Home /News /sports /

Controversy: सचिन ने दोहरा शतक पूरा ना करने देने पर कप्तान द्रविड़ को सुनाई थी खरी-खरी

Controversy: सचिन ने दोहरा शतक पूरा ना करने देने पर कप्तान द्रविड़ को सुनाई थी खरी-खरी

सचिन तेंदुलकर जब 2004 में पाकिस्तान के खिलाफ  194 रन पर खेल रहे थे, तब पारी घोषित कर दी गई थी. (फाइल फोटो)

सचिन तेंदुलकर जब 2004 में पाकिस्तान के खिलाफ 194 रन पर खेल रहे थे, तब पारी घोषित कर दी गई थी. (फाइल फोटो)

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) आज अपना जन्मदिन मना रहे हैं. उनके नाम क्रिकेट के सैकड़ों रिकॉर्ड हैं. इनमें 100 इंटरनेशनल शतक लगाना शामिल है.

    नई दिल्ली. सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) को उनके प्रशंसक क्रिकेट का भगवान कहते हैं. शतकों का शतक बनाने वाला इस खिलाड़ी का इंटरनेशनल करियर 24 साल से अधिक रहा. उनके करियर के दौरान ही ‘मैच फिक्सिंग’ जैसे बड़े-बड़े विवाद आए, जिन्होंने क्रिकेट की सूरत ही बदल दी. लेकिन सचिन तेंदुलकर इन सबसे परे बस खेलते रहे. सचिन को क्रिकेट का भगवान बनाने में खेल के अलावा उनके व्यवहार का अहम रोल है. शायद ही किसी ने उन्हें कभी गुस्से में देखा हो. हालांकि, ऐसा नहीं था कि वे गुस्सा नहीं करते थे. सचिन के गुस्से की एक ऐसी ही कहानी है, जब उन्होंने अपने कप्तान राहुल द्रविड़ को ही खरी-खरी सुना दी थी.

    बात 2004 की है. भारतीय टीम पाकिस्तान (IndiavsPakistan) दौरे पर थी. सीरीज का पहला टेस्ट मैच मुल्तान में खेला गया, जिसमें वीरेंद्र सहवाग ने 309 रन ठोक दिए. सचिन ने भी शानदार शतक लगाया, लेकिन पारी समाप्ति की घोषणा के कारण वे दोहरा शतक पूरा नहीं कर पाए. कप्तान राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने जब पारी घोषित की तो सचिन तेंदुलकर 194 रन पर नाबाद थे. संजय मांजरेकर जैसे पूर्व क्रिकेटरों ने राहुल के फैसले को साहसिक करार दिया. लेकिन सचिन के प्रशंसकों का साफ कहना था कि राहुल का फैसला गलत था. यदि सचिन को दोहरा शतक पूरा करने दिया जाता तो मैच के नतीजे में शायद ही कोई फर्क पड़ता.

    पारी घोषित करने में तुक नजर नहीं आ रहा था
    सचिन तेंदुलकर ने भी अपना गुस्सा नहीं छुपाया. उन्होंने इस बात का जिक्र अपनी ऑटोबायग्राफी प्लेइंग इट माय वे (Playing It My Way) में किया है. सचिन लिखते हैं, ‘पारी घोषित होने से मैं सदमे में था क्योंकि इसमें कोई तुक नजर नहीं आ रहा था. निराश और नाराज मानसिकता के साथ मैं ड्रेसिंग रूम पहुंचा. मैंने काफी देर तक बैटिंग की थी. इसलिए कोच जॉन राइट से कुछ देर आराम करने के बाद फील्डिंग के लिए जाने की अनुमति मांगी. उन्होंने हां कर दिया. इसके बाद टीम फील्डिंग करने उतर गई.’

    राइट ने माफी मांगी, गांगुली ने अफसोस जताया
    सचिन आगे लिखते हैं, ‘मैं कुछ देर बाद बाथरूम में चेहरा धो रहा था. तभी जॉन राइट आए. वे माफी मांगने लगे. उन्होंने कहा कि इस फैसले में उनका हाथ नहीं था.’ इस मैच में टीम के नियमित कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) चोट के कारण नहीं खेल रहे थे. सचिन के मुताबिक, ‘जॉन के बाद सौरव मेरे पास आए. उन्होंने कहा कि जो हुआ, उस पर उन्हें बहुत अफसोस है. सौरव ने यह भी कहा कि पारी घोषित करना उनका फैसला नहीं है.’

    अगली सुबह बात करने आए द्रविड़
    सचिन तेंदुलकर बताते हैं, ‘अगली सुबह राहुल मेरे पास आए. राहुले ने मुझसे कहा कि उन्होंने सुना है कि मैं विचलित हूं. मैंने कहा कि यह सही है और इसे छिपाने का कोई तुक नहीं है. मैंने उनसे पूछा कि जो योजना बनी थी, उसके मुताबिक हमें एक ओवर और बैटिंग करनी थी, फिर पहले पारी घोषित क्यों की गई. उन्होंने कहा कि यह टीम हित में लिया गया फैसला है. हम जीत के लिए खेल रहे हैं.’

    सचिन ने द्रविड़ को याद दिलाया सिडनी टेस्ट
    सचिन के मुताबिक उन्होंने राहुल द्रविड़ को ऐसे ही एक मैच की याद दिलाई, जब कप्तान सौरव गांगुली पारी घोषित करना चाह रहे थे और मैदान पर संदेश भेज रहे थे, लेकिन वे खुद बैटिंग करते रहे. सचिन लिखते हैं, ‘मैंने राहुल से कहा कि वे जो फौलादी संकल्प अभी दिखा रहे हैं, अगर उन्होंने सिडनी टेस्ट में भी ऐसा किया होता तो शायद रिजल्ट कुछ और होता. राहुल ने इस पर कुछ नहीं कहा और बस यही बोले कि तुम्हें दोहरा शतक बनाने के और मौके मिलेंगे. इस पर मैंने असहमत होकर कहा कि ऐसा नहीं होगा. तब मुझे शून्य से शुरू करना होगा, ना कि मैं अपनी पारी 194 से शुरू करूंगा.’

    क्या था सारा मामला
    भारत मुल्तान टेस्ट के दूसरे दिन टीब्रेक के समय 4 विकेट पर 588 रन बना चुका था. सचिन 165 और युवराज सिंह 11 रन पर नाबाद थे. सचिन तेंदुलकर की किताब के मुताबिक, ‘टीब्रेक के दौरान टीम मीटिंग में फैसला हुआ था कि पाकिस्तान को कम से कम एक घंटे बैटिंग करने का मौका देना है. इसलिए जब दिन में 15 ओवर का खेल बचेगा तब पारी घोषित की जाएगी. लेकिन टीब्रेक के बाद अभी आधे घंटे ही बीते थे कि 12वें खिलाड़ी रमेश पोवार आए और हमसे तेज खेलने को कहा. जब मैं 194 रन पर था, तब पोवार फिर आए और कहा कि मुझे इसी ओवर में दोहरा शतक पूरा करना चाहिए. मैं हैरान था क्योंकि मेरे हिसाब से हमें अभी दो ओवर खेलने थे, जिसमें मुझे छह रन बना लेने थे. खैर ऐसा नहीं हुआ. जिस ओवर में मुझे दोहरा शतक पूरा करने को कहा गया था, उसकी पहली चार गेंदें युवराज ने खेलीं और पांचवीं में वे आउट हो गए. इसके साथ ही पारी समाप्ति की घोषणा कर दी गई.’ भारत ने यह मैच पारी व 51 रन के अंतर से जीता था.

    यह भी पढ़ें:

    जब सचिन को महंगा पड़ा फास्ट फूड खाना, गुजारनी पड़ी रिश्तेदार के घर रात


    अखबार में नाम छापने के लिए सचिन के खाते में जोड़े एक्स्ट्रा रन, पूरा किस्सा...undefined

    Tags: Cricket news, Happy B'day Sachin, IndiavsPakistan, INDvsPAK, Playing It My Way, Rahul Dravid, Sachin B’Day, Sachin tendulkar, Sachin Tendulkar 194 run, Sachin Tendulkar B’Day, Sachin Tendulkar Controversy, Sourav Ganguly, Sports news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर