Home /News /sports /

B'day Special: 2007 में संन्यास लेने वाले थे सचिन, पर दूर देश से आए फोन ने सब कुछ बदल दिया

B'day Special: 2007 में संन्यास लेने वाले थे सचिन, पर दूर देश से आए फोन ने सब कुछ बदल दिया

सचिन तेंदुलकर के नाम किसी एक वर्ल्‍ड कप में सबसे ज्‍यादा  673 रन बनाने का रिकॉर्ड है

सचिन तेंदुलकर के नाम किसी एक वर्ल्‍ड कप में सबसे ज्‍यादा 673 रन बनाने का रिकॉर्ड है

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) आज अपना 48वां जन्मदिन मना रहे हैं. उनके नाम क्रिकेट के सैकड़ों रिकॉर्ड हैं. हालांकि, 2007 में खराब प्रदर्शन के बाद वे संन्यास के बारे में सोचने लगे थे. लेकिन एक फोन ने उन्हें ऐसा करने से रोक दिया.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) उस खिलाड़ी का नाम है, जिसे प्रशंसक भगवान का दर्जा देते हैं. सैकड़ों रिकॉर्ड बनाने वाले सचिन ने हर वो कामयाबी हासिल की, जो किसी क्रिकेटर का सपना हो सकता है. उनकी उपलब्धियों के सामने एवरेस्ट भी बौना लगने लगता है. लेकिन ऐसा भी नहीं है कि 24 साल के करियर में कामयाबी हर पल उनके कदम चूमती रही थी. सचिन के करियर में कम से कम तीन ऐसे मौके आए, जब उन्हें संन्यास लेने की सलाह देने वाले बेहद आक्रामक नजर आते थे. एकबारगी तो उन्हें एंडुलकर भी कहा जाने लगा था. सचिन भी हताश होने लगे थे. उन्होंने संन्यास का मन बना लिया था. लेकिन दूर देश से आए एक फोन ने उनका निर्णय बदलवा दिया.

    बात 2007 की है. यह साल सचिन तेंदुलकर के करियर के लिए बेहद खराब साबित हुआ. इसी साल वेस्टइंडीज में आईसीसी वनडे वर्ल्ड कप खेला गया, जिसमें बांग्लादेश और श्रीलंका से हारकर भारत पहले ही राउंड में बाहर हो गया. टीम इंडिया स्वदेश लौटी तो उसका स्वागत प्रशंसकों से ज्यादा आलोचकों ने किया. हारने पर टीम की आलोचना तो ठीक थी, लेकिन खिलाड़ियों के प्रतिबद्धता पर ही सवाल उठाए जाने लगे. उन्हें गद्दार की तरह पेश किया जाने लगा.

    सचिन तेंदुलकर अपनी ऑटोबायग्राफी ‘प्लेइंग इट माय वे’ में लिखते हैं, ‘कुल मिलाकर 2007 के विश्व कप के बाद मेरी मनोदशा बहुत खराब थी. मैं अपने खेल का जरा भी आनंद नहीं ले रहा था और रिटायरमेंट के बारे में सोचने लगा था. तभी मुझे विव रिचर्ड्स (Viv Richards) के उत्साहवर्धक शब्द सुनने को मिले. उन्होंने वेस्टइंडीज से मुझे फोन किया और हमने करीब 45 मिनट तक बात की. उन्होंने कहा कि मुझमें बहुत क्रिकेट बाकी है. इसलिए मुझे खेल छोड़ने के बारे में सोचना भी नहीं चाहिए.’

    सचिन बहुत बार बता चुके हैं कि उनके क्रिकेट में दो आदर्श रहे हैं. सुनील गावस्कर और विवियन रिचर्डस (Vivian Richards). शायद यही वजह है कि वे गावस्कर की तरह टिककर देर तक खेलना जानते थे और उन्हें रिचर्डस की तरह आक्रामक बैटिंग करना भी आता था. सचिन अपनी किताब में कहते हैं, ‘जब मैं बड़ा हो रहा था तो विव मेरे हीरो थे और हमेशा रहेंगे. वे मेरे साथ छोटे भाई जैसा बर्ताव करते हैं. इसलिए जब उन्होंने मुझे फोन करके खेलते रहने को कहा तो इसका मेरे लिए बड़ा महत्व था. मैंने खेलना जारी रखा और 2008 में सिडनी में सिडनी में शतक लगाकर फॉर्म में लौट आया.’

    क्रिकेट प्रेमी जानते हैं कि सचिन तेंदुलकर के नाम इस खेल के सैकड़ों रिकॉर्ड हैं. इनमें 49 वनडे और 51 टेस्ट शतक लगाना शामिल हैं. वे 200 टेस्ट मैच खेलने वाले एकमात्र क्रिकेटर हैं. सबसे अधिक 463 वनडे मैच खेलने का रिकॉर्ड भी उनके नाम है. उन्होंने एक टी20 मैच भी खेला है. इस तरह सचिन के नाम 664 इंटरनेशनल मैच खेलने का रिकॉर्ड है. उन्होंने इन मैचों में 34,357 रन बनाए हैं. दुनिया का कोई और क्रिकेटर 30 हजार रन का आंकड़ा नहीं छू सका है.

    यह भी पढ़ें: 

    Controversy: सचिन ने दोहरा शतक पूरा ना करने देने पर कप्तान को सुनाई थी खरी-खरी

    जब सचिन को महंगा पड़ा फास्ट फूड खाना, गुजारनी पड़ी रिश्तेदार के घर रातundefined

    Tags: Cricket news, Happy B'day Sachin, Playing It My Way, Sachin B’Day, Sachin tendulkar, Sachin Tendulkar B’Day, Sachin Tendulkar Controversy, Sachin Tendulkar Quit, Sports news, Viv Richards, Vivian richards

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर