खेल

राहुल द्रविड़ ने कैसे रिहैबलिटेशन के दौरान कमलेश नागरकोटी को किया मोटिवेट, कोच ने बताया

चोट की वजह से यह युवा पेसर तकरीबन दो साल तक क्रिकेट से दूर रहा, लेकिन इस दौरान राहुल द्रविड़ ने कमलेश का काफी साथ दिया.
चोट की वजह से यह युवा पेसर तकरीबन दो साल तक क्रिकेट से दूर रहा, लेकिन इस दौरान राहुल द्रविड़ ने कमलेश का काफी साथ दिया.

कमलेश नारगकोटी (Kamlesh Nagarkoti) के कोच सुरेंद्र राठौड़ (Surendra Rathore) ने बताया कि किस तरह एनसीए में रिहैबलिटेशन के दौरान राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने इस पेसर की मदद की और उन्हें मोटिवेट किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 2, 2020, 4:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: कोरोना वायरस महामारी की वजह से इस साल यूएई में खेले जा रहे इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) में अबतक कुछ खिलाड़ियों ने शानदार परफॉर्मेंस दिखाया है. इस टूर्नामेंट में एक तरफ जहां कई अनुभवी खिलाड़ी संघर्ष करते हुए दिखाई पड़ रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ युवा खिलाड़ी अपने प्रदर्शन से सभी को चौंका रहे हैं. इस टूर्नामेंट में कुछ युवा पेसरों पर भी सबकी निगाहें टिकी हुई हैं, जो भविष्य के लिए तैयार हो सकते हैं. इन्हीं में से एक पेसर हैं कोलकाता नाइट राइडर्स के कमलेश नागरकोटी (Kamlesh Nagarkoti) .

2018 में न्यूजीलैंड में खेले गए अंडर-19 वर्ल्ड कप में कमलेश नागरकोटी भारतीय टीम का हिस्सा थे. पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) की कप्तानी में भारत ने यह वर्ल्ड कप जीता था और इस टूर्नामेंट में नागरकोटी ने अपना खासा प्रभाव छोड़ा था. नागरकोटी के परफॉर्मेंस से पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) भी खासे इंप्रेस हुए थे और कहा था कि भविष्य के लिए इस पेसर पर नजर रखी जानी चाहिए. कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) ने 2018 के ऑक्शन में 3.8 करोड़ रुपये में खरीदा था. हालांकि, इसके बाद नागरकोटी 2020 में आईपीएल डेब्यू कर पाए.

चोट की वजह से यह युवा पेसर तकरीबन दो साल तक क्रिकेट से दूर रहा, लेकिन इस दौरान राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने कमलेश का काफी साथ दिया. राहुल द्रविड़ नेशनल क्रिकेट अकादमी (NCA) में कोच हैं. उन्होंने नागरकोटी के इंजुरी पीरियड में काफी मदद की.



IPL 2020: खुद को बेहद रोमांटिक मानते हैं यशस्वी जायसवाल, इस एक्ट्रेस से मिलने के देखते हैं सपने
कमलेश नारगकोटी के कोच सुरेंद्र राठौड़ ने टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में कहा, ''वह राहुल द्रविड़ ही थे, जिन्होंने बीसीसीआई (BCCI) से कमलेश को इलाज के लिए यूके भेजने के लिए कहा था. इसके अलावा, हर बार जब वह भर्ती होता था, द्रविड़ उससे मिलते थे. द्रविड़ अक्सर कमलेश को मोटिवेट करते थे. वह उसे बताते थे कि इंजुरी स्पोर्ट्सपर्सन की जिंदगी का हिस्सा हैं. आपको उस अनुभव से सीखना चाहिए और मजबूत बनना चाहिए.''

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को हुआ कोरोना, वीरेंद्र सहवाग ने निपटने के लिए दिया आशीर्वाद

केकेआर ने 20 साल के कमलेश नागरकोटी को इंजुरी के बाद मौका दिया. पेसर के रिहैबलिटेशन पूरा करने के बाद कोच राठौड़ ने उनकी बॉलिंग में कुछ बदलाव भी करवाए. उन्होंने कहा, ''उनकी गेंदबाजी में मैंने कोई बड़ा बदलाव नहीं किया. उनका एक्शन थोड़ा गलत हो रहा था, इसलिए हमने इसे ठीक किया. उनका लैंडिंग पैर थोड़ा गलत पड़ रहा था और उनकी नॉन-बॉलिंग आर्म अंदर से आ रही थी। हमने उस पर काम किया. ऑल्टरनेट दिनों पर कमलेश ने अपनी बल्लेबाजी पर भी काम किया.''
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज