स्टुअर्ट ब्रॉड की वापसी का इंतजार कर रहे हैं सचिन, ट्वीट करके कही बड़ी बात

स्टुअर्ट ब्रॉड की वापसी का इंतजार कर रहे हैं सचिन, ट्वीट करके कही बड़ी बात
सचिन तेंदुलकर को ब्रॉड से अच्छे प्रदर्शन की है उम्मीद

पहले टेस्ट में कप्तान रहे बेन स्टोक्स (Ben Stokes) ने ब्रॉड (Stuart Broad) को बाहर रखने के अपने फैसले का बचाव किया था

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 18, 2020, 11:47 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. इंग्लैंड (England) और वेस्टइंडीज (West Indies) के बीच खेले गए पहले टेस्ट मैच के दौरान तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड (Stuart Broad) को मौका नहीं दिया गया था जिसके बाद वह काफी नाराज हो गए थे. हालांकि दूसरे टेस्ट में उन्हें टीम में शामिल किया गया है और सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) का मानना है कि ब्रॉड (Stuart Broad) खुद को एक बार फिर साबित करने के लिए तैयार हैं और वह बेहतर प्रदर्शन करेंगे. मैच के दूसरे दिन सचिन ने ब्रॉड के लिए ट्वीट भी किया.

सचिन तेंदुलकर ने ब्रॉड के लिए किया ट्वीट
सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'स्टुअर्ट ब्रॉड की चाल में एक आत्मविश्वास दिखाई दे रहा है, मुझे लग रहा है कि वह फील्ड पर उतरेंगे और खुद को साबित करेंगे.' फैंस ने भी उनकी बात पर हामी भरते हुए उम्मीद जताई कि उनकी बात सही साबित होगी. मैच में अब तक इंग्लैंड की बल्लेबाजी जारी है लेकिन सचिन के साथ फैंस भी ब्रॉड की वापसी देखना चाहते हैं.

टीम से बाहर होने के कारण नाराज थे ब्रॉड
पहले टेस्ट में टीम से बाहर होने के बाद ब्रॉड ने स्काई स्पोर्ट्स के कार्यक्रम में कहा, ‘मुझे इसके बारे में मैच से एक दिन पहले शाम छह बजे पता चला जब स्टोक्स ने कहा कि वे इन परिस्थितियों में एक अतिरिक्त तेज गेंदबाज के साथ उतरेंगे.’ उन्होंने कहा, ‘मैं निराश, क्रोधित और हतोत्साहित हो गया हूं, क्योंकि यह फैसला समझना काफी मुश्किल है. मैंने शायद पिछले दो वर्षों में सबसे अच्छी गेंदबाजी की है. मुझे ऐसा लगा मानो एशेज और दक्षिण अफ्रीका में जीत के समय मेरी जगह टीम में मेरी शर्ट थी.’



अजहरुद्दीन की पत्नी संगीता बिजलानी के कारण फैन से लड़ने पहुंच गए थे इंजमाम! जानिए पूरा मामला

स्टोक्स ने अपने फैसले का किया था बचाव
हालांकि स्टोक्स को मैच हारने के बाद भी अपने इस फैसले पर कोई खेद नहीं था. उन्होंने अपने फैसले का बचाव करते हुए कहा था, '‘स्टुअर्ट का इंटरव्यू शानदार था. जिस खिलाड़ी ने 100 से अधिक टेस्ट मैच खेले हों और ढेर सारे विकेट लिये हो उसकी तरह की भावना और खेलने की तीव्र इच्छा लाजवाब है. , ‘जहां तक चयन की बात है तो अगर हम इस पर खेद व्यक्त करते हैं तो इससे उन खिलाड़ियों के पास अच्छा संदेश नहीं जाएगा जो इस मैच में खेले थे. हमने वह फैसला किया जो इस खेल में आगे हमारे लिये फायदेमंद हो सकता है’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज