लाइव टीवी

माना जाता था सहवाग का उत्तराधिकारी लेकिन अपने ही हाथों से खराब कर दिया करियर!

News18Hindi
Updated: May 19, 2020, 11:05 PM IST
माना जाता था सहवाग का उत्तराधिकारी लेकिन अपने ही हाथों से खराब कर दिया करियर!
रॉबिन उथप्पा ने कहा- एक गलती से खराब हुआ करियर

टेस्ट मैच खेलने की कोशिश में रॉबिन उथप्पा (Robin Uthappa) ने ऐसी गलती कर डाली कि उनका करियर ही खराब हो गया.

  • Share this:
नई दिल्ली. सहवाग की तरह आक्रामक तेवर, पहली गेंद से विरोधी गेंदबाजों पर टूट पड़ना. कर्नाटक के बल्लेबाज रॉबिन उथप्पा (Robin Uthappa) अपनी जबर्दस्त बल्लेबाजी के लिए मशहूर थे. उथप्पा के पास तकनीक भी थी और साथ ही टैलेंट भी लेकिन अचानक एक दिन वो टीम इंडिया से बाहर हो गए और उसके बाद उनकी वापसी नहीं हो सकी. अब उन्होंने एक बड़ा बयान देते हुए कहा है कि 25 साल की उम्र में उनसे ऐसी गलती हो गई थी जिसकी वजह से उनका इंटरनेशनल करियर खराब हो गया.

'तकनीकी बदलाव करने की कोशिश की'
पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज रॉबिन उथप्पा (Robin Uthappa) को लगता है कि 25 साल की उम्र में टेस्ट क्रिकेट में खेलने की महत्वाकांक्षा के कारण उन्होंने अपनी बल्लेबाजी तकनीकी में बदलाव करने की गलती की थी. उथप्पा अब 34 साल के हैं और उन्होंने भारत की तरफ से आखिरी मैच 2015 में जिम्बाब्वे के खिलाफ खेला था. उन्होंने राजस्थान रायल्स के पोडकास्ट सत्र के दौरान कहा, 'मेरा सबसे बड़ा लक्ष्य भारत के लिये टेस्ट क्रिकेट खेलना था. अगर मैं 20-21 की उम्र में ऐसी कोशिश करता तो टेस्ट क्रिकेट खेल लिया होता. मैं अपने करियर के आखिर में पछताना नहीं चाहता था और अपनी तरफ से सर्वश्रेष्ठ करना चाहता था.'

उथप्पा (Robin Uthappa) ने प्रवीण आमरे की सेवाएं ली और अपनी तकनीक में कुछ बदलाव किया लेकिन इससे उनके आक्रामक तेवर कहीं खो से गए. उन्होंने कहा, 'इसलिए मैंने 25 साल की उम्र में प्रवीण आमरे की देखरेख में अपनी बल्लेबाजी तकनीकी में बदलाव करने का फैसला किया जो तकनीकी तौर पर पहले से बेहतर बल्लेबाज हो और लंबे समय तक क्रीज पर टिककर खेल सके. इस प्रक्रिया में मैंने अपनी बल्लेबाजी की आक्रामकता खो दी.' उथप्पा ने भारत की तरफ से 46 वनडे और 13 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं. उन्होंने कहा, 'मैं सोचता था कि भारत की तरफ से टेस्ट क्रिकेट खेलने के लिये मुझे अपनी तकनीक बदलनी होगी. मुझे लगता है कि मैंने 25 साल की गलत उम्र में ऐसा करने की कोशिश की.'



बड़े मौकों पर अच्छा प्रदर्शन करते थे उथप्पा


साल 2007 में खेला गया टी20 वर्ल्ड कप हो या 2008 में ऑस्ट्रेलिया में खेली गई सीबी सीरीज, रॉबिन उथप्पा (Robin Uthappa) ने दोनों मौकों पर टीम इंडिया को अहम मैच जिताए थे. हालांकि उथप्पा अपनी प्रतिभा के मुताबिक अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सके. उन्होंने 46 वनडे मैचों में 25.94 की औसत से 934 रन बनाए, वहीं 13 टी20 में उनके बल्ले से 24.90 की औसत से 249 रन निकले. इंटरनेशनल करियर में वो एक भी शतक नहीं लगा सके. उनके बल्ले से कुल 7 अर्धशतक निकले. (भाषा के इनपुट के साथ)

मिल्खा सिंह: जिस एथलीट की उड़ान ने भारतीय युवाओं के सपनों की दी ऱफ्तार
First published: May 19, 2020, 11:03 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading