लाइव टीवी

64 साल में 41 बार जीती रणजी ट्रॉफी, इस बार नॉकआउट तक के लिए क्वालीफाई नहीं कर सकी सितारों से भरी ये टीम!

News18Hindi
Updated: February 7, 2020, 5:44 PM IST
64 साल में 41 बार जीती रणजी ट्रॉफी, इस बार नॉकआउट तक के लिए क्वालीफाई नहीं कर सकी सितारों से भरी ये टीम!
मुंबई की टीम इस सीजन में सूर्यकुमार यादव की कप्तानी में रणजी ट्रॉफी खेल रही है. (फाइल फोटो)

भारतीय क्रिकेट (Indian Cricket) के इतिहास में मुंबई (Mumbai) ने रिकॉर्ड 41 बार प्रतिष्ठित रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) पर कब्जा जमाया है. टीम पिछली बार 2015-16 में चैंपियन बनी थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 7, 2020, 5:44 PM IST
  • Share this:
राजकोट. रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) की सबसे सफल टीम मुंबई का 42वीं बार इस खिताब को जीतने का सपना सौराष्ट ने लगभग तोड़ दिया है. सौराष्ट्र की टीम ने 41 बार की विजेता टीम मुंबई के साथ ग्रुप बी का मैच ड्रॉ खेलकर उसे नॉकआउट में पहुंचने से तकरीबन रोक दिया. मुंबई की पूरी टीम सितारों से भरी थी, मगर वह जीत के लिए जरूरी आखिरी के तीन विकेट हासिल नहीं कर पाई और दिन का खेल समाप्त होने तक विपक्षी टीम को ऑल आउट करने में असफल रही. इस ड्रॉ के साथ ही पहली पारी की बढ़त के आधार पर जहां सौराष्ट्र को तीन अंक मिले, वहीं मुंबई की टीम को एक ही अंक मिले और मुंबई की टीम के सात मैचों में एक जीत के साथ कुल 14 अंक हो गए. हालांकि नॉकआउट में पहुंचने के लिए ये अंक काफी नहीं हैं.

cricket news, sports news, ranji trophy, ranji cricket, mumabi vs saurashtra, ranji champion, bcci, indian cricket team, क्रिकेट न्यूज, खेल, मुंबई वस सौराष्ट्र, इंडियन क्रिकेट टीम, रणजी क्रिकेट, रणजी ट्रॉफी, मुंबई क्रिकेट
मुंबई की ओर से सूर्यकुमार यादव ने दूसरी पारी में शतक जड़ा था


पहले बल्लेबाजी करते हुए मुंबई की पहली पारी 262 रनों पर ही सिमट गई. जिसमें जवाब में सौराष्ट ने 335 रन बनाए. वहीं मुंबई ने सूर्यकुमार यादव (SuryaKumar Yadav) के 134 रनों की मदद से सात विकेट पर 362 रन पर अपनी दूसरी पारी घोषित की. मुंबई के पास यहां मैच जीतकर टूर्नामेंट में अपनी उम्मीदों को जिंदा रखने का मौका था.

cricket news, sports news, indian cricket team, virat kohli, sarfaraz khan, ipl, indian premier league, ranji trophy, royal challengers bengaluru, क्रिकेट न्यूज, खेल, विराट कोहली, सरफराज खान, इंडियन क्रिकेट टीम, रणजी ट्रॉफी, आईपीएल, इंडियन प्रीमियर लीग, रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु
मुंबई टीम के पास सरफराज जैसे खिलाड़ी भी थे


आखिरी दिन मुंबई के गेंदबाजों ने कमाल का प्रदर्शन किया और आखिरी सीजन में मुंबई को जीत के लिए सिर्फ तीन विकेट की जरूरत थी, मगर कमलेश और धमेंद्रसिंह ने अपने विकेट गिरने ‌नहीं दिए और दिन का खेल समाप्त होने तक बल्‍लेबाजी करके मैच ड्रॉ करवा लिया.

सितारों से भरी थी टीम
मुंबई की टीम सितारों से भरी थी. टीम में सिद्धेश लाड, आदित्य तारे, सूर्यकुमार यादव, सरफराज खान जैसे खिलाड़ी थे. मगर इसके बावजूद टीम खास प्रदर्शन नहीं कर पाई. पहली पारी में सिद्धेश और सूर्यकुमार  दोनों ही फ्लॉप रहे थे.
आखिरी दिन मुंबई के गेंदबाजों ने कमाल का प्रदर्शन किया और आखिरी सीजन में मुंबई को जीत के लिए सिर्फ तीन विकेट की जरूरत थी, मगर कमलेश और धमेंद्रसिंह ने अपने विकेट गिरने ‌नहीं दिए और दिन का खेल समाप्त होने तक बल्‍लेबाजी करके मैच ड्रॉ करवा लिया.
मुंबई की टीम ने 2016 में रिकॉर्ड 41वां खिताब जीता था. (फाइल फोटो)


कब- कब मुंबई बनीं चैंपियन
मुंबई (Mumbai) की टीम ने लंबे समय तक भारत के घरेलू क्रिकेट में राज किया. 1935, 1936, 1942, 1945, 1949, 1952, 1954, 1956, 1957 में रणजी विजेता बनने के बाद उसने 1959 से 1973 तक लगातार इस खिताब को अपने नाम किया. इसके बाद 1975 और 1976, फिर 1977, 1981, 1984 और 1985 में टीम चैंपियन बनी. हालांकि मुंबई को इसके बाद थोड़ा इंतजार करना पड़ा और इस फिर 1994 में मुंबई की टीम अपने पुराने रंग में नजर आई. 94 के बाद 1995 में भी टीम ने खिताब जीता. फिर 1997,2000, 2003, 2004, 2007, 2009, 2010, 2013, 2016 में भी टीम विजेता बनी.

LIVE मैच में पिच पर हादसा, रन लेते हुए टकराए दोनों बल्लेबाजों के सिर और फिर...

टीम इंडिया के खिलाफ न्यूजीलैंड ने खड़ा किया 5 विकेट पर 276 रनों का स्कोर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 7, 2020, 5:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर