Home /News /sports /

HBD Rusi Modi: वेस्टइंडीज के गेंदबाजों की धुनाई करने वाले पहले भारतीय क्रिकेटर थे मोदी

HBD Rusi Modi: वेस्टइंडीज के गेंदबाजों की धुनाई करने वाले पहले भारतीय क्रिकेटर थे मोदी

रूसी मोदी (Rusi Modi) का टेस्ट करियर 10 टेस्ट मैचों का रहा.

रूसी मोदी (Rusi Modi) का टेस्ट करियर 10 टेस्ट मैचों का रहा.

Happy Birthday Rusi Modi: रूसी मोदी ने 22 साल की उम्र में भारतीय टीम में जगह बनाई और जल्दी ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर छा गए. रूसी मोदी (Rusi Modi) ने 1948-49 में वेस्टइंडीज के खिलाफ (India vs West Indies) सिर्फ 5 मैच में 560 रन ठोक दिए. रणजी ट्रॉफी में भी उन्होंने कई रिकॉर्ड बनाए. वे पहले बल्लेबाज थे, जिन्होंने रणजी ट्रॉफी के एक ही सीजन में एक हजार से ज्यादा रन बना दिए थे. उनका यह रिकॉर्ड 44 साल तक कायम रहा.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. कहते हैं- ‘जिंदगी बड़ी होनी चाहिए लंबी नहीं’. क्रिकेट में यह कहावत थोड़े बदले अंदाज में सामने आती है. इस खेल में उस खिलाड़ी को ज्यादा तवज्जो मिलती है, जो टीम को जीत दिलाए या उसका रुतबा बढ़ाए, भले ही उसके रन या विकेट कम हों. अब रुस्तमजी मोदी (Rusitomji Modi) या रूसी मोदी को ही लीजिए. भारत के इस खिलाड़ी ने यूं तो महज 10 टेस्ट मैच खेले, लेकिन इस छोटे से करियर में वे भारतीय क्रिकेट पर अमिट छाप छोड़ गए. रूसी मोदी (Happy Birthday Rusi Modi) 1924 में आज ही के दिन जन्मे थे. ऐसे में उन्हें याद करने का मौका तो बनता ही है.

    रूसी मोदी (Rusi Modi) का जन्म 11 नवंबर 1924 को पारसी परिवार में हुआ. उन्होंने अपने प्रोफेशनल करियर की शुरुआत पारसीज टीम से की लेकिन जल्दी ही भारतीय टीम में भी जगह बना ली. मोदी ने 1946 में भारत के लिए पहला टेस्ट मैच खेला. उनका टेस्ट करियर 10 टेस्ट मैचों का रहा. उन्होंने इन मैचों में 46.00 की औसत से 736 रन बनाए, जिसमें 1 शतक शामिल है. लेकिन आंकड़े कभी भी पूरा सच नहीं बताते. जैसे कि मोदी के खेल के बारे में यह आंकड़े कहीं कमजोर लगते हैं.

    रूसी मोदी का सबसे बेहतरीन खेल वेस्टइंडीज के खिलाफ (India vs West Indies) 1948-49 में सामने आया. उन्होंने इस साल वेस्टइंडीज के खिलाफ 5 मैचों की टेस्ट सीरीज में 560 रन बनाए. यह इस बात का सबूत है कि उन्होंने कैरेबियाई गेंदबाजों को नाकों चने चबवाए. वेस्टइंडीज की टीम शुरुआत से ही अपनी तेज गेंदबाजी के लिए मशहूर थी. मोदी भारत के पहले बल्लेबाज थे, जिनके सामने वेस्टइंडीज के ये गेंदबाज असहाय नजर आते थे.

    रूसी मोदी ने 1949 में भारत को असंभव लगने वाली जीत दिला दी होती, अगर अंपायर ने जल्दबाजी ना की होती. वेस्टइंडीज ने इस मैच में भारत को 108 ओवर में 361 रन का लक्ष्य दिया था, जो उन दिनों असंभव जैसा ही था. भारत ने लक्ष्य का पीछा करते हुए 9 रन पर दो विकेट गंवा दिए. जब हार सामने थी, तब मोदी ने 86 रन की बेशकीमती पारी खेली. उनकी पारी की बदौलत भारत जीत की दहलीज पर आ खड़ा हुआ. जब भारत को जीत के लिए 6 रन चाहिए थे, तब मैच में डेढ़ मिनट बाकी थे, लेकिन अंपायर को लगा कि समय समाप्त हो गया है और उन्होंने बेल्स गिरा दीं. इस तरह भारत के हाथ से ऐसी जीत फिसल गई, जिस पर पीढ़ियां गर्व कर सकती थीं.

    यह भी पढ़ें: HBD Sanju Samson: पिता ने छोड़ी पुलिस की नौकरी, राहुल द्रविड़ की कप्तानी में खेल चुके हैं संजू

    यह भी पढ़ें: HBD Robin Uthappa: सिर्फ 13 टी20 खेले, फिर भी टीम इंडिया को दिलाया T20 वर्ल्ड कप का खिताब

    रूसी मोदी का इंटरनेशनल करियर भले ही छोटा रहा, लेकिन उन्होंने रणजी ट्रॉफी में अनेक रिकॉर्ड बनाए. जैसे कि वे पहले बल्लेबाज थे, जिन्होंने रणजी ट्रॉफी के एक सीजन (1944-45) में एक हजार से अधिक रन बनाए. उनका यह रिकॉर्ड 44 साल तक कायम रहा. भारत के इस लाडले क्रिकेटर का 1996 में 71 साल की उम्र में निधन हो गया.

    Tags: Cricket news, IND vs WI, India vs west indies, On This Day, Rusi Modi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर