• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • CRICKET ROBIN UTHAPPA REVEAL MS DHONI ASKED KEVIN PIETERSEN TO PLEASE KEEP QUIET

एमएस धोनी को स्‍लेज कर रहे थे पीटरसन, पूर्व भारतीय कप्‍तान ने कहा- मुंह बंद करो अपना

रॉबिन उथप्‍पा ने एमएस धोनी को लेकर कुछ मजेदार खुलासे किए हैं (Robin Uthappa/Instagram)

इंग्‍लैंड के पूर्व कप्‍तान केविन पीटरसन ने कमेंट्री बॉक्‍स से पूर्व भारतीय कप्‍तान एमएस धोनी (MS Dhoni) को स्‍लेज किया था. जिसके बाद धोनी ने उनकी बोलती बंद कर दी

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. भारतीय अनुभवी बल्‍लेबाज रॉबिन उथप्‍पा (robin uthappa) का मानना है कि एमएस धोनी (MS Dhoni) का दिमाग उनके विकेटकीपिंग स्किल्‍स की तुलना में ज्‍यादा तेज है. उथप्‍पा ने पुराने दिनों को याद करते हुए एक किस्‍से का खुलासा किया, जब धोनी ने पूर्व इंग्लिश कप्‍तान केविन पीटरसन (Kevin Pietersen) की बोलती बंद कर थी. बात 2011 में भारत और इंग्‍लैंड के बीच खेले गए एक टेस्‍ट मैच की है. मैच के दौरान पीटरसन को कॉट बिहांड दिया गया, मगर रिव्‍यू लेने के बाद रिप्‍ले में दिखा कि गेंद बल्‍ले के किनारे पर नहीं लगी थी और ऑन फील्‍ड अंपायर को अपना फैसला बदलना पड़ा.

    उथप्‍पा ने खुलासा कि कमेंट्री बॉक्‍स से स्‍लेज करने के बाद धोनी ने पीटरसन को करारा जवाब दिया. धोनी ने पीटरसन को कहा कि सुनो, मुझे आपका विकेट मिल गया है, इसीलिए कृप्‍या चुप रहें. स्‍टैंड अप कॉमेडियन सौरभ पंत के साथ यूट्यूब चैनल पर बात करते हुए उथप्‍पा ने कहा कि धोनी बहुत तेज तर्रार हैं. उनका दिमाग, यदि उनकी विकेटकीपिंग की गति के समान नहीं है तो वह और तेज हो सकती है.

    यह भी पढ़ें: 

    199 शतक और 61000 से ज्यादा रन बनाने सर जैक हॉब्स ने आज ही के दिन लिया था संन्यास

    नीदरलैंड के सहायक कोच बने भारत को वनडे वर्ल्‍ड कप दिलाने वाले गैरी कर्स्‍टन

    उथप्‍पा ने एक और घटना का खुलासा किया, जब 2007 में भारत और ऑस्‍ट्रेलिया के बीच मुंबई में एकमात्र टी20 मैच खेला गया था. उन्‍होंने कहा कि 2007 में जब ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ हमने एकमात्र टी20 मैच खेला था, तो धोनी ने मुझे रिकी पोंटिंग जैसे ऑस्‍ट्रेलिया के कुछ सीनियर खिलाड़ियों को स्‍लेज करने की जिम्‍मेदारी दी थी. उन्‍होंने पोंटिंग को निशाना बनाने के लिए मुझे सिली पॉइंट पर खड़ा किया था. उथप्‍पा ने कहा कि यह काफी मजेदार था.
    Published by:Kiran Singh
    First published: