लाइव टीवी

हितों के टकराव मामले में सुनवाई खत्म, पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ के भविष्य को लेकर जल्द आ सकता फैसला

भाषा
Updated: November 12, 2019, 8:18 PM IST
हितों के टकराव मामले में सुनवाई खत्म, पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ के भविष्य को लेकर जल्द आ सकता फैसला
राहुल द्रविड़ अभी एनसीए की जिम्‍मेदारी संभाल रहे हैं.

राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने 26 सितंबर को मुंबई में हुई व्यक्तिगत सुनवाई में अपना पक्ष रखा था.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत के दिग्गज क्रिकेटर राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) को लेकर चल रहे हितों के कथित टकराव के मामले की सुनवाई मंगलवार को यहां समाप्त हुई और बीसीसीआई (BCCI) के आचरण अधिकारी डीके जैन ने कहा कि उनका आदेश जल्द ही आ सकता है. एमपीसीए के आजीवन सदस्य संजीव गुप्ता ने द्रविड़ के खिलाफ राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) के प्रमुख के तौर पर मौजूदा भूमिका और इंडिया सीमेंट्स के कर्मचारी होने के नाते हितों के कथित टकराव की शिकायत दर्ज की थी.
जैन ने पीटीआई से कहा कि सुनवाई समाप्त हो गई है. आपको जल्द ही इस मामले पर आदेश मिल सकता है.  पूर्व भारतीय कप्तान द्रविड़ ने 26 सितंबर को मुंबई में हुई व्यक्तिगत सुनवाई में अपना पक्ष रखा था. हालांकि आचरण अधिकारी ने सोमवार को दूसरी बार द्रविड़ को आने के लिए कहा. पीटीआई के अनुसार एनसीए प्रमुख का प्रतिनिधित्व उनके वकील ने किया. बोर्ड अधिकारी ने कहा कि बीसीसीआई (BCCI) के वकील और शिकायतकर्ता गुप्ता का पक्ष भी सुना गया.

rahul dravid, bcci, cricket, sport news राहुल द्रविड़, बीसीसीआई, क्रिकेट
राहुल द्रविड़ पर एनसीए में नियुक्ति के बाद हितों के टकराव का आरोप लगा था


द्रविड़ पर लगा था ये आरोप

भारतीय क्रिकेट के सबसे सम्मानित व्यक्तियों में से एक द्रविड़ पर एनसीए में नियुक्ति के बाद हितों के टकराव का आरोप लगा था चूंकि वह इंडिया सीमेंट्स (India Cements) के कर्मचारी है जो चेन्नई सुपर किंग्स टीम की मालिक है. हालांकि द्रविड़ ने अपना जवाब जैन को भेज दिया था, लेकिन यह पता नहीं चला कि उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दिया था या नहीं. सीओए ने उनकी नियुक्ति के समय स्पष्ट किया था कि द्रविड़ को इंडिया सीमेंट्स के उपाध्यक्ष का पद छोड़ना होगा या कार्यकाल पूरा होने तक छुट्टी पर रहना होगा.  इसके बाद भारत के पूर्व बल्लेबाज ने इंडिया सीमेंट्स ने अवैतनिक अवकाश मांगा था. जिसके बाद संजीव गुप्ता ने उनके खिलाफ शिकायत की थी.

छुट्टी लेने का मतलब यह नहीं कि पद नहीं है
बीसीसीआई (BCCI) की प्रशासकों की समिति (Committee of administrators) ने हितों के टकराव मामले (Conflict of Interest) में क्‍लीन चिट मिलने  के बाद  लोकपाल सह आचरण अधिकारी डीके जैन ने इस शिकायत के आधार पर काम किया. जैन ने कहा था कि कि किसी नौकरी से छुट्टी लेने का मतलब यह नहीं है कि आपके पास वह पद नहीं है. हितों के टकराव के नियम साफ है और मैं उन्‍हीं का पालन कर रहा हूं.'ऐतिहासिक डे-नाइट टेस्ट पर मंडराया बड़ा खतरा, BCCI ने उठाया ये कदम

इस दिग्गज क्रिकेटर ने दिया बड़ा बयान, कोहली और रोहित से की पंत की तुलना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 8:15 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर