सहवाग के लिए सचिन तेंदुलकर ने किया था त्याग, ओपनिंग छोड़ चौथे नंबर पर करने लगे थे बल्लेबाजी

सहवाग के लिए सचिन तेंदुलकर ने किया था त्याग, ओपनिंग छोड़ चौथे नंबर पर करने लगे थे बल्लेबाजी
सचिन तेंदुलकर ने सहवाग के लिए किया था त्याग

वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) ने सलामी बल्लेबाज के तौर पर कई रिकॉर्ड पारियां खेली और भारत को जीत दिलाई

  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्व भारतीय कप्तान और अब बीसीसीआई अध्यक्ष बन चुके सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) को  ऐसे फैसले लेने के लिए जाना जाता है जिन्होंने भारतीय क्रिकेट में बड़े बदलाव किए. पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) से ओपनिंग कराना भी उसी में शामिल था. हालांकि टीम के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज अजय रत्रा (Ajay Ratra) का मानना है कि इसका श्रेय सिर्फ गांगुली को ही नहीं जाता बल्कि दिग्गज सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) को भी जाता है.

सचिन को जाता है सहवाग से ओपनिंग कराने का श्रेय
हिंदुस्तान टाइम्स
से बातचीत में रात्रा ने बताया कि जब सहवाग को वनडे में ओपनिंग देने की बात चल रही थी तब सचिन उस जगह अच्छा प्रदर्शन कर रहे थे. इसके बावजूद सचिन ने ओपनिंग की जगह चौथे नंबर बल्लेबाजी करने की पेशकश की जिसके बाद सहवाग ने सौरव गांगुली के साथ ओपनिंग की. रात्रा ने कहा, 'सचिन बतौर ओपनर कमाल का प्रदर्शन कर रहे थे लेकिन सहवाग को ओपनिंग करनी थी. सचिन ने दादा से कहा कि वह चौथे नंबर बल्लेबाजी कर लेंगे ताकी टीम को सलामी बल्लेबाजों के तौर पर दाएं-बाएं के संयोजन की जोड़ी मिल सके. अगर सचिन इसके लिए तैयार नहीं होते को सहवाग को निचले ऑर्डर में बल्लेबाजी करनी पड़ती. अगर उन्हें ओपनिंग का मौका नहीं मिलता तो शायद उनके करियर की काहनी कुछ और होती.'

ट्राइ सीरीज में सहवाग को मिला ओपनिंग का मौका
साल 2001 में न्यूजीलैंड और श्रीलंका के खिलाफ ट्राई सीरीज में तेंदुलकर चोट के चलते हिस्सा नहीं ले पाए थे. शुरुआती मैच में उनकी जगह युवराज सिंह और अमय कुरासिया को जगह देने का विचार फ्लॉप साबित हुआ था. न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज के तीसरे मैच में गांगुली ने सहवाग को पहली बार ओपनिंग के लिए भेजा. सहवाग ने 54 हेंगों में 33 रन बनाए और भारत यह मैच हार गया. इसके दो मैचों बाद ही उन्होंने 70 गेंदों में शतक लगाकर टीम को जीत दिलाई.



महान गेंदबाज वकार यूनुस ने पाकिस्तान के गेंदबाजों को सरेआम कह दिया था धोखेबाज, जानिए क्यों

सचिन ने की थी चौथे नंबर बल्लेबाजी करने की पेशकश
हालांकि इस सीरीज के बाद सचिन की वापसी के बाद सहवाग फिर मीडिल ऑर्डर में लौट गए. टीम को जरूरत थी कि ओपनिंग जोड़ी में एक लेफ्ट हैंडर और एक राइड हैंडर बल्लेबाज रहे. सहवाग को जगह देने के लिए सचिन को ओपनिंग छोड़नी पड़ी और वह बिना किसी के बोले ही तैयार हो गए. साल 2011 से 2007 के बीच 19 बार सचिन चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने गए ताकी सहवाग को ओपनिंग का मौक मिल सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading