सचिन को सबसे ज्यादा परेशान करती थी दिग्गज खिलाड़ी की गेंदें, जिंदगी का हुआ दर्दनाक अंत

हैंसी क्रोन्‍ये ने टेस्‍ट क्रिकेट में 5 बार सचिन तेंदुलकर को आउट किया था  (फोटो-सचिन ट्विटर)

हैंसी क्रोन्‍ये ने टेस्‍ट क्रिकेट में 5 बार सचिन तेंदुलकर को आउट किया था (फोटो-सचिन ट्विटर)

दिग्‍गज खिलाड़ी ने 32 वनडे में सचिन तेंदुलकर को 3 बार आउट किया, मगर 11 टेस्‍ट में 5 बार आउट किया. सचिन ने खुद स्‍वीकार किया था कि उन्‍हें इस दिग्‍गज खिलाड़ी की गेंदें परेशान करती थी

  • Share this:

नई दिल्‍ली. गुजरे जमाने में शायद ही दुनिया का ऐसा कोई गेंदबाज रहा हो, जो भारत के महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के मन में अपना खौफ बनाने में सफल हो पाया हो. जिसने भी सचिन के सामने ऐसी कोशिश की, भारतीय बल्‍लेबाज ने उस गेंदबाज की उतनी ही ज्‍यादा धुनाई की. सचिन ने अपने 24 साल के लंबे इंटरनेशनल करियर में ग्‍लेन मैक्‍ग्रा, शेन वॉर्न, वसीम अकरम, कर्टनी वॉल्‍श जैसे गेंदबाजों का सामना किया, मगर उन्‍हें ये सब गेंदबाज भी परेशान नहीं कर पाए. सचिन तेंदुलकर को सबसे ज्‍यादा साउथ अफ्रीका के खिलाड़ी की गेंदें परेशान करती थी.

उन्‍होंने कुछ साल पहले एक समिट में खुलासा किया था कि पूर्व साउथ अफ्रीकी कप्‍तान हैंसी क्रोन्ये का सामना करने में उन्‍हें परेशानी होती थी. क्रोन्ये ने 32 वनडे में सचिन को 3 बार आउट किया, मगर 11 टेस्‍ट में 5 बार आउट किया. हैंसी क्रोन्ये का करियर भले ही काफी छोटा रहा हो, मगर उन्‍होंने इसी में दुनिया के धाकड़ बल्‍लेबाजों को अपनी खेल का दम दिखा दिया था.

जून 2002 को एक विमान हादसे में 32 साल के हैंसी क्रोन्ये ने दुनिया को अलविदा कह दिया.  (फाइल फोटो)

 मौत का रहस्‍य : हालंकि मैच फिक्सिंग ने उनका करियर खत्‍म कर दिया था और फिर एक प्‍लेन क्रैश में आज से ठीक 19 साल पहले उनकी मौत हो गई थी, जो आज भी किसी रहस्‍य से कम नहीं लगती. दरअसल आज से करीब 21 साल पहले क्रिकेट जगत में उस समय भूचाल आ गया था, जब हैंसी क्रोन्ये जैसा बड़ा नाम फिक्सिंग के मामले में सामने आया. उन्‍होंने सट्टेबाजों को जानकारी देने और मैच फिक्सिंग की बात भी कबूल कर ली थी. उस समय कई और भी नाम सामने आए और इससे पूरा क्रिकेट जगत हिल गया था. इस मामले के दो साल बाद 1 जून 2002 को एक विमान हादसे में 32 साल के क्रोन्ये ने दुनिया को अलविदा कह दिया.
जिस खिलाड़ी को ऋषभ पंत ने नहीं दिया मौका, वो चुना गया साउथ अफ्रीका का बेस्ट क्रिकेटर

सुबह 3 बजे का खेल:  क्रिकेट में धब्‍बा लगने के बाद क्रोन्ये ने बिजनेस में खुद को आजमाया. उन्‍होंने बिजनेस लीडरशिप में मास्‍टर डिग्री हासिल की और वह दूसरी पारी की शुरुआत करने की तैयारी कर ही रहे थे कि 2002 में उन्‍होंने दुनिया को अलविदा कह दिया. क्रोन्‍ये ने साउथ अफ्रीका की तरफ से 68 टेस्‍ट और 188 वनडे मैच खेले. उन्‍होंने 53 टेस्‍ट मैचों में साउथ अफ्रीका की कप्‍तानी की. क्रिकेट की दुनिया में क्रोन्ये का नाम काफी बड़ा था, साउथ अफ्रीका क्रिकेट बोर्ड के एमडी अली बेचर को भी क्रोन्ये की ईनामदारी पर पूरा भरोसा था, मगर आरोप लगने के चार दिन बाद क्रोन्‍ये ने सुबह 3 बजे फोन करके उन्‍हें कहा कि वो पूरी तरह ईमानदार नहीं थे.

असगर अफगान से छिनी अफगानिस्तान की कप्तानी, दोहरा शतक ठोकने वाले बल्लेबाज को जिम्मेदारी



मौत की भविष्‍यवाणी : कुछ साल पहले बीसीसी को दिए इंटरव्‍यू में क्रोन्‍ये के बड़े भाई फ्रांस ने खुलासा किया था कि क्रोन्‍ये ने अपनी मौत एक दशक पहले ही देख ली थी. क्रोन्‍ये ने एक बार कहा था कि हम लोग क्रिकेट के लिए काफी सफर करते हैं. कभी बस से तो कभी विमान से. अब लगता है कि मेरी मौत एक प्‍लेन क्रैश में होगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज