होम /न्यूज /खेल /रोहित-द्रविड़ के कार्यकाल में 9 ऐसे सवाल, जिनपर मैनेजमेंट को गौर करने की जरूरत

रोहित-द्रविड़ के कार्यकाल में 9 ऐसे सवाल, जिनपर मैनेजमेंट को गौर करने की जरूरत

कप्तान रोहित शर्मा के साथ कोच राहुल द्रविड़-AP

कप्तान रोहित शर्मा के साथ कोच राहुल द्रविड़-AP

भारतीय टीम ने हाल में ही एशिया कप टूर्नामेंट और टी20 विश्व कप हिस्सा लिया. दोनों ही जगह निराशा हाथ लगी. अगले साल 2023 म ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली: राहुल द्रविड़ के हेड कोच बनने के बाद भारतीय टीम ने एक आईसीसी इवेंट और एक एशियन लेवल टूर्नामेंट में हिस्सा लिया. दोनों ही टूर्नामेंट्स में भारतीय टीम खिताब नहीं जीत पाई. इसकके बाद कई पूर्व दिग्गज कप्तान रोहित शर्मा समेत कोच राहुल द्रविड़ को भी हटाने की बात करने लगे. अब अगले साल वनडे वर्ल्ड कप भी खेला जाना है. 2023 वनडे वर्ल्ड के लिए टीम इंडिया को अपनी कमियों में सुधार लाने की जरूरत पड़ेगी. भारत ने आखिरी बार वनडे विश्व कप 2011 में महेंद्र सिंह धोनी के नेतृत्व में जीता था. उसके बाद भारत एक भी विश्व कप जीतने में नाकामयाब रहा. इस बीच कुछ ऐसे सवाल हैं जिसपर भारतीय मैनेजमेंट को गौर करने की जरूरत है.

क्या हर फॉर्मेट में खेलने वाले खिलाड़ी की जरूरत है?
विश्व की अन्य टीमों की तरह भारत इसमें यकीन नहीं करता कि टेस्ट, वनडे और टी20 में अलग-अलग स्किल वाले खिलाड़ियों की जरूरत होती है. हमारे पास स्टार खिलाड़ी के रूप में विराट कोहली, रोहित शर्मा, श्रेयस अय्यर ऋषभ पंत, रवींद्र जडेजा और जसप्रीत बुमराह हैं, जो तीनों फॉर्मेट में खेलते हैं.

ओपनर कौन होगा?
रोहित की चोट के बावजूद केएल राहुल ने दूसरे वनडे में ओपनिंग नहीं की. इसका मतलब है कि हम उन्हें मिडिल ऑर्डर के रूप में देख रहे हैं. शिखर धवन और रोहित शर्मा ही ओपन कर सकते हैं. शिखर धवन 50 ओवर के मैच में लगातार कंसिस्टेंट रहे हैं. लेकिन विश्व कप से पहले उनकी स्ट्राइक रेट चिंता का विषय है. रोहित की फिटनेस पर भी कई सवाल हैं.

वैकल्पिक कप्तान कौन होगा?
केएल राहुल हो सकते हैं. लेकिन मौजूदा उप-कप्तान ने अभी ऐसा कोई संकेत नहीं दिया है. जिनसे उन्हें यह रोल दिया जा सके. सेलेक्टर ने हार्दिक पांड्या को न्यूजीलैंड के खिलाफ टी20 सीरीज में कप्तान बनाया था. हालांकि, वह एक सीरीज थी. हो सकता है कि वह पांड्या को लेकर श्योर हो?

गेंदबाज कौन होगा?
जब जसप्रीत बुमराह नहीं थे तो टीम इंडिया ने काफी संघर्ष किया. खासकर रोहित और द्रविड़ दूसरे विकल्प को ढूंढने में नाकाम रहे. रवि बिश्नोई को लगातार मौके नहीं मिले. युजवेंद्र चहल भी विश्व कप में नहीं खेले. आईपीएल ने टीम को अर्शदीप सिंह के रूप में बेहतरीन गेंदबाज दिया. जिन्होंने कई बार टीम को सफलता दिलाई. मैनेजमेंट ने सालों बाद मोहम्मद शमी को बुलाया. हर्षल पटेल भारतीय मैदान पर अच्छे साबित होते. लेकिन ऑस्ट्रेलिया में उन्होंने अपना आत्मविश्वास खो दिया जिसकी वजह से उन्हें बाहर कर दिया गया.

रमेश पोवार को हेड कोच के पद से हटाए जाने पर जानिए क्या बोलीं हरमनप्रीत कौर?

VIDEO: बाबर आजम ने शादाब खान को बताया था बुड्ढा, स्पिनर ने इस तरह दिया रिप्लाई

सेलेक्टर्स कहां हैं?
कुछ दिनों में भारत को एक नया चीफ सिलेक्टर मिल जाएगा. संजू सैमसन और शुभमन गिल के बेहतर प्रदर्शन के बाद भी उन्हें विश्व कप टीम में शामिल नहीं किया गया था. सूर्यकुमार यादव ने पिछले कुछ दिनों में बेहतरीन प्रदर्शन किया. इसके बावजूद उन्हें बांग्लादेश दौरे से बाहर कर दिया गया. इस तरह के सवाल समझ से परे हैं.

रोहित शर्मा और राहुल द्रविड़ की कार्यकाल में उठते प्रश्न जो हैं समझ से बाहर.
* किसने माना था कि हर्षल पटेल ऑस्ट्रेलिया में कारगर साबित होंगे?
* ऋषभ पंत और पृथ्वी शॉ को टी20 में सलामी बल्लेबाज के रूप में क्यों नहीं आजमाया गया?
*  रवि बिश्नोई को क्यों नहीं खिलाया गया?
* क्या छोटे फॉर्मेट में दीपक हुडा को संजू सैमसन से बेहतर माना जा सकता है?

Tags: BCCI, Indian team, Rahul Dravid, Rohit sharma, Team india

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें