लाइव टीवी

युवराज-हरभजन ने उठाए थे सवाल, अब BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली को देनी पड़ी सफाई

News18Hindi
Updated: October 24, 2019, 1:32 PM IST
युवराज-हरभजन ने उठाए थे सवाल, अब BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली को देनी पड़ी सफाई
पंजाब और मुंबई की टीम को अजीबोगरीब नियमों के चलते विजय हजारे ट्रॉफी के सेमीफाइनल से बाहर होना पड़ा था. (फाइल फोटो)

विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) के इस सीजन में अधिकतर मैचों पर बारिश ने असर डाला है. यहां तक कि नॉकआउट मुकाबलों के नतीजों पर भी इसका प्रभाव पड़ा और पंजाब-मुंबई (Punjab and Mumbai) की टीम को बाहर होना पड़ा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 24, 2019, 1:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) के मौजूदा सीजन में कर्नाटक (Karnataka) और तमिलनाडु (Tamilnadu) के बीच खिताबी मुकाबला खेला जाएगा. मगर इस बार टूर्नामेंट में जिस एक शब्द ने सभी टीमों को प्रभावित किया, वो क्रिकेट नहीं बल्कि बारिश है. अधिकतर टीमों के मुकाबलों में बारिश ने खेल खराब कर दिया. यहां तक कि क्वार्टर फाइनल में ऐसी टीमों पंजाब (Punjab) और मुंबई (Mumbai) को बाहर होना पड़ा जो सेमीफाइनल की होड़ में सबसे आगे नजर आ रही थीं. इसे लेकर टीम इंडिया के पूर्व ऑलराउंडर युवराज सिंह (Yuvraj Singh) और मौजूदा क्रिकेटर हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने भी बीसीसीआई (BCCI) के नियमों पर सवाल उठाए थे. दोनों ने नॉकआउट मुकाबलों में रिजर्व डे (Reserve Day) की जरूरत पर जोर दिया था. इस मुद्दे पर अब बीसीसीआई के नवनियुक्त अध्यक्ष (BCCI President) सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने भी अपनी चुप्पी तोड़ी है.

गांगुली ने कहा-नियमों को आसान करने का प्रयास करेंगे
ईएसपीएनक्रिकइंफो के अनुसार, जब बीसीसीआई अध्यक्ष (BCCI President) सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) से नॉकआउट मुकाबलों में रिजर्व डे (Reserve Day) न होने को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने रिजर्व डे की अहमियत पर सहमति जताई. गांगुली ने कहा, 'जब विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) शुरू हो रही थी, तब सभी राज्य क्रिकेट संघों को इससे संबंधित नियम भेजे जा चुके थे. हम इस बारे में विचार करेंगे और नियमों को आसान बनाने का प्रयास करेंगे. मौजूदा नियम के हिसाब से जो टीमें अधिक मैच जीतेगी वो क्वालीफाई करेगी, इसका मतलब ये हुआ कि लीग चरण में आपके प्रदर्शन का आकलन किया जाएगा. ऐसे में इस नियम को पूरी तरह गलत भी नहीं ठहराया जा सकता. चूंकि क्वार्टर फाइनल और सेमीफाइनल महत्वपूर्ण दौर होता है, ऐसे में इनके लिए रिजर्व डे रखने की बात व्यवहारिक है. ये एक विकल्प हो सकता है.'

cricket, cricket news, sports news, sourav ganguly, yuvraj singh, harbhajan singh, bcci, vijay hazare trophy, क्रिकेट, क्रिकेट न्यूज, स्पोर्ट्स न्यूज, बीसीसीआई, विजय हजारे ट्रॉफी, भारतीय क्रिकेट टीम, युवराज सिंह, हरभजन सिंह, सौरव गांगुली, बीसीसीआई
बीसीसीआई के 39वें अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा है कि नियमों को पूरी तरह गलत नहीं ठहराया जा सकता, लेकिन रिजर्व डे की जरूरत पर विचार किया जा सकता है. (TWITTER)


सबा करीम बोले-हम मौसम से मुकाबला नहीं कर सकते
जब इस बारे में पूर्व क्रिकेटर सबा करीम (Saba Karim) से बात की गई तो उन्होंने कहा, 'रिजर्व डे (Reserve Day) रखना बहुत मुश्किल है क्योंकि हमें कई बातों का ध्यान रखना होता है. हमें ये भी सुनिश्चित करना होता है कि खिलाड़ियों को पर्याप्त आराम मिल सके. मौजूदा टूर्नामेंट में हमें दीवाली और नए साल का भी ध्यान रखना था. हमने बारिश के चलते कार्यक्रम में सर्वश्रेष्ठ बदलाव का हरसंभव प्रयास किया, लेकिन नॉकआउट में ये संभव नहीं था. हम मौसम से मुकाबला नहीं कर सकते. अगर हम यहां रिजर्व डे रखते तो कई टीमें कह सकती हैं कि टी-20 और रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) में रिजर्व डे क्यों नहीं हैं.'

विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) के क्वार्टर फाइनल से बाहर होने के बाद पंजाब (Punjab) के कप्तान मनदीप सिंह (Mandeep Singh) ने बीसीसीआई (BCCI) के नियमों पर सवाल उठाए थे. मनदीप सिंह (Mandeep Singh) ने कहा, 'इस तरह टूर्नामेंट से बाहर होना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है. इस तरह फैसला लेने के लिए ये काफी खराब नियम हैं. अगर बारिश एक दिन पहले आ जाती तो कर्नाटक की जगह पुड्डुचेरी की टीम सेमीफाइनल के लिए क्वालीफाई कर जाती. इसका कोई मतलब नहीं है. नॉकआउट मुकाबलों के लिए निश्चित रूप से रिजर्व डे होना चाहिए था. बीसीसीआई ने भले ही लीग चरण के मैचों को रीशेड्यूल किया था, लेकिन अगर क्वार्टर फाइनल और सेमीफाइनल के बीच एक दिन का गैप है तो उसे रिजर्व डे के तौर पर इस्तेमाल किया जाना चाहिए था.'
Loading...

cricket, cricket news, sports news, sourav ganguly, yuvraj singh, harbhajan singh, bcci, vijay hazare trophy, क्रिकेट, क्रिकेट न्यूज, स्पोर्ट्स न्यूज, बीसीसीआई, विजय हजारे ट्रॉफी, भारतीय क्रिकेट टीम, युवराज सिंह, हरभजन सिंह, सौरव गांगुली, बीसीसीआई
टीम इंडिया के पूर्व बल्लेबाज युवराज सिंह ने बीसीसीआई के नियमों पर सवाल उठाए थे. (फाइल फोटो)


युवराज ने कहा था-रिजर्व डे क्यों नहीं है...
टीम इंडिया के पूर्व ऑलराउंडर युवराज सिंह और हरभजन सिंह ने भी मनदीप सिंह का समर्थन किया था. युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने ट्वीट में बीसीसीआई (BCCI) को टैग करते हुए कहा था, 'विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) में तमिलनाडु के खिलाफ पंजाब के लिए एक और दुर्भाग्यपूर्ण नतीजा रहा. एक बार फिर पंजाब (Punjab) की टीम जीत की ओर बढ़ रही थी, लेकिन खराब मौसम के चलते मैच रद्द कर दिया गया. अंकों के आधार पर हम सेमीफाइनल में नहीं पहुंचे सके. हमारे पास नॉकआउट के लिए रिजर्व डे क्यों नहीं है. या फिर ये घरेलू टूर्नामेंट है और बीसीसीआई के लिए इसका अधिक महत्व नहीं है.' . हरभजन ने कहा था कि ऐसे टूर्नामेंट में रिजर्व डे न रखे जाने का नियम बेहद खराब है. बीसीसीआई को इसे बदलने की ओर देखना चाहिए.

फिलहाल ये हैं बीसीसीआई के नियम
मौजूदा स्थिति में बीसीसीआई (BCCI) का नियम कहता है कि अगर नॉकआउट में किसी मैच का नतीजा नहीं निकलता तो लीग चरण में ज्यादा मैच जीतने वाली टीम अगले दौर में पहुंच जाएगी. अगर दोनों टीमों ने बराबर मैच जीते हैं तो फिर ये देखा जाता है कि दोनों टीमों की आपसी भिड़ंत में किसी टीम ने बाजी मारी. अगर दोनों टीमों का मुकाबला नहीं होता है तो फिर नेट रन रेट देखा जाता है.

बड़ी खबर : एमएस धोनी ने वापसी के लिए शुरू की तैयारी, इस सीरीज से उतरेंगे मैदान पर!

ऑफ स्पिनर से बने इंजीनियर,अमेजन में जॉब की, फिर पेसर बन टीम को फाइनल में ले गए

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 24, 2019, 1:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...