अश्विन ने पास किया 'यो यो' टेस्ट, युवी-रैना जैसे दिग्गज भी इसमें हो गए थे फेल

भारतीय टीम के हरफनमौला खिलाड़ी रविचंद्रन अश्विन ने बेंगलुरु स्थित राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में यो-यो फिटनेस टेस्ट पास कर लिया.

भाषा
Updated: October 12, 2017, 4:21 PM IST
अश्विन ने पास किया 'यो यो' टेस्ट, युवी-रैना जैसे दिग्गज भी इसमें हो गए थे फेल
रविचंद्रन अश्विन ने यो यो टेस्ट पास कर लिया है (Getty)
भाषा
Updated: October 12, 2017, 4:21 PM IST
भारतीय टीम के हरफनमौला खिलाड़ी रविचंद्रन अश्विन ने बेंगलुरु स्थित राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में यो-यो फिटनेस टेस्ट पास कर लिया. अश्विन ने हाल ही में तमिलनाडु की तरफ से आंध्र प्रदेश के खिलाफ रणजी मैच खेला है.

अश्विन ने ट्वीट किया, "बेंगलुरु का सफर शानदार रहा, यो यो टेस्ट पास किया. अब #रणजीट्रॉफी2017 #टीमतमिलनाडु." इंग्लैंड में वॉरेस्टरशर की ओर से काउंटी क्रिकेट खेलकर लौटने के बाद राज्य (तमिलनाडु) के लिए एमए चिदंबरम स्टेडियम में रणजी ट्रॉफी का पहला मैच खेलने वाले अश्विन यो यो टेस्ट के लिए बेंगलुरु गए थे.

इससे पहले उन्होंने कहा था कि वह यो यो टेस्ट के लिए तैयार हैं. उन्होंने कहा, "मैं मानकों को मानने वाला इंसान हूं, अगर कोई नया मानक बना है तो मैं उसे पाने की पूरी कोशिश करता हूं. हर नेतृत्व के लिए टीम के लिए कुछ योजना होती है. अगर मौजूदा नेतृत्व की यह योजना है तो इसका सम्मान करना चाहिए." ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज़ में जगह बनाने में नाकाम रहे अश्विन के लिए यह देखना दिलचस्प होगा की न्यूज़ीलैंड के साथ सीरीज़ में उन्हें जगह मिलती है या नहीं.

अश्विन 14 अक्तूबर से त्रिपुरा के खिलाफ ग्रुप-सी के रणजी मैच के लिए टीम का हिस्सा होंगे. यो यो टेस्ट उस समय सुर्खियों में आया था जब युवराज सिंह और सुरेश रैना कथित तौर पर इसे पूरा करने में नाकाम रहे थे.

यो-यो टेस्ट क्या है ये भी समझ लें
कुछ 'कोन' की मदद से 20 मीटर की दूरी पर दो लाइनें बनाई जाती हैं. एक खिलाड़ी लाइन के पीछे अपना पांव रखकर खड़ा होता है और निर्देश मिलते ही दौड़ना शुरू कर देता है. खिलाड़ी लगातार तब तक दो लाइनों के बीच दौड़ता रहता है जब तक बीप न बजे. बीप बजते ही उसने मुड़ना होता है.

बीप के साथ तेज़ी भी बढ़ती जाती है. अगर समय पर लाइन तक नहीं पहुंचे तो 'बीप' के बीच में ही तेज़ी पकड़नी पड़ती है. अगर खिलाड़ी दो छोरों पर तेज़ी हासिल नहीं कर पाता है तो टेस्ट रोक दिया जाता है. ये सॉफ्टवेयर पर आधारित होता है.

ये भी पढ़ें:

लकी हैं नेहरा...कपिल देव, प्रभाकर या सहवाग को भी नहीं मिली थी ऐसी विदाई

नेहरा तो अभी भी जवान हैं, क्रिकेट के इन दिग्गजों की उम्र पर ग़ौर फरमाएं
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर