खराब समय में पृथ्वी शॉ की मदद के लिए आगे आए थे सचिन, पर क्रिकेट को लेकर नहीं की बात!

खराब समय में  पृथ्वी शॉ की मदद के लिए आगे आए थे सचिन, पर क्रिकेट को लेकर नहीं की बात!
राहुल द्रविड़ के जूनियर टीम के कोच बनते ही युवा खिलाड़ियों का उत्साह बढ़ा और उन्हें खेल की बारीकियां सीखने को मिली. पृथ्वी शॉ और शुभमन गिल जैसे खिलाड़ी राहुल द्रविड़ से ट्रेनिंग लेकर ही टीम इंडिया में आए हैं.

पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) और सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) दोनों ही मुंबई की ओर से खेलते हैं

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. भारत के दिग्गज क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर भले ही रिटायरमेंट ले चुके हो लेकिन वह अब भी इस खेल से जुड़े हुए हैं. सचिन लगातारयुवा खिलाड़ियों का मार्गदर्शन करते रहते हैं. युवा सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) ने कहा कि मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने उनके साथ कई बार बातचीत की है जिसमें वह तकनीकी पहलुओं के बजाय बल्लेबाजी के मानसिक पहलुओं पर ज्यादा जोर देते हैं.

आठ साल की उम्र से सचिन कर रहे हैं शॉ को गाइड
शॉ ने अपने नियोक्ता ‘ इंडियन ऑयल’ के साथ इंस्टाग्राम पर बातचीत के सत्र में कहा, ‘‘मैं सचिन सर से जब पहली बार मिला था तब आठ साल का था और उसी समय से वह मेरे मार्गदर्शक है. मैंने उनसे मैदान के अंदर और बाहर के अनुशासन के अलावा और भी बहुत सी चीजें सीखी हैं.’

शॉ को इस बात की बेहद ही खुशी है कि तेंदुलकर अब भी अपने व्यस्त कार्यक्रम में से समय निकालकर अभ्यास करते हैं. वेस्टइंडीज के खिलाफ राजकोट में अपने पदार्पण टेस्ट में शतक लगाने वाले शॉ ने कहा, ‘जब भी मैं अभ्यास करता हूं और सचिन सर वहां रहते है तो वह मुझे तकनीकी पहलू की जगह मानसिक पहलू के बारे में बताते हैं. सचिन सर और कई दूसरे कोचों की देखरेख में मेरा अब तक का सफर शानदार रहा है.’



करियर की शानदार शुरुआत के बाद शॉ ऑस्ट्रेलिया दौरे पर चोटिल होने के बाद टीम से बाहर हो गये थे. इसके बाद डोपिंग मामले में फंसने के कारण उन पर प्रतिबंध लगाया गया था. हाल ही में, तेंदुलकर ने पीटीआई के साथ एक साक्षात्कार में कहा था कि उन्होंने शॉ से मैदान के बाहर और अंदर के चीजों के बारे में बात की.



पृथ्वी की मदद करके खुश हैं सचिन
सचिन तेंदुलकर ने शॉ से बातचीत कर उनके करियर को सही दिशा में ले जाने में मदद की. तेंदुलकर ने कुछ दिन पहले कहा था, 'हां, यह सच है कि पिछले कुछ वर्षों में पृथ्वी से मेरी कई बार बात हुई है. वह बहुत प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं और मैं उनकी मदद करके खुश हूं. मैंने उनसे क्रिकेट और इस खेल से बाहर की जिंदगी के बारे में बात की है.'

इस महान खिलाड़ी ने कहा, 'मेरा मानना है कि अगर किसी युवा ने मुझसे संपर्क किया है और मार्गदर्शन मांगा है तो कम से कम मेरी ओर से गोपनीयता बरकरार रहनी चाहिए. ऐसे में मैं आपको यह नहीं बताना चाहूंगा कि किस मुद्दे पर बातचीत हुई थी.'

 
First published: May 25, 2020, 7:48 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading