Home /News /sports /

सानिया मिर्जा के भतीजे ने 19 साल की उम्र में जड़ा तिहरा शतक, जावेद मियांदाद की बराबरी भी की

सानिया मिर्जा के भतीजे ने 19 साल की उम्र में जड़ा तिहरा शतक, जावेद मियांदाद की बराबरी भी की

Quaid E Azam Trophy 2021-22: मोहम्मद हुरैरा (Mohammad Huraira) ने लगाया तिहरा शतक. (PCB Instagram)

Quaid E Azam Trophy 2021-22: मोहम्मद हुरैरा (Mohammad Huraira) ने लगाया तिहरा शतक. (PCB Instagram)

Quaid E Azam Trophy 2021-22: मोहम्मद हुरैरा (Mohammad Huraira) ने नया इतिहास रच दिया है. 19 साल की उम्र में उन्होंने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में तिहरा शतक लगाकर खुद को खास खिलाड़ियों की लिस्ट में शामिल कर लिया है.

    लाहौर. मोहम्मद हुरैरा (Mohammad Huraira) ने सोमवार को रिकॉर्ड बुक में अपना नाम दर्ज करा लिया है. 19 साल की उम्र में उन्होंने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में तिहरा शतक लगाकर पाकिस्तान (Pakistan) टीम के लिए भी अपनी दावेदारी पेश कर दी है. कायदे आजम ट्राॅफी (Quaid E Azam Trophy 2021-22) के एक मुकाबले में उन्होंने नाॅर्दन पाकिस्तान की ओर से खेलते हुए बलूचिस्तान के खिलाफ (Balochistan vs Northern Pakistan) यह कारनामा किया. वे जावेद मियांदाद (Javed Miandad) के बाद सबसे कम उम्र के तिहरा शतक लगाने वाले पाक बल्लेबाज भी बन गए हैं.

    मोहम्मद हुरैरा का पाकिस्तान के सीनियर खिलाड़ी शोएब मलिक (Shoaib Malik) और सानिया मिर्जा से खास रिश्ता है. मलिक के भतीजे हुरैरा ने 327 गेंद पर तिहरा शतक पूरा किया. उन्होंने इस दौरान 39 चौके और 4 छक्के लगाए. यानी उन्होंने 180 रन तो सिर्फ बाउंड्री से बना डाले. उन्होंने 19 साल 239 दिन की उम्र में यह कारनामा किया. जावेद मियांदाद की बात करें तो उन्होंने 17 साल 310 दिन की उम्र में तिहरा शतक जड़ा था. हुरैरा ओवरऑल फर्स्ट क्लास क्रिकेट में तिहरा शतक लगाने वाले 8वें युवा खिलाड़ी बने हैं. वे 311 रन बनाकर नाबाद रहे.

    इस मुकाबले से पहले 2 शतक लगाया

    इस मुकाबले से पहले मोहम्मद हुरैना ने सिर्फ 9 फर्स्ट क्लास के मैच खेले हैं. 15 पारियों में 41 की औसत से 567 रन बनाए हैं. 2 शतक और 3 अर्धशतक लगाया है. 112 रन की सबसे बड़ी पारी खेली. इस साल अक्टूबर में ही उन्होंने फर्स्ट क्लास डेब्यू किया है. इससे पहले वे पाकिस्तान की ओर से अंडर-19 वर्ल्ड कप (Under-19 World Cup) में भी उतर चुके हैं. ऐसे में उन्हें आईसीसी टूर्नामेंट में खेलने का अनुभव है.

    यह भी पढ़ें: Ashes Series: ऑस्ट्रेलिया की बड़ी जीत, जॉस बटलर नहीं रोक पाए इंग्लैंड की हार, फिर भी बरसों याद रहेगी उनकी पारी

    पिछले दिनों मोहम्मद हुरैरा ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि मैं खुदकिस्मत हूं कि शोएब मलिक मेरे चाचा हैं. वे हमेशा मेरे लिए प्रेरणा रहे हैं. उन्होंने मुझे हमेशा कड़ी मेहनत करने के लिए प्रोत्साहित किया, क्योंकि सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं है. हुरैना विराट कोहली (Virat Kohli), बाबर आजम (Babar Azam) और केन विलियमसन (Kane Williamson) को अपना रोल मॉडल मानते हैं.

    Tags: Cricket news, Javed Miandad, Pakistan, Quaid E Azam Trophy, Sania mirza, Shoaib Malik

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर