रॉबिन उथप्‍पा का खुलासा, बताया- आखिर क्‍यों 2-3 साल तक मैथ्‍यू हेडन ने नहीं की बात?

बिन उथप्‍पा और मैथ्‍यू हेडन के बीच 2007 में काफी स्‍लेजिंग हुई थी  (PC- शीतल उथप्पा इंस्टाग्राम)

बिन उथप्‍पा और मैथ्‍यू हेडन के बीच 2007 में काफी स्‍लेजिंग हुई थी (PC- शीतल उथप्पा इंस्टाग्राम)

रॉबिन उथप्‍पा (Robin uthappa) ने खुलासा किया कि ऑस्‍ट्रेलियाई खिलाड़ी मैथ्‍यू हेडन ने उनसे 2-3 साल तक बात नहीं की थी और उन्‍हें उनसे बातचीत की कमी खल रही थी

  • Share this:

नई दिल्‍ली. मैदान पर मैच के दौरान कभी कभार खिलाड़ी आपस में भिड़ जाते हैं, मगर मैच खत्‍म होते ही बात भी खत्‍म हो जाती है. कई बार मैच खत्‍म होने के साथ ही बात खत्‍म नहीं होती और यह नाराजगी लंबी चल जाती है. ऐसे ही एक किस्‍से का खुलासा पूर्व भारतीय क्रिकेटर रॉबिन उथप्‍पा (Robin uthappa) ने किया. उथप्‍पा ने खुलासा किया कि आखिरी किस वजह से मैथ्‍यू हेडन ने उनसे 2 से 3 साल तक बात भी नहीं की थी. उथप्‍पा ने बताया कि 2007 के बाद से जब भी भारत और ऑस्‍ट्रेलिया की टीमें आमने सामने होती थी तो दोनों के बीच जमकर स्‍लेजिंग हुआ करती थी.

साल 2007 में भारत ने पहले टी20 वर्ल्‍ड कप के सेमीफाइनल में ऑस्‍ट्रेलिया को हराया था. इसके बाद एक टी20 और 7 वनडे मैचों की सीरीज में भी बराबरी की. स्‍टैंड अप कॉमेडियन सौरभ पंत से यूट्यूब चैनल पर बात करते हुए उथप्‍पा ने बताया कि दोनों टीमों के बीच स्‍लेजिंग की जो लड़ाई शुरू हुई थी, उसका आगाज टी20 वर्ल्‍ड कप के सेमीफाइनल में हुआ था. उन्‍होंने कहा कि ऑस्‍ट्रेलियाई जब उन पर ताने कस रहे थे तो कुछ ही लोग इसका जवाब दे रहे थे. इनमें से जहीर खान एक थे, मगर किसी बल्‍लेबाज ने जवाब नहीं दिया.

हेडन से बातचीत की खल रही थी कमी

उथप्‍पा ने कहा कि उन्‍होंने एंड्रयू सायमंड्स, मिचेल जॉनसन और ब्रैड हेडन को अपना निशाना बनाया. हेडन का सामना करना उनके लिए सबसे मुश्किल था, क्‍योंकि बतौर शख्‍स और बल्‍लेबाज हेडन ने उन्‍हें प्रेरित किया. उथप्‍पा ने कहा कि उन्‍हें काफी अच्‍छे से याद है कि उस मैच के दौरान जब वह बल्‍लेबाजी कर रहे थे तो हेडन उन पर तंज कस रहे थे, इसीलिए उन्‍होंने भी ऐसा भी करने का फैसला लिया और जब हेडन बल्‍लेबाजी करने आए तो उन्‍होंने भी काफी स्‍लेजिंग की.
भारतीय खिलाड़ी ने कहा कि इस मैच में वह हेडन पर पलटवार करते रहे. यह सब इतना तीखा रहा कि हेडन ने 2 से 3 साल तक उनसे बात तक नहीं की और इस बात ने उन्‍हें काफी आहत किया था. वह बस यही सोच रहे थे कि उन्‍होंने जीतने के लिए यह सब कियाा, जबकि उनका काम हेडन को ज्‍यादा से ज्‍यादा असहज करना था, टीम जीत तो गई, मगर हेडन से उन्‍हें बातचीत की कमी खली.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज