2011 CWC: सचिन तेंदुलकर ने याद किया जीत का जश्न, तब पठान-कोहली से की थी खास गुजारिश

भारत ने 2 अप्रैल 2011 को फाइनल में श्रीलंका को हराकर दूसरी बार वर्ल्‍ड कप जीता था. (Suresh Raina/Twitter)

भारत ने 2 अप्रैल 2011 को फाइनल में श्रीलंका को हराकर दूसरी बार वर्ल्‍ड कप जीता था. (Suresh Raina/Twitter)

महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की कप्तानी में भारतीय क्रिकेट टीम ने 2011 में विश्व कप(2011 World Cup) जीता था. भारत 28 साल बाद वनडे का विश्व चैम्पियन बना था. सचिन तेंदुलकर ने जीत के जश्न से जुड़े उस खास लम्हे का खुलासा किया है, जब विराट कोहली और युसूफ पठान ने उन्हें कंधों पर उठा लिया था.

  • Share this:

नई दिल्ली. टीम इंडिया की 2011 विश्व कप की जीत आज भी फैंस के जहन में ताजा है. भारत 28 साल बाद विश्व चैम्पियन बना था. कई खिलाड़ियों के लिए ये लम्हा और भी खास था. क्योंकि उनका ये आखिरी वर्ल्ड कप था. इसी में से एक थे सचिन तेंदुलकर. तेंदुलकर ने दो दशकों तक भारतीय क्रिकेट का परचम बुलंद किया. इस दौरान उन्होंने कई कीर्तिमान बनाए. लेकिन विश्व कप जीतने का उनका सपना अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू करने के 22 साल बाद पूरा हुआ. इसलिए उनके लिए ये जीत स्पेशल थी. साथी खिलाड़ियों ने भी सचिन के लिए इसे खास बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी.

विश्व कप के फाइनल में भारत की जीत के बाद विराट कोहली, सुरेश रैना और युसूफ पठान ने सचिन को अपने कंधों पर उठा लिया था. हाल ही में यू ट्यूब के एक शो में तेंदुलकर ने उस ऐतिहासिक लम्हे को याद किया और तब उन्होंने कोहली और पठान से जो कहा था उसका खुलासा किया. सचिन ने बताया कि विश्व कप जीतने के बाद विराट औऱ युसूफ ने मुझे कंधों पर बैठा लिया था. मुझे आज भी याद है कि तब मैंने दोनों से ये कहा था कि मुझे गिरा मत देना. ये विश्व कप सिर्फ हमने नहीं जीता था, बल्कि ये पूरे देश की जीत थी. सबने मिलकर इस सपने को साकार किया था.

विश्व कप जीतना सबसे यादगार लम्हा: सचिन

सचिन ने आगे कहा कि जब मैंने 1983 में कपिल देव को विश्व कप उठाते देखा था, तो मेरे लिए वो कभी न भुला पाने वाला अनुभव था. मैंने अपने दोस्तों के साथ उस कामयाबी का जश्न मनाया था. मैं भी देश के लिए विश्व कप जीतना चाहता था. मैंने तब ये फैसला किया था जो भी हो. मैं विश्व कप जीतने के अपने सपने का पीछा करता रहूंगा. मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में जो हुआ वो अविश्वसनीय था. ये मेरे करियर का अच्छा दिन था. कितनी बार ऐसा होता है, जब देश एकसाथ जश्न मनाता है. बहुत कम ऐसी चीजें होती हैं, जिस पर पूरा देश जश्न मनाता है. विश्व कप जीत भी इसी में से एक थी.
यह भी पढ़ें : बांग्‍लादेश का दौरा करेगी टीम इंडिया, दोनों के बीच खेले जाएंगे 2 टेस्‍ट और 3 वनडे मैचों की सीरीज

यह भी पढ़ें: भारत के खिलाफ सीरीज से पहले श्रीलंका के खिलाड़ियों ने दी संन्यास की धमकी!

इस विश्व कप में सचिन ने अपने कद के अनुरूप प्रदर्शन किया था. वो टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले भारतीय बल्लेबाज थे. उन्होंने 9 मैच में 53 से ज्यादा की औसत से कुल 482 रन बनाए थे. उन्होंने दो शतक और दो अर्धशतक लगाए थे. रन बनाने के मामले में श्रीलंका के तिलकरत्ने दिलशान ही सचिन से आगे थे. उन्होंने टूर्नामेंट में 500 रन बनाए थे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज