भारत को वर्ल्ड चैंपियन बना चुके हैं राहुल द्रविड़, BCCI ने इन खूबियों की वजह से लगाया दांव

श्रीलंका दौरे पर राहुल द्रविड़ टीम इंडिया के कोच होंगे (Prithvi Shaw/Instagram)

श्रीलंका दौरे पर राहुल द्रविड़ टीम इंडिया के कोच होंगे (Prithvi Shaw/Instagram)

पृथ्वी शॉ, मयंक अग्रवाल, ईशान किशन और शुभमन गिल सहित कई युवाओं के करियर को बदलने का श्रेय द्रविड़ को दिया जाता है.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारत के पूर्व कप्तान और महान बल्लेबाज राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) की गैरमौजूदगी में भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के मुख्य कोच का पद संभालने के लिए पूरी तरह तैयार हैं. द्रविड़ इस साल जुलाई में श्रीलंका के अपने आगामी दौरे (India vs Sri Lanka) पर टीम के मुख्य कोच होंगे. उस समय मेजबान टीम के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए इंग्लैंड में विराट कोहली (Virat Kohli) की अगुवाई वाली टीम के साथ रवि शास्त्री होंगे. ऐसे में बीसीसीआई ने श्रीलंका के खिलाफ सीमित ओवरों की सीरीज के लिए राहुल द्रविड़ के नेतृत्व में दूसरी टीम को भेजेगा.

हालांकि, यह पहली बार होगा जब वह मुख्य कोच के रूप में सीनियर भारतीय टीम के साथ होंगे. वर्तमान में राहुल द्रविड़ राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (NCA) के प्रमुख हैं. इससे पहले वह 2014 के इंग्लैंड दौरे के दौरान टीम इंडिया के बल्लेबाजी सलाहकार के रूप में काम कर चुके हैं. महान बल्लेबाज ने अतीत में भारत अंडर -19 और भारत ए टीमों के साथ भी काम किया है. पृथ्वी शॉ, मयंक अग्रवाल, ईशान किशन और शुभमन गिल सहित कई युवाओं के करियर को बदलने का श्रेय द्रविड़ को दिया जाता है.

भारत-इंग्लैंड टेस्ट सीरीज के एक हफ्ते पहले शुरू होने से माइकल वॉन बेहद खुश, कही ये बात

राहुल द्रविड़ के पास एक कोच के रूप में प्रभावशाली रिज्यूमे है. आइए यहां हम उनके कोचिंग करियर के कुछ प्रमुख हाइलाइट्स पर एक नजर डालते हैं:
अंडर-19 वर्ल्ड कप 2016 (रनर्स अप)

राहुल द्रविड़ ने 2015 में इंडिया अंडर 19 टीम और टीम ए के हेड कोच का पदभार संभाला था. इसके बाद उनका सबसे पहला मुख्य काम था- अंडर-19 वर्ल्ड कप 2016. ईशान किशन के नेतृत्व वाली अंडर-19 भारतीय टीम ने लीग चरण में आयरलैंड, न्यूजीलैंड और नेपाल के खिलाफ जीत के साथ शानदार शुरुआत की. भारत ने क्वार्टर फाइनल में नामीबिया को हराने के बाद सेमीफाइनल में श्रीलंका को हराया. फाइनल से पहले भारतीय टीम आशा और आत्मविश्वास से भरी हुई थी, लेकिन ईशान किशन की कप्तानी वाली टीम को फाइनल में वेस्टइंडीज के हाथों पांच विकेट से हार का सामना करना पड़ा.

टीम ए के साथ किया खूब काम, तैयार किए खिलाड़ी



राहुल द्रविड़ को कई युवाओं के ए टीम से सीनियर राष्ट्रीय टीम में आसानी से जाने में मदद करने का श्रेय भी दिया जाता है. मयंक अग्रवाल, ऋषभ पंत, हनुमा विहारी समेत ऐसे कई खिलाड़ी हैं, जो एक वक्त पर राहुल द्रविड़ की मेंटोरिशप में टीम ए में खेले हैं. 2018-19 में, मयंक अग्रवाल ने इसी साल के अंत में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बॉक्सिंग डे मैच में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण करने से पहले भारत ए के साथ इंग्लैंड और न्यूजीलैंड का दौरा किया था, जहां उन्होंने अर्धशतक से प्रभावित किया था.

WTC Final: सचिन-राहुल द्रविड़ से मिलकर बना है न्यूजीलैंड के इस क्रिकेटर का नाम

अंडर-19 वर्ल्ड कप 2018 (चैंपियन)

मुख्य कोच के रूप में राहुल द्रविड़ की सबसे बड़ी उपलब्धि 2018 में आईसीसी अंडर-19 विश्व कप के दौरान आई थी, जब उन्होंने पृथ्वी शॉ की अगुवाई वाली भारतीय टीम को अपने पहले प्रयास में चूकने के बाद वर्ल्ड कप ट्रॉफी जीतने में मदद की थी. भारत ने ऑस्ट्रेलिया, जिम्बाब्वे और बांग्लादेश को लीग स्टेड में हराने के बाद सेमीफाइनल में पाकिस्तान को हाई वोल्टेज मैच में करारी शिकस्त दी. पृथ्वी शॉ की कप्तानी वाली टीम का सामना एक बार फिर से फाइनल में ऑस्ट्रेलिया से हुआ. उन्होंने ऑस्ट्रेलिया को टूर्नामेंट में दूसरी बार मात देकर वर्ल्ड कप ट्रॉफी पर अपना कब्जा जमाया. इस वर्ल्ड कप ने पृथ्वी शॉ, शुभमन गिल, शिवम मावी और कमलेश नागरकोटी के साथ-साथ कई खिलाड़ी देश को दिए.

ऑस्ट्रेलिया में शुभमन गिल के शानदार खेल के पीछे राहुल द्रविड़ की सलाह थी (Shubman Gill/Instagram)

सुपर हिट कोच हैं राहुल द्रविड़

अंडर-19 और इंडिया-ए टीम के कोच बनने से पहले द्रविड़ 2012-13 में आईपीएल टीम राजस्थान रॉयल्स (राजस्थान रॉयल्स) के कोच, कप्तान और मेंटोर की भूमिका निभा चुके हैं. उनकी कोचिंग में ही राजस्थान 2013 में लीग का प्लेऑफ खेली थी. इतना ही नहीं, राजस्थान टीम के कोच रहते हुए उन्होंने ब्रैड हॉग जैसे खिलाड़ी को मैच फिनिशर के रूप में तब्दील किया. 2016 में भारतीय अंडर-19 टीम का कोच बनने से पहले द्रविड़ के पास दिल्ली डेयरडेविल्स (अब दिल्ली कैपिटल्स) का कोच बनने का ऑफर था, लेकिन उन्होंने इस डील को ठुकराते हुए अंडर-19 टीम को कोचिंग देने का फैसला किया.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज