लाइव टीवी

रणजी ट्रॉफी की इस टीम ने एक साथ बाहर किए 14 खिलाड़ी, जानिए क्या है वजह

News18Hindi
Updated: December 7, 2019, 5:02 PM IST
रणजी ट्रॉफी की इस टीम ने एक साथ बाहर किए 14 खिलाड़ी, जानिए क्या है वजह
अनुरीत सिंह रेलवे की ओर से खेलते हैं

रेलवे (Railway) ने जिन खिलाड़ियों को टीम से बाहर का रास्ता दिखाया है उसमें महेश रावत (Mahesh Rawat) और अनुरीत सिंह (Anureet Singh) जैसे बड़े नाम भी शामिल है

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 7, 2019, 5:02 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कुछ समय में ही रणजी ट्रॉफी 2019-20 (Ranji Trophy 2019-20) सीजन शुरू होने वाला है. लगभग सभी टीमों ने इस सीजन के लिए अपनी टीमें तय कर ली है. इस सीजन में रेलवे (Railway) की टीम एकदम अलग रूप में दिखने वाली है और इसकी वजह यह है कि वह रेलवे (Railway) ने ऑलराउंडर आशीष यादव (Ashish Yadav), तेज गेंदबाज अनुरीत सिंह (Anureet Singh) जैसे 14 खिलाड़ियों को टीम में शामिल नहीं किया गया है.

रेलवे ने 14 खिलाड़ियों को दिखाया बाहर का रास्ता
रेलवे (Railway) ने जिन खिलाड़ियों को टीम से बाहर का रास्ता दिखाया है उसमें महेश रावत (Mahesh Rawat) भी शामिल है, जो कि पिछले सीजन में रेलवे की ओर से सबसे ज्यादा 478 रन बनाने वाले बल्लेबाज थे. पिछले साल केवल तीन मैचों में 19 विकेट लेने वाले अभिषेक मिश्रा (Abhishek Mishra) भी इस सीजन में टीम का हिस्सा नहीं है. रेलवे (Railway) के मुताबिक इन सभी खिलाड़ियों को अनुशासन तोड़ने के कारण टीम से बाहर किया गया है. हालांकि टीम के खिलाड़ियों का कहना कुछ और है.

टीम सेलेक्शन से नाखुश खिलाड़ियों ने की थी बोर्ड चैयरमैन से मुलाकात

ट्रिब्यून की खबर के मुताबिक रेलवे (Railways) की टीम के 15 खिलाड़ी  रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव (Vinod Kumar Yadav) से मिलने गए थे क्योंकि यह खिलाड़ी विजय हजारे और सैयद मुश्ताक ट्रॉफी के लिए टीम सेलेक्शन से खुश नहीं थे.  इन खिलाड़ियों में केवल गेंदबाज अविनाश  मिश्रा (Avinash Mishra) को शामिल किया गया.

anureet singh, cricket news, ranji team
अनुरीत सिंह उन खिलाड़ियों में शामिल हैं जिन्हें रणजी टीम से बाहर किया गया है


टीम के सीनियर खिलाड़ी ने बताया कि उनके साथ ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि उन्होंने रेलवे गेम्स कॉर्डिनेटर संजय कुमार (Sanjay Kumar) और टीम के सेलेक्टर्स के खिलाफ शिकायत की थी. रेलवे बोर्ड से हुई मीटिंग के बाद बोर्ड सेक्रेटरी सुशांत मिश्रा (Sushant Mishra) ने खिलाड़ियों से मुलाकात की थी और कहा था कि ट्रायल मैच के दम पर खिलाड़ियों का चयन किया जाएगा. हालांकि कोई ट्रायल मैच नहीं हुआ और खिलाड़ियों को बिना ट्रायल के ही सेलेक्ट कर लिया गया.गेम्स कॉर्डिनेटर संजय कुमार के खिलाफ हुई शिकायत
इस बीच संजय कुमार के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई है. इस शिकायत में सेलेक्शन कमेटी पर सवाल उठाए गए हैं कि टीम में उन खिलाड़ियों को शामिल किया गया है जो विशाखापत्तनम में हुए ट्रेनिंग कैंप का हिस्सा भी नहीं थे. शिकायत में कहा गया था कि तेज गेंदबाज विकास टोकस (Vikas Tokas) जो सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में दिल्ली की ओर से खेले और केशव कुमार (Keshav Kumar) जो बिहार की ओऱ से विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) खेले उन्हें बिना एनओसी के टीम में शामिल कर लिया गया है.  इस मुद्दे पर रेलवे बोर्ड प्रमोशन बोर्ड सेक्रेटरी प्रेमचंद का कहना है कि बोर्ड इस मुद्दे में दखलअंदाजी नहीं करेगा.

जीत के बावजूद युवराज ने बताया टीम इंडिया का खराब प्रदर्शन, बोर्ड पर दागा सवाल

BCCI के निशाने पर आया वो मैच, जिस पर लगा ‌था 225 करोड़ रुपये का सट्टा!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 7, 2019, 1:14 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर