• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • CRICKET SACHIN TENDULKAR SAYS AGE SHOULD NOT BE A CRITERIA FOR TEAM SELECTION

सचिन तेंदुलकर ने कहा- खिलाड़ियों के चयन के लिए काबिलियत जरूरी, उम्र कोई आधार नहीं

सचिन की कप्तानी इंडिया लीजेंड्स की टीम रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज के फाइनल में पहुंच गई है. (News18 Hindi)

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने कहा कि खिलाड़ियाें का चयन उनकी काबिलियत के आधार पर होना चाहिए. उम्र का इससे कोई लेना-देना नहीं है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने टीम इंडिया में खिलाड़ियों के चयन को लेकर बड़ी बात कही है. उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों का चयन काबिलियत के आधार पर होना चाहिए, ना की उम्र के आधार पर. सबसे बड़ा काम यही है कि बेस्ट प्लेइंग-11 चुनी जाए. सचिन अभी रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज (Road Safety World Series) में इंडिया लीजेंड्स की कप्तानी कर रहे हैं. इंडिया लीजेंड्स की टीम फाइनल में पहुंच चुकी है. फाइनल 21 मार्च को खेला जाएगा.

    सचिन तेंदुलकर ने कहा, ‘एक बात मैं साफ करना चाहूंगा कि बात केवल युवा खिलाड़ियों को चुनने की नहीं है. बात काबिल खिलाड़ियों की है. आप भारतीय क्रिकेट टीम की बात कर रहे हैं तो उम्र कोई योग्यता नहीं होती. केवल प्रदर्शन की बात होनी चाहिए.’ उन्होंने कहा कि यह गलत धारणा है कि आपको युवाओं को आगे बढ़ाना चाहिए. मुझे लगता है कि हमें बेस्ट-11 के लिए खिलाड़ी चुनने चाहिए. आईपीएल में मुंबई इंडियंस के लिए खेलने वाले सूर्यकुमार यादव और ईशान किशन ने इंग्लैंड के खिलाफ मौजूदा टी20 सीरीज में शानदार पारी खेली हैं. दोनों ने अपनी पहली पारी में अर्धशतक लगाया.

    यह भी पढ़ें: IND vs ENG: सूर्यकुमार यादव ने कहा मुझे पता था कि आर्चर नए बल्लेबाज को कैसी गेंद फेंकते हैं

    यह भी पढ़ें: IND vs ENG: भारत जीता तो इंग्लैंड के विजय रथ पर लगेगा ब्रेक, तीन साल से टी20 सीरीज नहीं हारा

    आईपीएल से खिलाड़ियाें को मिला है फायदा

    सचिन तेंदुलकर ने सूर्यकुमार और ईशान की सफलता का श्रेय आईपीएल को दिया. उन्होंने कहा, ‘हां, सूर्यकुमार और ईशान दोनों इंटरनेशनल लेवल पर खेलने के लिए तैयार हैं. क्योंकि आईपीएल से खिलाड़ियों को मदद मिली है. वे लीग में दुनिया के सभी अच्छे गेंदबाजों का सामना करते हैं. हमारे समय में ऐसा नहीं था.’ सचिन ने कहा कि जब मैं ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान गया, तब वहां के गेंदबाजों का सामना कर सका. लेकिन आज खिलाड़ी आईपीएल में पहले ही बड़े गेंदबाजों को सामना कर लेते हैं. फिर टीम इंडिया की ओर से उन्हें खेलते हैं. यह आज हमारे क्रिकेट में बड़ा अंतर आया है और इस कारण हमारी बेंच स्ट्रेंथ मजबूत हुई है.
    Published by:Anand Brat Shukla
    First published: