राहुल द्रविड़ का बड़ा खुलासा- बतौर क्रिकेटर असुरक्षित महसूस करता था

राहुल द्रविड़ का बड़ा खुलासा- बतौर क्रिकेटर असुरक्षित महसूस करता था
राहुल द्रविड़ ने क्यों कहा कि वो आज किसी टीम में जगह नहीं बना पाते

राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने मानसिक स्वास्थ्य को बेहद अहम बताया और कहा कि आज इसपर खुलकर चर्चा होना बहुत अच्छी बात है

  • Share this:
नई दिल्ली. एक महान बल्लेबाज जिसने वनडे और टेस्ट फॉर्मेट में 10-10 हजार से ज्यादा रन बनाए, वो खिलाड़ी खुद को असुरक्षित महसूस करता था. राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने ऐसे ही चौंकाने वाली बात कही है. राहुल द्रविड़ ने राजस्थान रॉयल्स फाउंडेशन की ओर से आयोजित एक वेबीनार में मानसिक स्वास्थ्य पर अपनी बात रखी. जिसमें उन्होंने बताया कि वो भी एक युवा क्रिकेटर की तरह असुरक्षित महसूस करते थे. इस वेबीनार में राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने मानसिक स्वास्थ्य के बारे में खुलकर बात करने के लिए मौजूदा समय के खिलाड़ियों की तारीफ भी की.

मानसिक स्वास्थ्य पर ये बोले राहुल द्रविड़
मानसिक स्वास्थ्य को लेकर आयोजित वेबीनार 'माइंड, बॉडी और सोल' के पहले सेशन में राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने कहा, खेल और क्रिकेट में मानसिक स्वास्थ्य एक बड़ा मुद्दा रहा है. लेकिन पिछले 10 सालों से इस मुद्दे पर चर्चा हो रही है और खिलाड़ी भी खुलकर इस पर बात करने की हिम्मत जुटा रहे हैं.' राहुल द्रविड़ के मुताबिक क्रिकेट का माहौल बेहद मुश्किल होता है और खिलाड़ी पर काफी दबाव भी होता है. द्रविड़ ने कहा कि पहले खिलाड़ी दबाव मानने से हिचकिचाते थे लेकिन अब खिलाड़ी खुलकर सामने आ रहे हैं इसे लेकर बेहतर चर्चा हो रही है.

राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने बताया कि अब क्रिकेट बोर्ड खिलाड़ियों के मानसिक स्वास्थ्य पर ज्यादा ध्यान दे रहा है. ये गेंदबाजी और बल्लेबाजी नहीं सिर्फ और सिर्फ मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित है. राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने बताया कि टीम में खेल मनोचिकित्सक की यही भूमिका होती है कि वो आपको मैदान के बाहर मानसिक तौर पर तैयार करता है जिससे आप अच्छा प्रदर्शन कर सकें. मानसिकता से खेल पर गजब का असर पड़ता है.
राहुल द्रविड़ महसूस करते थे असुरक्षा




बता दें हाल के दिनों में ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेटर ग्लेन मैक्सवेल, पुकोवोस्की मानसिक तौर पर थके होने की वजह से छुट्टी ले चुके हैं. मैक्सवेल ने माना था कि वो वर्ल्ड कप के दौरान डिप्रेशन में चले गए थे और वो सोच रहे थे कि किसी तरह उन्हें चोट लग जाए और वो मैच ना खेल पाएं. इसके बाद मैक्सवेल ने मानसिक तौर पर तैयार होने के लिए क्रिकेट से ब्रेक लिया और वापसी के बाद उन्होंने पहले की ही तरह अच्छी बल्लेबाजी भी की.

भारत के ऑस्ट्रेलिया दौरे का ऐलान, 11 अक्टूबर को खेला जाएगा पहला टी20, ये है पूरा शेड्यूल

सचिन को लारा के बेटे में दिखती है अपनी झलक, तस्वीर शेयर करके बताई वजह
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज