आकाश चोपड़ा से बात करते हुए भड़का पाकिस्तान का पूर्व कप्तान, कहा- तारीफ करते हुए दिल तड़पता है

आकाश चोपड़ा से बात करते हुए भड़का पाकिस्तान का पूर्व कप्तान, कहा- तारीफ करते हुए दिल तड़पता है
आकाश चोपड़ा ने शेयर किया वीडियो, सोशल मीडिया पर डर गए लोग

रमीज राजा (Ramiz Raja) का बड़ा बयान कहा- पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड फिक्सिंग करने वाले खिलाड़ियों को बड़ी गलतियां करने की छूट देता है

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 12, 2020, 5:28 PM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. पाकिस्तान की क्रिकेट टीम में कई टैलेंटेड खिलाड़ी रहे हैं, इसमें कोई दो राय नहीं लेकिन उसके खिलाड़ियों ने स्पॉट फिक्सिंग कर अपने देश की नाक भी कटाई है. रविवार को YouTube पर आकाश चोपड़ा और पाकिस्तान के पूर्व कप्तान रमीज राजा के बीच इस मुद्दे पर भी चर्चा हुई. इस चर्चा के दौरान रमीज राजा बुरी तरह भड़क गए और उन्होंने पीसीबी और उसके रवैये पर सवालिया निशान भी खड़े कर दिये.

फिक्सिंग के दोषियों को माफ करने पर भड़के रमीज
आकाश चोपड़ा ने रमीज राजा (Ramiz Raja) से मैच फिक्सिंग में फंसे खिलाड़ियों को माफ करने की पीसीबी की मानसिकता पर भी सवाल पूछा. जिसके बाद रमीज राजा बहुत ज्यादा गुस्से में आ गए. रमीज राजा (Ramiz Raja) ने कहा, 'मेरा शुरू से मानना है कि फिक्सिंग में फंसे खिलाड़ियों को कभी दोबारा मौका नहीं मिलना चाहिए, चाए वो कितना भी बड़ा खिलाड़ी क्यों ना हो. हम उनकी वापसी कर उन क्रिकेटरों का अपमान करते हैं जो अपना खेल बेहद ईमानदारी के साथ खेलते हैं. हालांकि पीसीबी का रवैया ही अलग है. वो टैलेंटेड खिलाड़ी को ज्यादा गलतियां करने की छूट देते हैं और कमजोर खिलाड़ी को वो छोटी-छोटी गलती पर भी टीम से बाहर कर देते हैं. पाकिस्तान में तो उन्हें बहुत जल्दी माफी मिल जाती है.'

फिक्सिंग के दोषी उसूलों का ज्ञान देता है



रमीज राजा (Ramiz Raja) ने आगे कहा, ' मेरा खून खौलता है कि जो खिलाड़ी फिक्सिंग में फंसता है वो पाकिस्तानी मीडिया में बतौर एक्सपर्ट ज्ञान बांटता है. वो उसूलों की बात करते हैं. अभी शरजील खान ने वापसी की है और अचानक उसकी तारीफ होने लगी है. बाकी लड़कों का क्या कसूर है जो अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं और हम उन खिलाड़ियों को दोबारा मौका दे रहे हैं जो फिक्सिंग करते हैं. मेरा तो दिल तड़प जाता है जब कमेंट्री के दौरान इन खिलाड़ियों की तारीफ करनी पड़ जाती है. मैं अगर पीसीबी में ताकतवर पद पर होता तो कभी इनकी वापसी नहीं हो पाती.'





पाकिस्तान में सब तीसमार खां!
आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने रमीज राजा से ये भी सवाल किया कि आखिर पाकिस्तानी टीम इतने कप्तान क्यों बदलती है? रमीज राजा ने जवाब दिया, 'पाकिस्तान में इसलिए ज्यादा कप्तान होते हैं क्योंकि हर कोई खुद को तीसमारखां समझता है, हर कोई कहता है कि मैं तुमसे ज्यादा क्रिकेट जानता हूं. मुझे लगता है मैनेजमेंट के काफी मसले हैं पाकिस्तान में. 90 के दशक में जब पाकिस्तान की टीम बहुत मजबूत थी तब भी लड़ाइयां होती थी. या तो खिलाड़ी आपस में लड़ते थे या पीसीबी खिलाड़ियों को एक-दूसरे से लड़ाता था.

रमीज राजा (Ramiz Raja) ने कहा, 'मुझे भी इसलिए कप्तान बनाया गया था ताकि फिक्सिंग जैसे मसलों से हम उबर सकें. इमरान खान के जाने के बाद पाकिस्तान पूरी तरह से रास्ता भटक गया क्योंकि इमरान खान जब थे तो पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड था ही नहीं. इमरान खान ही खुद सेलेक्टर थे और अध्यक्ष भी. हालांकि जब पाकिस्तान क्रिकेट टीम की कमान युवा खिलाड़ियों को सौंपी गई वैसे ही दिक्कतें भी शुरू हो गई. हमारी टीम में बहुत अच्छा टैलेंट आया लेकिन उन्होंने गलती की और पाकिस्तान क्रिकेट 5-7 साल पीछे चला गया. अगर मैनेजमेंट सही होता तो खिलाड़ी फिक्सिंग जैसी गलती भी ना करते. अब हालांकि हालात थोड़े बेहतर हुए हैं लेकिन अब भी सुधार की काफी गुंजाइश है.

कोच नहीं अच्छा कप्तान जरूरी
रमीज राजा ने बताया कि पाकिस्तान में अच्छे कप्तान पर नहीं बल्कि अच्छे कोच पर ज्यादा जोर दिया जाता है. रमीज ने कहा, 'हम कोच ढूंढने में इतनी ताकत लगाते हैं, दुनियाभर के इंटरव्यू लेते हैं. जब कप्तान चुनना होता है तो सिर्फ 2 मिनट में फैसला आ जाता है. ये हॉकी और फुटबॉल तो है नहीं कि बाहर से कप्तानी हो जाएगी. पाकिस्तान में कप्तान पर सबसे कम ध्यान होता है. टैलेंट होता है गेंदबाजी और बल्लेबाजी में लेकिन दिमाग से भी टैलेंट होना जरूरी है.'

ज्यादा खेलने से दिमाग पर पड़ रहा था असर, न खेलने से क्या होगा खिलाड़ियों का
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading