाली भारतीय महिला टीम में शामिल प्रिया पूनिया (Priya Punia) की मां का दो दिन पहले निधन हो गया था, जिससे यह खिलाड़ी बुरी तरह टूट गई हैं

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर से पूरा देश जंग लड़ रहा है. इस खतरनाक महामारी ने कई लोगों से उनके अपनों को दूर कर दिया. खिलाड़ी भी इससे बच नहीं पाए. कई खिलाड़ी इसकी चपेट में आ गए. कुछ ने तो अपने परिवार के सदस्‍यों को ही खो दिया. भारतीय महिला क्रिकेटर वेदा कृष्‍णमूर्ति ने अपनी मां और बहन को खोया, तो वहीं प्रिया पूनिया (Priya Punia) की मां भी इस वायरस से हार गई. इंग्‍लैंड दौरे पर मां के सपने को पूरा करने की तैयारी कर रही प्रिया को सोमवार को उस समय बड़ा झटका लगा, जब उनकी मां ने आखिरी सांस ली.

    इस झटके से वह पूरी तरह से टूट गई हैं. 24 साल की प्रिया ने सोशल मीडिया पर मां की मौत के एक दिन बाद अपना दर्द बयां किया और अब खबर आ रही है कि वह अपनी मां के सपने को पूरा करने के लिए इंग्‍लैंड दौरे पर जाएगी. प्रिया बुधवार को दौरे से पहले बायो बबल में टीम से जुड़ने के लिए बुधवार को मुंबई के लिए रवाना होंगी. मुंबई में भारतीय महिला और पुरुष टीम दोनों को बायो बबल में एंट्री करनी होगी और फिर यही से दोनों एक साथ चार्टर्ड फ्लाइट से इंग्‍लैंड के लिए रवाना होंगे.

    Priya Punia, Priya Punia mother, india vs england, indian cricket team, cricket news

    यह भी पढ़ें : 

    बीसीसीआई पर लगे पक्षपात के आरोप पर मिताली राज और हरमनप्रीत कौर ने तोड़ी चुप्‍पी

    इंग्लैंड दौरे से पहले भारतीय टीम को 24 दिन क्वारंटीन में रहना होगा, बीसीसीआई ने ईसीबी से मांगी ये छूट

    प्रिया ने मां को याद करते हुए लिखा कि आज मैंने महसूस किया कि आपने हमेशा मुझे मजबूत बनने के लिए क्यों कहा. आपको पता था कि एक दिन मुझे आपके जाने पर उस दुख से निपटने के लिए इसकी जरूरत पड़ेगी. मां आपकी कमी खलेगी. दूरी कितनी भी हो, मुझे पता है कि आप हमेशा मेरे साथ रहोगी. मेरी गाइडिंग स्टार, मेरी मां.. आपसे हमेशा प्यार करती रहूंगी.’ उन्होंने आगे लिखा कि जीवन की कुछ सच्चाई को स्वीकार करना मुश्किल होता है. आपकी याद कभी नहीं भुलाई जा सकती. भगवान आपकी आत्मा को शांति दे मां. कृपया नियमों का पालन करें और एहतियात बरतें. यह वायरस काफी खतरनाक है.