28 साल की उम्र में डेब्यू, आते ही ली हैट्रिक, 80 साल बाद दुनिया में हुआ कुछ ऐसा कमाल

रवि यादव ने फर्स्ट क्लास डेब्यू के पहले ही ओवर हैट्रिक लेकर कमाल कर दिया

कुछ ऐसा ही कमाल आज से 80 साल पहले साउथ अफ्रीका (South Africa) के गेंदबाज ने किया था.

  • Share this:
    नई  दिल्ली. चोट के चलते एक समय ‌क्रिकेट से दूर होने वाले मध्यप्रदेश के गेंदबाज रवि यादव (Ravi Yadav) आखिरकार अपना नाम रिकॉर्ड बुक में लिखवाने में कामयाब हो ही गए. रवि यादव अपने फर्स्ट क्‍ लास क्रिकेट में डेब्यू के पहले ही ओवर में हैट्रिक लेने वाले दुनिया के पहले गेंदबाज  बन गए हैं. यह भी खास है कि उन्होंने यह कारनामा यूपी के खिलाफ किया, जहां से वह ताल्लुक रखते हैं. मगर मौका न मिलने के कारण उन्हें अपना राज्य छोड़ना पड़ गया था. इससे पहले साउथ अफ्रीका के राइस फिलिप्स के नाम फर्स्ट क्लास क्रिकेट के अपने पहले ओवर में हैट्रिक लेने का रिकॉर्ड था. उन्होंने यह कमाल बॉर्डर की  ओर से ईस्टर्न प्रोविनस के खिलाफ 1939-1940 में किया था, लेकिन उन्‍होंने इससे पहले अपने चार मुकाबलों में गेंदबाजी नहीं की थी.

    वहीं सात भारतीय गेंदबाजों के नाम डेब्यू मैच में हैट्रिक लेने का रिकॉर्ड हैं. जिसमें जवागल श्रीनाथ, सलिल अंकोला और अभिमन्यु मिथुन काफी चर्चित नाम हैं. हालांकि रवि का यह रिकॉर्ड अपने आप में खास है, क्योंकि उन्होंने डेब्यू के पहले ही ओवर में हैट्रिक ली है.

    ravi yadav, ranji trophy, Madhya Pradesh vs Uttar Pradesh, mp vs up, first class, suresh raina, cricket, sports news, रवि यादव, रणजी ट्रॉफी, सुरेश रैना, आरपी सिंह, मध्य प्रदेश बनाम उत्तर प्रदेश, क्रिकेट, स्पोर्ट्स न्यूज
    रवि यादव चार साल तक क्रिकेट से दूर रहे थे (फोटो क्रेडिट mpca)


    फर्स्ट क्लास क्रिकेटर बनने के बाद ली चैन की नींद
    रवि यादव ने मैच के बाद क्रिकइंफो से बात करते हुए कहा कि मैच के बाद वह चैन की नींद लेंगे, क्योंकि अब वह जानते हैं कि वह फर्स्ट क्लास क्रिकेटर बन गए हैं. दरअसल 2010 से 2014 के बीच खेल से दूर होने के बाद उन्होंने इसके बारे में साेचा भी नहीं होगा कि वह फर्स्ट क्लास क्रिकेटर बन जाएंगे. उन्होंने कहा कि यह रिकॉर्ड उन्होंने यूपी के खिलाफ बनाया. वह यूपी में क्रिकेट खेलते हुए बड़े हुए थे, मगर अंडर 19 के बाद से उन्हें कोई मौका नहीं मिला. रवि के कहा कि अब वह खुश है कि आखिरकार वह अब रणजी खिलाड़ी हैं. 28 साल के रवि लखनऊ के स्पोर्ट्स कॉलेज से हैं. यह वही कॉलेज है, जिसने सुरेश रैना (Suresh Raina) और आरपी सिंह (RP Singh) को क्रिकेटर बनाया. रवि का कहना है कि 2010 में उन्हाेंने रैना को कई बार गेंदबाजी की थी. मगर अब उन्हें नहीं पता कि 'रैना भाई' को याद भी होगा.

    URESH RAINA, CRICKET NEWS, SPORTS NEWS,,SURESH RAINA
    रवि यादव सुरेश रैना को भी गेंदबाजी करवा चुके हैं  (फाइल फोटो)


    साथी खिलाड़ियों काे देखकर बढ़ाते थे उत्साह
    कॉलेज से ग्रेजुएट होने के बाद 2010 से 2014 के बीच चोट ने रवि के करियर को झटका दे दिया. उन्होंने अपने करियर को बर्बाद होते देखा. वह नहीं जानते थे कि उनका भविष्य कहां है. रवि ने कहा कि उन्होंने  अंडर19 के अपने टीम के साथियों को बढ़ते हुए देखा और वह सोचते थे कि सभी साथ में बढ़े हुए. वह अगले स्तर पर चले गए और वह वहीं पर रह गए. रवि ने बताया कि वें उन्हें देखकर अपना उत्साह बढ़ाते थे. मगर दुर्भाग्य से उन्हें यूपी में मौका नहीं मिला.

    Rising UP 2020: पूर्व क्रिकेटर आरपी सिंह बोले- पॉलिटिक्स में कोई रुचि नहीं, धोनी-युवी के बारे में कही ये बात | Rising UP 2020 Former cricketer RP Singh said no interest in politics and Yuvraj Singh and Mahendra Singh Dhoni was glamorous
    रवि यादव जिस कॉलेज से हैं, सुरेश रैना और आरपी सिंह भी वही से क्रिकेटर बनकर निकले थे. (File Photo)


    अब घर में गर्व से बता सकते हैं.
    2016 में रवि मध्य प्रदेश चले गए और वहां से खेलने लगे. उन्होंने स्‍थानीय टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन किया और जल्द ही राज्य के नेट बाॅलर बन गए.  तीन साल तक वह नेट बॉलर रहे. सीनियर खिलाड़ी अक्सर उनकी मदद करते थे. इस दौरान उनके परिवार वाले उनसे चिढ़ गए, क्योंकि रवि ने पूरी  तरह से क्रिकेट खेलने के लिए रेलवे  की नौकरी छोड़ दी थी. इस पर परिवार वाले उन पर काफी नाराज हुए. रवि परिवार वालों से आंख भी नहीं मिला पा रहे थे. वें खुद को फेलियर की तरह महसूस  कर रहे थे. मगर अब वह अपने परिवार को गर्व से बुला सकते हैं और उन्हें बता सकते हैं कि उन्होंने रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) में डेब्यू कर लिया है. यहां तक कि हैट्रिक भी ली है.

    इंग्लैंड से सीरीज गंवाने के बाद साउथ अफ्रीका की पूरी टीम को मिली सजा!

    न्यूजीलैंड टेस्ट सीरीज के लिए हो चुका है टीम का चयन, गांगुली का बड़ा बयान